50 लाख का नकली तंबाकू बरामद

Sitapur Updated Sun, 02 Dec 2012 05:30 AM IST
सीतापुर। शहर कोतवाली पुलिस ने शनिवार को आठ कारोबारियों के यहां छापा मारकर करीब पचास लाख रुपये का नकली जर्दा बरामद किया है। पुलिस ने यह कामयाबी दिल्ली की एक डिटेक्टिव ग्रुप की सूचना पर पाई है। छापे में ब्रांडेड जर्दा कंपनियों के नकली रैपर व खाली डिब्बे भी मिले हैं।
जर्दा बनाने वाली कुछ ब्रांडेड कंपनियों को जिले में कंपनी के नाम पर नकली माल बेचने की शिकायतें मिल रहीं थी। इस पर कंपनी प्रबंधन ने दिल्ली की एक निजी डिटेक्टिव ग्रुप को जांच के निर्देश दिए थे। टीम पिछले एक माह से जिले में ठहरी हुई थी। टीम ने जांच के बाद शहर कोतवाली पुलिस को नकली जर्दा बनाकर बेचने वाले गिरोह की खबर दी। इस पर पुलिस टीम ने शनिवार को शहर के आठ कारोबारियों के यहां एक साथ छापा मारा। पुलिस ने शहर के प्रहलाद, चोखराम महेंद्र कुमार, शंकर, राकेश, प्रदीप, विनय अग्रवाल, पवन अग्रवाल व नारायण के यहां से भारी मात्रा में ब्रांडेड जर्दा कंपनियों के डिब्बे व पैकिंग कर रखी गई नकली तंबाकू बरामद की है। पुलिस अधिकारियों के मुताबिक बरामद माल की कीमत करीब पचास लाख रुपये है। यहां मिले कुछ डिब्बों पर फर्जी फोटो लगे मिले हैं। कुछ डिब्बों में नकली तंबाकू भी भरी हुई थी। इन डिब्बों को ब्रांडेड कंपनियों के तय रेट से काफी कम दामों में बेचा जा रहा था। पुलिस ने पकड़ी गई तंबाकू व अन्य सामान को सील कर कोतवाली पहुंचाया। साथ ही डिटेक्टिव ग्रुप के अधिकारियों की तहरीर पर मुकदमा भी दर्ज कर लिया है। इंस्पेक्टर विनय गौतम ने बताया कि डिटेक्टिव ग्रुप की तहरीर पर आठों फर्मों के लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। इन लोगों पर कॉपी राइट एक्ट के तहत भी मामला दर्ज हुआ है।

एक माह तक ग्रुप ने की जांच
तंबाकू बाजार में चल रही इस हाईप्रोफाइल मिलावटखोरी का पर्दाफाश करने के लिए दिल्ली के डिटेक्टिव ग्रुप ने काफी मशक्कत की। ग्रुप के जांच अधिकारी हृदय नारायण ने बताया कि उनकी टीम एक माह तक सीतापुर में रेकी करती रही। जब टीम ने तंबाकू फर्जीवाड़े की पुख्ता जानकारी जुटा ली तब पुलिस से संपर्क किया।

150 कंपनियों के लिए काम करता है ग्रुप
ग्रुप के अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई के रिटायर्ड अफसर एसके मजूमदार की देखरेख में डिटेक्टिव ग्रुप काम कर रहा है। यह टीम देश की 150 नामचीन कंपनियों के लिए काम करती है। कंपनियों द्वारा इस ग्रुप को जानकारी दी जाती है कि कुछ लोग कंपनी के नाम का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं। जिसके बाद योजनाबद्ध तरीके से काम किया जाता है। जांच अधिकारी विजय शुक्ला ने बताया कि दो जर्दा कंपनियों ने उन्हें जानकारी दी थी कि उनकी कंपनियों के नाम पर फर्जीवाड़ा किया जा रहा है। इसके बाद टीम ने जांच शुरू की।

150 का माल 50 में बेचते थे
पुलिस के मुताबिक बरामद तंबाकू प्रिंट रेट से काफी कम दामों पर ही बेच दी जाती थी। बताया कि व्यापारियों द्वारा जर्दा के 150 रुपये प्रति डिब्बे बिकने वाली तंबाकू को 50 रुपये में ही बेच दिया जाता था। इसके अलावा व्यापारी ग्राहक देखकर अपने हिसाब से जर्दा का रेट तय करते थे।

ग्राहक बनकर आए थे टीम के सदस्य
तंबाकू में चल रही मिलावटखोरी का पर्दाफाश करने के लिए डिक्टेटिव टीम के लोग ग्राहक बनकर आए थे। जांच अधिकारी विजय शुक्ला ने बताया कि पहले वह लोग शहर में व्यापारियों केपास ग्राहक बनकर गए। यहां बिक रहा कंपनियों का जर्दा खरीदा। इसके बाद उसके पैकिंग की जांच कराई। पैकिंग में नकली जर्दा होने की आशंका पर दिल्ली की एक लैब में जांच कराई गई। जांच में पता चला कि इन कंपनियों की पैकिंग ही फर्जी नहीं है, बल्कि डिब्बों में भरकर बेची जा रही तंबाकू भी नकली है।

यह कहते हैं चिकित्सक
फिजीशियन डॉ. डी लाल ने बताया कि तंबाकू का सेवन शरीर के लिए बेहद नुकसानदायक होता है। तंबाकू के सेवन से मुख कैंसर, हार्ट, आंख, फेफड़ों व किडनी के रोग हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक नकली तंबाकू की बात है तो उसमें किस प्रकार के केमिकल डाले गए हैं और उसे बनाने में कौन से पदार्थ इस्तेमाल किए गए हैं, इस पर निर्भर करता है। फिर भी नकली पदार्थ से तैयार तंबाकू पेट के लिए बेहद खतरनाक है।


शनिवार को खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन टीम द्वारा कोई छापामार कार्रवाई नहीं की गई है। जानकारी मिली है कि नकली तंबाकू पकड़ी गई है। यह सीधे तौर पर पुलिस केस है। यदि कोई किसी ब्रांड के नाम पर तंबाकू बेचता है तो वह कॉपी राइट एक्ट के तहत है। कॉपी राइट एक्ट के नियम कानून अलग होते हैं।
कौशलेंद्र शर्मा, मुख्य खाद्य सुरक्षाअधिकारी

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO : बच्चियों को ट्रेन से फेंकनेवाले दरिंदे पिता ने बताई पूरी वारदात

बीते साल अक्टूबर में चलती ट्रेन से अपनी बच्चियों के फेंकनेवाले हत्यारे पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस और मीडिया के सामने इद्दू अंसारी ने बताया कि उसने पूरी वारदात को शराब के नशे में अंजाम दिया।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper