नहर का पानी घटा पर मुश्किलें बढ़ीं

Sitapur Updated Tue, 16 Oct 2012 12:00 PM IST
लहरपुर (सीतापुर)। शारदा नहर का पानी उतरने के बाद चपेट में आए गांवों में अब तबाही नजर आने लगी है। नहर के पानी ने न सिर्फ ग्रामीणों को अपने आशियाने छोड़ने को मजबूर किया, बल्कि सैकड़ों कच्चे मकानों को भी मिट्टी के ढेर में तब्दील कर दिया है। नहर के पानी की गिरफ्त में आए इलाके के दस गांवों में करीब डेढ़ सौ कच्चे आशियाने नष्ट हो गए हैं। नहर के पानी द्वारा मचाई गई तबाही के बाद जिन गांवों में पानी कम हुआ है, वहां पर ग्रामीण अब अपने आशियानों को पुन: संजोने में जुट गए हैं, लोग इस तबाही को देखकर सहमे हुए भी नजर आए।
लहरपुर क्षेत्र में बिसवां मार्ग पर शारदा सहायक पोषक नहर की पटरियां रविवार की सुबह कट गईं थीं। इससे करीब 55 हजार घन मीटर पानी निकला था, जिसने आस-पड़ोस के 12 गांवों में जमकर तबाही मचाई थी। अब इन गांवों से पानी निकलना शुरू हो गया है। इससे करीब एक सैकड़ा घर गिर गये हैं। घरों के गिरने से वहां मौजूद सारा सामान भी नष्ट हो गया। पानी के बहाव के साथ कई घरों का सामान भी बह गया। पानी उतरने के बाद नहर विभाग ने गांवों में हुए नुकसान का निरीक्षण कराना शुरू किया है। अब तक पानी से प्रभावित पांच गांवों का निरीक्षण हो चुका है। इन गांवों में अब तक करीब 93 कच्चे घरों के गिरने की सूची तैयार हो गई है। सर्वाधिक तबाही मदारापुर में देखने को मिली है, इस गांव के 44 घर पानी की चपेट में आकर गिर गये। इसके अतिरिक्त अलबटनपुर में 09, अंदेशनगर में 11, गिरगिटपुर मजरा पूरनपुर तांबेसरांय में 15, नेरिया मजरा परसिया में 12 घर नहर के पानी की भेंट चढ़ गए हैं। जबकि खरौंदापुरवा, पूरनपुर, पांडेय सरांय, अरवा लालपुर, जामिन नगर, मरचरिनपुर, जमलापुर, बसंतीपुर में अभी सर्वे किया जाना बाकी है, हालांकि अनुमान लगाया जा रहा है कि पानी में भीगकर ढहे कच्चे की मकानों की संख्या बढ़कर 150 तक पहुंच सकती है। वहीं क्षेत्र के कई पक्के घर भी पानी की तेज लहरों के कारण कमजोर पड़ गये हैं। ग्राम अलबटनपुर में कई पक्के घरों की नींव उधड़ने लगी है। जिन लोगों के घर गिर चुके हैं, उन लोगों ने अपने घरों से मलबा निकालना शुरू कर दिया है। ये ग्रामीण हिम्मत जुटाकर अपने घरों की मरम्मत का प्रयास कर रहे हैं।


इनके ढहे आशियाने
अलबटनपुर : गजोधर, हरेश, रामू, महादेव, चंद्र भाल, राम प्रसाद, हीरा लाल, राम नरेश व केशव राम।
अंदेश नगर : छत्रपाल, फूल चंद्र, संकटा, मिश्री लाल, गंगा राम, झब्बू, बालक, तेज पाल, कल्लू, जगन्नाथ व शांति।
मदारापुर : जामिन, अमीन अली, शकील, तौफीक, जब्बार, जलील, शोहराब, शमशाद, मुमताज, ईदी, छोटन्न, अजीमुल्ला, गफ्फार, फैय्याज, खलील, अनीस, दहेली, शरीफ, इलियास, अली शेर, हसमत, अल्ताफ, अजमेरी, शमीम, अच्छन, जुबेर, रहीस, जाकिर, यासीन, कलीम, तसव्वर, जाबिर, रशीद, इम्तियाज, रहूफ, संबारी, हफीज, फरमान, शमशुल, एजाज, शम्मे, मतीउल्ला, हमीद।
नेरिया मजरा परसिया : मनोहर, राज, नन्हे, सीता राम, मुरली लाल, राजेश, प्रहलाद, जय करन लाल, कुन्हू, रामू, छोटे लाल, छोटकन्न, श्याम लाल।
गिरगिटपुर मजरा पूरनपुर पांडेय सरायं : जय शंकर, अशोक, प्रमोद, विनोद, राजेंद्र, हरेश, मंगली, राम खिलावन, शरीफे, राम किशुन, राम विलास, सरजू, बदलू, शिव शंकर व दशरथ।

इन गांवों में घुसा पानी
अलबटनपुर, खरौंदापुरवा, अंदेश नगर, मदारापुरवा, पूरनपुर, पांडेय सरांय, अरवा लालपुर, गिरगिटपुर, जामिन नगर, मरचरिनपुर, जमलापुर, बसंतीपुर।

माइनर कटी, फसलें जलमगभन
हरपुर (सीतापुर)। लहरपुर तहसील के कंजा गांव के समीप सोमवार को माइनर कट गई। इससे क्षेत्र की सैकड़ों बीघा धान व गन्ने की फसल जलमग्न हो गई। सूचना पर पहुंचे नहर विभाग के कर्मचारी मिट्टी से भरी बोरियों से कटान को रोकने में जुट गए। मालूम हो कि लहरपुर तहसील के अलबटनपुर गांव के समीप शारदा नहर अचानक कट गई थी। नहर कटान के बाद रविवार देर रात कंजा माइनर में भी पानी का जलस्तर बढ़ गया था। पानी में बढ़ोतरी होने पर सोमवार को सुबह एकाएक माइनर कट गई। माइनर कटने से उसका पानी आस-पड़ोस के अलावा दूर-दराज इलाकों में भी फैल गया। इससे धान और गन्ने की फसलें पूरी तरह से जलमग्न हो गई थीं। माइनर कटने की जानकारी होने पर ग्रामीणों ने विभाग को इसकी सूचना दी। सूचना पाकर मौके पर पहुंचे कर्मचारियों द्वारा मिट्टी से भरी बोरियों की ठोकरें लगाकर कटान रोका गया।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

पंजाब: कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने दिया इस्तीफा

पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। राणा गुरजीत ऊर्जा एवं सिंचाई विभाग के मंत्री थे।

16 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी में कम नहीं हो रहा क्राइम ग्राफ, नहर में पड़े मिले दो लड़कियों के शव

यूपी में सरकार बदले काफी समय हो चुका है। सूबे की नई सरकार भले ही दावा करती हो कि सब कुछ नियंत्रण में है, लेकिन हर रोज हो रही  हत्याएं कुछ और बयां करती हैं। इस बार सीतापुर के हरगांव इलाके में दो लड़कियों के शव शारदा सहायक नहर में पड़े मिले हैं।

15 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper