बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

आधी आबादी को स्वालंबन की राह दिखा रही रीता

Gorakhpur Bureau गोरखपुर ब्यूरो
Updated Thu, 01 Oct 2020 06:51 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
फोटो-
विज्ञापन

आधी आबादी को स्वावलंबन की राह दिखा रही रीता
समूह की मदद से पति के लिए बनीं सहारा, अन्य महिलाओं को दे रहीं प्रेरणा
तकदीर संवारने में महिलाओं की अहम भूमिका : उपायुक्त स्वत: रोजगार
अमर उजाला ब्यूरो
सिद्धार्थनगर। राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत गठित स्वयं सहायता समूह की महिलाएं स्वावलंबन की राह पर चल रही हैं। कई समूह की महिलाएं जहां सफल रोजगार हासिल कर अपनी तकदीर को संवार रही हैं वहीं, घर-परिवार के लिए सहारा बनकर प्रेरणास्रोत भी बन रही हैं। ऐसी ही विकास खंड उसका बाजार के गंगाधरपुर के रेहरा गांव की रीता पाल हैं, जिन्होंने समूह की मदद से अपने पति को टेंपो खरीदने में भरपूर मदद कर अन्य महिलाओं के सामने कर्मठता का परिचय स्थापित किया।
कहा जाता है कि हौसले अगर बुलंद हों तो रास्ते आसान हो जाते हैं और मंजिल तक पहुंचने में किसी प्रकार की कठिनाई नहीं होती। इस बात को रीता पाल ने सही साबित किया है। घर-गृहस्थी का काम संभालते हुए घर तक सीमित रहने वाली विकास खंड उसका बाजार के गंगाधरपुर ग्राम पंचायत के रेहरा गांव की रीता पाल ने कभी नहीं सोचा था कि वह परिवार का सहारा बनने के लिए घर की दहलीज पार करेंगी।

रीता रोशनी आजीविका स्वयं सहायता समूह से एक सदस्य के रूप में जुड़ीं। इनके पति बेचन पाल बाहर रहकर ऑटो चलाया करते थे। लॉकडाउन में वे अपने घर आ गए। कोई काम न मिलने की वजह से काफी परेशान हो रहे थे। इसको लेकर रीता भी काफी चिंतित रहती थीं। समस्याओं को लेकर समूह की बैठक में पहुंचीं। उनकी समस्याओं को समूह की सभी महिलाओं ने बाहर रहकर टेंपो चलाने वाले पति के लिए टेंपो लेकर यहीं पर गुजर-बसर करने की सलाह दी। समूह की मदद से टेंपो खरीदी। उसके जरिए वह पति और दो बच्चों के साथ भरण-पोषण करने में जुटी हैं। साथ ही अन्य महिलाओं के लिए प्रेरणास्रोत भी बन चुकी हैं। प्रतिदिन उसका बाजार से सिद्धार्थनगर और सिद्धार्थनगर से उसका रोड पर चलकर प्रतिदिन लगभग एक हजार कमाई कर रहे हैं। रीता पाल का कहना है कि समूह से जुड़ीं महिलाएं अब न केवल अपने परिवार की मदद कर रही हैं, बल्कि पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर देश और समाज को सशक्त भी कर रही हैं।
उपायुक्त स्वत: रोजगार शेषमणि सिंह कहते हैं कि स्वयं सहायता समूह से जुड़कर महिलाएं तकदीर संवारने में अहम भूमिका निभा रही हैं। उन्हीं में से रीता पाल भी शामिल हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us