सीएए के विरोध में पथराव, तोडफ़ोड़ के बाद पुलिस ने लाठीचार्ज कर संभाले हालात

Lucknow Bureauलखनऊ ब्यूरो Updated Sat, 21 Dec 2019 12:09 AM IST
विज्ञापन
सीतापुर के सिटी स्टेशन पर सीएए के विरोध में प्रदर्शन करते लोग।
सीतापुर के सिटी स्टेशन पर सीएए के विरोध में प्रदर्शन करते लोग। - फोटो : SITAPUR

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
लहरपुर (सीतापुर)। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में शुक्रवार की दोपहर इलाके में जमकर प्रदर्शन और नारेबाजी हुई। प्रदर्शनकारियों ने केंद्र सरकार के इस फैसले पर कड़ा ऐतराज जताया फिर तोड़फोड़ व पत्थरबाजी शुरू कर दी।
विज्ञापन

उपद्रवियों ने प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की होर्डिंग्स फाड़ते हुए तहसील में खूब उत्पात मचाया। पथराव में एक व्यक्ति जख्मी हो गया। हालात बेकाबू होते देख पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। उपद्रव की सूचना पर डीएम अखिलेश तिवारी, एसपी एसआर कुमार ने भारी पुलिस बल के साथ रूट मार्च करते हुए शांति बनाए रखने की अपील की।
बवाल के बाद अघोषित कर्फ्यू सरीखे हालात बन गए। देर शाम पुलिस ने 30 नामजद व 400 अज्ञात उपद्रवियों के विरुद्ध केस दर्ज किया है। वहीं, घायल व्यक्ति के अलावा बार एसोसिएशन के सचिव ने अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ पथराव व तोड़फोड़ का केस दर्ज कराया है। नगर में ऐहतियात के तौर पर सुबह से ही भारी पुलिस बल मुस्तैद था।
जुमे की नमाज के बाद मस्जिदों से निकलकर मुसलमानों ने सीएए के विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी। हाथों में सरकार विरोधी नारे लिखी तख्तियां लिए भारी संख्या में प्रदर्शनकारी शहर बाजार से मजाशह चौराहे की ओर बढ़ने लगे। तनाव देख कुछ बुद्धिजीवियों ने प्रदर्शनकारियों को समझाने का प्रयास किया लेकिन भीड़ ने एक नहीं सुनीं और नारेबाजी करते हुए मजाशाह चौराहा पहुंच गए।
यहां फौव्वारे पर लगी प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री की होर्डिग्स तोड़कर सड़क जाम करते हुए प्रदर्शन किया। पुलिस को यहां से इन्हें हटाने के लिए करीब डेढ़ घंटे तक मशक्कत करनी पड़ी। यहां से उपद्रवी बिसवां चौराहे पहुंचे और तोड़फोड़ व पथराव शुरू कर दिया। पथराव में ठइेरी टोला निवासी भोला जख्मी हो गया।
पुलिस के खदेड़ने पर भीड़ ने तहसील व रामलीला मैदान पहुंचकर तोड़फोड़ शुरू कर दी। पुलिस को हालात बेकाबू होते देख लाठीचार्ज करनी पड़ी। लाठीचार्ज के बाद भीड़ तितर-बितर हो गई। बवाल की खबर मिलते ही डीएम अखिलेश तिवारी व एसपी एलआर कुमार ने यहां पहुंचकर मोर्चा संभाला।
पुलिस बल के साथ नगर में रूट मार्च करते हुए शांति व्यवस्था बनाए रखने और घरों से बाहर नहीं निकलने की अपील प्रशासन द्वारा की गई। इसके बाद नगर में अघोषित कर्फ्यू सरीखा माहौल बन गया। देर शाम कोतवाली प्रभारी अनिल पांडेय की ओर से 30 नामजद व 400 अज्ञात उपद्रवियों के विरुद्ध केस दर्ज किया है।
वहीं, घायल भोला ने सैकड़ों अज्ञात उपद्रवियों तथा बार एसोसिएशन के सचिव जितेन्द्र सिंह ने एक हजार अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ पथराव व सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का केस दर्ज कराया है। बवाल के बाद से नगर में तनाव है। हालांकि पुलिस बल की मुस्तैदी से हालात फिलहाल सामान्य हैं।
