कलक्ट्रेट कर्मी भी आंदोलन में कूदे, कामकाज ठप

Sitapur Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
सीतापुर। पदोन्नति में आरक्षण संशोधन बिल के विरोध में सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के आह्वान पर शनिवार को दूसरे दिन भी सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर रहे। शनिवार को कलक्ट्रेट कर्मी भी आंदोलन में कूद पड़े। कार्य बहिष्कार के बाद हड़ताली कर्मचारियों ने एकजुट होकर विकास भवन प्रांगण में प्रदर्शन किया। बाद में कर्मचारियों ने लालबाग चौराहे तक जुलूस निकालकर केंद्र सरकार विरोधी नारे लगाये। कर्मचारी यूनियनों ने सोमवार को भी कार्य बहिष्कार करने का ऐलान किया है।
प्रमोशन में आरक्षण देने संबंधी बिल को वापस लेने की मांग को लेकर शुरू हुए प्रदर्शन में दूसरे दिन कलक्ट्रेट कर्मचारी संघ भी शामिल हो गया। शनिवार को वाणिज्य कर विभाग व लोक निर्माण विभाग, प्रांतीय खंड के कर्मचारी विकास भवन परिसर में एकत्रित हुए। यहां हुई सभा में विकास भवन कर्मचारी संघ के अध्यक्ष वीपी सिंह ने कहा कि केंद्र द्वारा संविधान में किया जा रहा संशोधन गलत है। वरिष्ठ कर्मचारी पदोन्नति न मिलने पर कुंठित होकर कार्य करेंगे, जिससे जनता को नुकसान होगा। सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के जिला संयोजक आलोक मिश्र ने कहा कि आरक्षण की नीति से युवाओं को आगे आने का मौका नहीं मिलेगा। चंद्रभानु सक्सेना ने कहा कि आरक्षण लागू होने से 80 फीसदी कर्मचारियों को नुकसान पहुंचेगा। उधर, वाणिज्य कर विभाग के केके अवस्थी ने विभाग में हुई सभा में कहा कि केंद्रीय कैबिनेट द्वारा आरक्षण की राजनीति कर आम कर्मचारियों में द्वेष की भावना पैदा की जा रही है। बाद में कर्मचारियों ने कलक्ट्रेट परिसर, तहसील, आंख अस्पताल से जुलूस निकाला। जुलूस के लालबाग चौराहे पहुंचने पर कर्मचारियों ने केंद्र सरकार विरोधी नारे लगाये। बाद में कलक्ट्रेट परिसर पहुंचकर सभी कर्मचारियों से सोमवार को तालाबंदी कर प्रदर्शन करने का आह्वान किया। इस दौरान विकास भवन कर्मचारी संघ के रमाकांत मिश्रा, डीपी शुक्ला, सीपी वर्मा, जितेंद्र मेहरोत्रा, नजीब अहमद, राजीव शुक्ला, विकास कश्यप, रमेश कश्यप, उदय श्रीवास्तव, धर्मप्रकाश मिश्रा, सुधीर कुमार, हरीशचंद्र यादव, जयप्रकाश वर्मा, अनिल कुमार, मो. सलीम, श्याम किशोर, राममूर्ति गुप्ता, हरेश कुमार रस्तोगी, शकील अहमद, सर्वेश मिश्रा, हरेश वर्मा, केके तिवारी, मनीष शुक्ला, संजय सक्सेना, रामजी शुक्ल, खलील अहमद, निर्मल अवस्थी, विपिन बिहारी यादव समेत सैकड़ों कर्मचारी मौजूद रहे।

अधिकारी नदारद, भटकते रहे फरियादी
केंद्र सरकार के प्रोन्नति में आरक्षण के फैसले के विरोध में विकास भवन के सभी विभागों में कर्मचारी हड़ताल पर रहे। इससे कार्यालयों में कार्य बाधित रहा। वहीं मौके का फायदा उठाकर अधिकारी भी अपने कार्यालयों से नदारद रहे। विकास भवन में अधिकांश विभाग के अधिकारियों के कक्ष बंद मिले। ऐसे में फरियादी भटकते नजर आये। कई फरियादी हड़ताल होने के कारण घर वापस लौट गये, तो कई घंटोें विकास भवन के बाहर बैठकर इंतजार करते दिखे।

कर्मचारियों में होने लगा भेदभाव
रक्षण का लाभ पाने वाले कर्मचारी कार्यालयों में काम करते दिखाई दिये। हड़ताल के दूसरे दिन भी सरकारी दफ्तरों में बिल का समर्थन कर रहे कर्मचारी फाइलों में व्यस्त नजर आये। जिला अर्थ एवं संख्या अधिकारी व भूमि संरक्षण के कार्यालय में आरक्षित वर्ग के कर्मचारी काम करते मिले। वहीं समाज कल्याण विभाग के दफ्तर में अधिकांश कर्मचारी फाइलें निपटाते देखे गए। यहां पर फरियादियों की भीड़ भी लगी हुई थी, जबकि यहीं केे कुछ अन्य कर्मचारी कार्य बहिष्कार कर विकास भवन के समक्ष प्रदर्शन कर रहे थे। कई विभागों में ऐसा नजारा दिखा।

सोमवार को कर्मचारी करेंगे तालाबंदी
सर्वजन हिताय संरक्षण समिति के आह्वान पर विभिन्न कर्मचारी संगठनों ने सोमवार को भी हड़ताल पर रहने का फैसला लिया है। सोमवार को हड़ताल में विकास भवन कर्मचारी संघ, मिनिस्टीरियल फेडरेशन संघ, चिकित्सा विभाग, राजकीय चालक संघ, राज्य कर्मचारी कल्याण संयुक्त परिषद, कलक्ट्रेट कर्मचारी संघ, कोषागार संघ, व्यापार कर संघ, तहसील संघ, डिप्लोमा इंजीनियर्स संघ समेत कई अन्य कर्मचारी संगठन शामिल होंगे। सर्वजन हिताय समिति के जिला संयोजक आलोक मिश्र ने बताया कि सभी कर्मचारी संघ के नेता अपने-अपने विभागों में तालाबंदी करेंगे।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO : बच्चियों को ट्रेन से फेंकनेवाले दरिंदे पिता ने बताई पूरी वारदात

बीते साल अक्टूबर में चलती ट्रेन से अपनी बच्चियों के फेंकनेवाले हत्यारे पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस और मीडिया के सामने इद्दू अंसारी ने बताया कि उसने पूरी वारदात को शराब के नशे में अंजाम दिया।

17 जनवरी 2018