विज्ञापन

मुन्ना, लालव्रत के बाद अब रामबली को कमान

Sonbhadra Updated Sat, 02 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सोनभद्र। लगातार यूपी और बिहार पुलिस के हाथों मात खा रहे नक्सली किसी बड़े वारदात को अंजाम देकर अपनी घट रही साख को पूरा करने में जुट गए हैं। यूपी पुलिस के हत्थे तीन खूंखार नक्सलियों के चढ़ने के बाद नक्सली खेमे में हड़कंप मच गया है। गुरुवार को पड़ोसी बिहार राज्य के रोहतास जनपद में नक्सलियों के आकाओं ने बैठक कर दुर्दांत नक्सली रामबली को संगठन मजबूत करने की जिम्मेदारी दी है। संगठन को मजबूत बनाने के लिए बेरोजगार युवाओं को गुमराह करने की योजना तैयार हो गई है।
विज्ञापन

गौरतलब है कि चोपन थाना क्षेत्र के कनच कन्हौरा जंगल में 24 मई को एसपी के नेतृत्व में पुलिसकर्मियों ने मुठभेड़ के दौरान तीन लाख के इनामी दुर्दांत नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा और पचास हजार के इनामी अजीत कोल को गिरफ्तार कर नक्सलियों को तगड़ा झटका दिया। नक्सलियों के आका संगठन को मजबूत बनाने की योजना तैयार करने में जुटे ही थे कि पुलिस ने एक लाख के इनामी नक्सली लालव्रत को पकड़ कर यूपी से नक्सलियों का लगभग सफाया कर दिया।
सूत्रों की मानें तो गुरुवार की देर रात बार्डर से सटे रोहतास जनपद के चिऊटिया थाना क्षेत्र के जंगल में नक्सलियों के आकाओं के नेतृत्व में दर्जन भर नक्सलियों की बैठक हुई। बैठक में सर्वसम्मति से दुर्दांत नक्सली मुन्ना विश्वकर्मा और लालव्रत के गिरफ्तार होने के बाद उनके जगह पर खूंखार नक्सली रामबली खरवार को संगठन मजबूत करने की जिम्मेदारी दी गई। सूत्रों की बातों पर यकीन करें तो संगठन के आकाओं नेे साथियों को बेरोजगारों को धन देकर संगठन से जोड़ने का निर्देश दिया है। ऐसे में सीमावर्ती इलाकों में नक्सली अपने मूवमेंट को मजबूत बनाने के लिए प्रवेश कर सकते हैं। एसपी सुभाष चंद्र दुबे का कहना है कि हर वक्त जवान नक्सलियों से मोर्चा लेने के लिए तैयार हैं। नक्सलियों की परछाई तक जिले में प्रवेश नहीं कर सकेगी। उन्होंने जनता से अपील की है कि किसी प्रकार की समस्याएं होने पर तत्काल पुलिस को अवगत कराएं। उनकी समस्याओं का समाधान होगा।
इनसेट
पुलिसकर्मियों की हत्या के लिए बनी थी तीन टीमें
सोनभद्र। पुलिस न्यायालय के आदेश पर हार्डकोर नक्सली लालव्रत को रिमांड पर लेकर पूछताछ कर रही है। शुक्रवार को पूछताछ के दौरान दुर्दांत नक्सली लालव्रत ने मिर्जापुर जिले के खोराडीह गांव में स्थित लूटे गए पीएसी कैंप और चंदौली जिले के हिनौत जंगल में पीएसी गाड़ी उड़ाने व वनकर्मियों की हत्या के बारे में अहम जानकारी दी है। सूत्रों की मानें तो लालव्रत ने बताया कि हिनौत कांड के लिए तीस सदस्यीय तीन टीम गठित की गई थी। प्रथम टीम का कार्य वाहन को उड़ाना, द्वितीय टीम का काम पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार कर असलहा लूटना और तीसरे की जिम्मेदारी घटनास्थल पर जाने वालों को रोकना था।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us