लहरपुर में प्रदर्शन कर रही भीड़ समझाने पर नहीं मानी और पथराव तथा तोड़फोड़ शुरू कर दी। जिस पर बल प्रयोग करते हुए खदेड़ा गया। बवाल करने वालों के विरुद्ध केस दर्ज किया जा रहा है। उपद्रवियों को चिन्हित करते हुए उनकी गिरफ्तारी की जाएगी। लहरपुर स्थिति अब सामान्य है।
-एलआर कुमार, पुलिस अधीक्षक
पुलिस-प्रशासन की सूझबूझ से टल गया बवाल
सीतापुर/खैराबाद। सीएए के विरोध की चिंगारी शुक्रवार की दोपहर पुराने सीतापुर और खैराबाद में भी भड़क उठी। प्रदर्शन के मकसद से सैकड़ों की संख्या में भीड़ जुट गई। हालांकि पुलिस व प्रशासन के अफसरों ने काफी मशक्कत के बाद किसी तरह समझा-बुझाकर भीड़ को शांत किया। जिससे प्रदर्शन और बवाल टल गया।
शहर में जुमे की नमाज के बाद सिटी स्टेशन के सामने सैकड़ों की भीड़ जुट गई और सीएए के विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी। हंगामा बढ़ता इससे पहले सीओ सिटी योगेन्द्र सिंह ने पहुंचकर प्रदर्शनकारियों से वार्ता की। काफी देर तक समझाने के बाद प्रदर्शनकारी शांत हुए। हालांकि पुराने सीतापुर में ऐहतियात के तौर पर सुबह से ही भारी पुलिस बल तैनात था।
वहीं, खैराबाद में भी सीएए के विरोध में प्रदर्शन व बवाल का प्रयास किया गया। खैराबाद में जुमे की नमाज के बाद भीड़ बड़े मखदूम साहब की दरगाह परिसर के मैदान में भीड़ जमा होने लगी। भीड़ जुटती देख दरगाह के मौलवी शोएब मियां ने लाउड स्पीकर से प्रदर्शन नहीं करने को कहा। इसके बाद भीड़ ने कस्बाती टोला पहुंचकर नारेबाजी शुरू कर दी।
तहसीलदार सदर संजय यादव ने भीड़ को समझाते हुए मांगो का ज्ञापन देने की बात कही। प्रदर्शन कारियों ने जब तहसीलदार की बात अनसुनी कर दी तब पुलिस को लाठी फटकारते हुए उन्हें खदेडना पड़ा। तनाव देखते हुए देर शाम तक कस्बे में पुलिस बल मुस्तैद रहा। इससे पहले दुकानें बंद करा रहे दो लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया था।
नमाज के बाद बंद कराई दुकानें, तीन हिरासत में
बिसंवा। सीएए के विरोध में जुमे की नमाज के बाद कुछ शरारती तत्वों ने दुकानें बंद करानी शुरू कर दीं। जानकारी मिलते ही पहुंची पुलिस ने तीन लोगों को हिरासत में ले लिया। तब हालात सामान्य हुए। इसी बीच डीएम व एसपी ने पहुंचकर भारी पुलिस बल के साथ संवेदनशील माने जाने वाले जोशी टोला मोहल्ले का भ्रमण कर शांति व्यवस्था बनाए रखने की अपील नागरिकों से की।
डीएम-एसपी ने कंकड़ वाली मस्जिद पहुंचकर ईदगाह के इमाम मौलाना इकबाल और डा. शाहिद इकबाल से वार्ता कर शांति व्यवस्था कायम रखने में सहयोग मांगा। उन्होंने पूर्ण सहयोग का आश्वासन दिया। एसडीएम सुरेश कुमार, सीओ समर बहादुर नगर में भ्रमण कर लोगों को समझाते रहे।
महमूदाबाद में भी दिन भर मुस्तैद रहे अफसर
महमूदाबाद। सीएए के संभावित विरोध प्रदर्शन को लेकर स्थानीय पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी सुबह से ही सतर्क नजर आए। एसडीएम, सीओ व कोतवाल वाहनों का काफिला लेकर सायरन बजाते हुए पूरे नगर में मार्च करते रहे। दोपहर करीब 12 बजे एडीएम विनय पाठक व एएसपी एमपी सिंह ने पहुंचकर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया।
अफसरों की टीम ने जामा मस्जिद पहुंचकर नमाजियों से सौहार्द बनाए रखने की अपील की। शांति सुरक्षा व्यवस्था के लिए पुलिस व प्रशासन की टीमें क्षेत्र के पैंतेपुर, नूरपुर, सदरपु, रामपुर मथुरा, बांसुरा, बहादुरगंज, बाबूपुर, सरैंया, सिरौली बाजार व बिलौली बाजार में गश्त करती रही।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us