बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

पराली में आग लगी तो नपेंगे नोडल अधिकारी

Gorakhpur Bureau गोरखपुर ब्यूरो
Updated Wed, 06 Nov 2019 10:48 PM IST
विज्ञापन
रल्हिया थाने में खडी सीज की गई कम्बाइन
रल्हिया थाने में खडी सीज की गई कम्बाइन - फोटो : SIDDHARTHNAGAR
ख़बर सुनें
पराली में आग लगी तो नपेंगे नोडल अधिकारी
विज्ञापन

प्रत्येक राजस्व ग्राम में अवशेष फसल जलाने से रोकने को नामित हुए नोडल अधिकारी
सुप्रीम कोर्ट की हिदायत के बाद अपर मुख्य सचिव गृह विभाग ने डीएम को भेजा पत्र
संवाद न्यूज एजेंसी
सिद्धार्थनगर। पराली (धान की पुआल) जलाने पर रोक लगाने के लिए जिले स्तर पर एडीएम के नेतृत्व में एक सेल का गठन किया गया है, जिसमें सभी विभागों के अधिकारी शामिल होंगे। साथ ही प्रत्येक राजस्व ग्राम में एक नोडल अधिकारी नामित होंगे। डीएम दीपक मीणा ने कहा कि किसी ग्राम में पराली जलने की घटना होने पर संबंधित नोडल अधिकारी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की जाएगी।
लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण से नाराज सुप्रीम कोर्ट ने हरियाणा व पंजाब के साथ उत्तर प्रदेश सरकार को भी हिदायत दी। इसके बाद प्रदेश सरकार सख्त हो गई है। अपर मुख्य सचिव गृह विभाग अवनीश कुमार अवस्थी ने डीएम को पत्र भेजकर पराली जलाने पर सख्त कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। इसमें तहसील स्तर पर एसडीएम के नेतृत्व में मोबाइल स्क्वॉड का गठन करने, जिसमें पुलिस विभाग के साथ ही कृषि विभाग के अधिकारी शामिल होंगे। मोबाइल स्क्वॉड भ्रमण करने के दौरान पराली जलाते पाए जाने पर त्वरित कार्रवाई करेगी। साथ संबंधित ग्राम के प्रधान व लेखपाल को निर्देशित किया गया है कि वह किसी भी हाल में अपने क्षेत्र में पराली जलाने की घटना न होने दें। डीएम दीपक मीणा ने बताया कि पराली जलाने में संलिप्त पाए जाने पर 2500 रुपये से लेकर 15 हजार रुपये तक अर्थदंड लगाया जाएगा। इसके बाद भी दोबारा इस तरह की घटना में संलिप्त पाए जाने पर संबंधित के विरुद्ध केस दर्ज कर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बिना रिपर मशीन कटाई कर रही कंबाइन सीज
चिल्हिया। चिल्हिया थानाक्षेत्र के कटया गांव में बुधवार को बिना रिपर मशीन धान की फसल की कटाई कर रही कंबाइन मशीन को एसडीएम शोहरतगढ़ अनिल कुमार ने सीज कर दिया है। एसडीएम ने बताया कि जहां भी बिना रिपर मशीन की कटाई करने की सूचना मिलेगी मौके पर पहुंच कर त्वरित कार्रवाई की जाएगी।
अवशेष जलाने पर चार किसानों पर लगा जुर्माना
तहसीलदार राजेश सिंह ने की कार्रवाई, चेतावनी दी
अमर उजाला ब्यूरो
डुमरियागंज। बुधवार को तहसीलदार राजेश सिंह द्वारा धान का अवशेष जलाने पर चार किसानों के खिलाफ जुर्माना लगाया गया। उन्होंने थाने में अवशेष जलाने वाले चारों किसानों के खिलाफ संबंधित धाराओं में मुकदमा भी पंजीकृत कराया है। साथ ही चेतावनी दी है कि तहसील क्षेत्र में जहां भी धान का अवशेष जला मिला, उस खेत के मालिक किसान के खिलाफ जुर्माना व अन्य विधिक कार्रवाई की जाएगी।
क्षेत्र के असनहरा गांव के सिवान में बुधवार को धान का अवशेष जलाए जाने की सूचना नायब तहसीलदार को मिली। सूचना मिलते ही वह गांव में पहुंचे, जहां धान का अवशेष जलाते हनीफ और विकास मिले। इसके बाद नायब तहसीलदार डुमरियागंज द्वारा उन पर आवश्यक कार्रवाई के लिए तहसील में रिपोर्ट किया गया। चार किसानों के खिलाफ थाने में तहरीर दी गई। साथ ही 5000-5000 रुपये का अर्थदंड लगाने के साथ सुसंगत धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया। साथ ही समस्त लेखपालों को आदेशित किया गया कि जो किसान अपने खेतों पर पड़े अवशेष को जलाने की भी सोच रहे हैं या प्रयास करेंगे। उनकी सूची बनाकर एसडीएम न्यायालय डुमरियागंज को भेजें। नायब तहसीलदार आनंद ओझा ने बताया कि तहसील क्षेत्र में जहां भी किसान धान के फसल का अवशेष जलाते मिले। उनके खिलाफ जुर्माने की कार्रवाई के साथ ही अन्य विधिक कार्रवाई की जाएगी।
हैप्पी सीडर से गेहूं की बुआई के तरीके बताए
धान की पराली जलाए बिना हैप्पी सीडर से की गई बुआई
अमर उजाला ब्यूरो
मन्नीजोत। भनवापुर ब्लॉक क्षेत्र के कृषि विज्ञान केंद्र सोहना में आयोजित पांच दिवसीय फसल अवशेष प्रबंधन प्रशिक्षण के तीसरे दिन बुधवार को कृषि वैज्ञानिकों ने क्षेत्र में धान की पराली ना जलाकर सीधे हैप्पी सीडर से गेहूं की बुआई करने की विधि बताई।
वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. एलसी वर्मा ने बताया कि हैप्पी सीडर मशीन एक तरफ धान के डंठलों के ऊपरी भागों को काटकर हटाती है और साथ-साथ कतारों में गेहूं की बुआई भी करती जाती है। धान के अवशेषों को खेतों में दबा देती है। कृषि वैज्ञानिक डॉ. प्रदीप कुमार ने बताया कि धान के पुआल में जरूरी पोषक तत्व होते हैं। कृषि वैज्ञानिक डॉ. एसएन सिंह ने कहा कि ठूंठयुक्त प्रक्षेत्र पर पैडी स्ट्रा मल्चर मशीन से टुकड़ों में काटकर खेत में बिखेर दिया जाता है। इससे सीधे जीरो टिलेज एवं हैप्पी सीडर द्वारा सीधी बुआई कर दी जाती है। इससे फसल को जलाना नहीं पड़ता है। गांव के सभी किसानों ने केंद्र पर उपलब्ध फसल अवशेष प्रबंधन में रोटावेटर, हैप्पी सीडर, पैडी स्ट्रा मल्चर, मोल्ड बोर्ड प्लाई का प्रदर्शन करके गांव को नो वन इन विलेज की सरकार द्वारा मान्यता दिलाई जाएगी। प्रदर्शन के दौरान गांव के 40 से 50 कृषक धर्मपाल सिंह, देवी प्रसाद सिंह, सिविल सर्जन राम उजागर चौधरी, बजरंगी गुप्ता आदि मौजूद रहे।
क्रय केंद्रों पर बिचौलियों पर अंकुश के लिए डीएम को पत्र
समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष कमाल अहमद खान ने लिखा
संवाद न्यूज एजेंसी
सिद्धार्थनगर। जनपद में संचालित धान क्रय केंद्रों पर बिचौलियों के प्रभाव को कम करते हुए किसानों से सीधे खरीद किए जाने के लिए जिलाधिकारी को मांगपत्र सौंपा है। किसानों का शोषण जारी रहा तो धरना-प्रदर्शन करने को भी बाध्य होना पड़ेगा।
समाजवादी युवजन सभा के प्रदेश उपाध्यक्ष कमाल अहमद खान ने बुधवार को जिलाधिकारी से उनके आवास पर मिलकर एक मांगपत्र सौंपा। पत्र में अवगत कराया कि जिले की सभी तहसीलों के किसानों के फसली धान के सरकारी क्रय केंद्रों द्वारा विलंब किए जाने की जानकारी मिल रही है। जबकि जनपद के लगभग 50 प्रतिशत किसानों की फसली धान तैयार है। सरकारी क्रय केंद्रों द्वारा किसानों का फसली धान समय से न क्रय किए जाने से बिचौलिए किसानों का धान औने-पौने मूल्य पर क्रय कर लगातार उत्पीड़न कर रहे हैं। सपा नेता धान क्रय केंद्रों को क्रियाशील करते हुए बिचौलियों के प्रभाव को कम करने के साथ ही किसानों से सीधे क्रय करने का अनुरोध किया। जिलाधिकारी दीपक मीणा ने ठोस आश्वासन देते हुए सभी उपजिलाधिकारियों को कड़ा पत्र लिखने का निर्देश दिया।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us