कोनी गांव का भी अस्तित्व खतरे में

Sitapur Updated Fri, 21 Sep 2012 12:00 PM IST
सीतापुर। कुदरत की मार झेल रहे रेउसा विकास खंड के कोनी गांव में घाघरा नदी का कहर फिर शुरू हो गया है। नदी के उफनाने से क्षेत्र के ग्राम महंतपुरवा का अस्तित्व पहले ही खत्म हो चुका है। अब नदी के पानी ने कोनी गांव को आगोश में ले लिया है। इससे इसके अस्तित्व पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं।
गांजर क्षेत्र में घाघरा, शारदा और चौका का जलस्तर लगातार बढ़ रहा है। गुरुवार को चौका नदी खतरे के निशान से 35 सेमी ऊपर और घाघरा नदी पंद्रह सेमी ऊपर बह रही थी। जलस्तर बढ़ने से दर्जनों गांव के लोग सहमे हुए हैं। गांवों में पानी भर गया है। एक दर्जन गांवों में नाव का संचालन शुरू हो गया है। सैकड़ों बीघा फसल जलमग्न हो गयी है। कटान प्रभावित लोग खुले आसमान के नीचे सड़कों के किनारे डेरा जमाए हुए हैं। इस साल घाघरा के उफान में रेउसा ब्लाक के कोनी गांव के उत्तरी छोर पर बसे 74 कच्चे मकान बह गए। इस गांव के करीब 600 लोग निकटवर्ती ग्राम फौजदारपुरवा के बाहर बरसाती तानकर जीवन यापन कर रहे हैं। अब इस गांव दक्षिणी छोर पर केवल 20 घर ही शेष हैं। यही घर इस गांव के अस्तित्व को बचाएं हुए हैं।
इस ब्लाक के महंतपुरवा गांव के सभी 49 कच्चे व पक्के मकान घाघरा के पानी में कट कर बह चुके हैं। इस गांव का अस्तित्व पूरी तरह से खत्म हो चुका है। गांव के लोगों को फिलहाल कोनी बंधा और जंगल पटरी गांव में बसाया गया है। कोनी गांव के प्रधान श्याम सुंदर का कहना है कि बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए प्रशासनिक स्तर पर जो सहायता दी जा रही है वह पर्याप्त नहीं है। पीड़ितों के सामने रोजी रोटी का संकट आ खड़ा हुआ है।

गोमती का जलस्तर बढ़ा
सीतापुर। बैराजों से लगातार पानी डिस्चार्ज किए जाने के बाद भी चौक ा, घाघरा व सरायन नदी के जलस्तर में पिछले चौबीस घंटों के दौरान गिरावट दर्ज की गई है, जबकि गोमती नदी के जलस्तर में 11 सेमी की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। पिछले चौबीस घंटों के दौरान सीतापुर जिले में बारिश नहीं हुई है। गुरुवार को गोमती नदी के जलस्तर में 11 सेमी की वृद्धि दर्ज की गई। अब इसका जलस्तर 119.11 मीटर पर पहुंच गया है। इसके अलावा सरायन नदी का जलस्तर 127.90 मीटर रिकार्ड किया गया। इस नदी के जलस्तर में पिछले चौबीस घंटों के दौरान दस सेंटी मीटर की कमी दर्ज की गई है। कनरखी गांव के निकट चौका नदी और अंगरौरा गांव के निकट घाघरा नदी केे जलस्तर में भी बीते चौबीस घंटों के दौरान दस-दस सेमी की कमी आई है। गुरुवार को चौका का जलस्तर 119.35 एवं घाघरा का जलस्तर 119.15 मीटर रिकार्ड किया गया। चौका नदी पर बने महमूदाबाद बांध के जलस्तर में कोई बदलाव नहीं आया है। इसका जलस्तर अभी भी 116.60 मीटर पर ठहरा हुआ है। गुरुवार को बनवसा बैराज का जल स्तर क्रमश: 219.90 मीटर, गिरिजा बैराज का 134.95 मीटर और शारदा बैराज के जल स्तर 135.15 मीटर दर्ज किया गया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO : बच्चियों को ट्रेन से फेंकनेवाले दरिंदे पिता ने बताई पूरी वारदात

बीते साल अक्टूबर में चलती ट्रेन से अपनी बच्चियों के फेंकनेवाले हत्यारे पिता को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस और मीडिया के सामने इद्दू अंसारी ने बताया कि उसने पूरी वारदात को शराब के नशे में अंजाम दिया।

17 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls