तहरीर फाड़ने वाला इंस्पेक्टर निलंबित

Siddhartha nagar Updated Mon, 20 Jan 2014 05:44 AM IST
सिद्धार्थनगर। मामूली नाली विवाद की गूंज मुख्यमंत्री के दरबार तक पहुंच गई है। मामले में पुलिस महकमे के आलाधिकारियों ने एसपी को कार्रवाई का निर्देश दिया जिस पर एसपी ने ढेबरुआ इंस्पेक्टर मानवेंद्र प्रताप सिंह को निलंबित करते हुए एएसपी को जांच के आदेश भी दे दिए हैं। मामला शनिवार की दोहपर ढेबरुआ थाना क्षेत्र के अहिरौला गांव का है। जहां दो पक्षों में नाली को लेकर मारपीट हुई थी। इसमें एक पक्ष के चार लोग घायल हो गए। इनमें से दो की हालत गंभीर है जिनका इलाज जिला अस्पताल में चल रहा है। पीड़ित पक्ष पुलिस की मदद पाने के लिए थाने पर दो बार तहरीर लेकर गया। पीड़ित पक्ष का आरोप है कि दो बार तहरीर को इंस्पेक्टर ने फाड़ दिया। इसके बाद उन्होंने जबरन अपने अनुसार तहरीर लिखवाई और उसकी रिसीट भी नहीं दी गई।
ढेबरुआ थानाक्षेत्र के अहिरौला गांव निवासी बालेश्वर का नाली को लेकर उनके पट्टीदार पुजारी से काफी दिनों से विवाद चल रहा था। नाली बनाने को लेकर शनिवार की दोपहर में बालेश्वर अपने कुछ साथियों के साथ खड़ंजा उखाड़ने लगे। खड़ंजा उखड़ता देख पुजारी ने इसका विरोध किया तो बालेश्वर और उसके साथ अन्य कुछ लोगों ने पुजारी को लाठी डंडे से पीटने लगे। इसी बीच पुजारी को मार खाता देख उनकी मां इंद्रावती बचाने के लिए आ गईं। इस दौरान उनको भी बुरी तरह मारा पीटा गया। साथ ही पुजारी के घर के विक्रम, रेनू को भी चोटें आईं। इनको शोहरतगढ़ सीएचसी ले जाया गया। जहां से पुजारी और उनकी मां इंद्रावती को जिला अस्पताल के लिए रेफर कर दिया गया। इनका इलाज जिला अस्पताल में अभी भी चल रहा है।
इस मामले को लेकर जब पीड़ित पक्ष की तरफ से पुजारी का भतीजा अर्जुन थाना पर पहुंचा तो उसे उल्टा धमकाया जाना लगा। अर्जुन ने बताया कि इंस्पेक्टर मानवेंद्र प्रताप सिंह को तहरीर दी गई थी उन्होंने तहरीर फाड़ दी। इसके बाद दोबारा तहरीर दी गई तो उसे भी फाड़ दिया गया। इतना ही नहीं तीसरी बार तहरीर उन्होंने अपने मनमाफिक लिखवाई और दूसरे पक्ष को पकड़ने के बजाए उन्हें भगा दिया। इसकी जानकारी पुजारी के भाई मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में तैनात अर्जुन प्रसाद को हुई तो उन्होंने इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से की। इस शिकायत के बाद पुलिस महकमे के आलाधिकारियों के निर्देश पर एसपी अनंत देव ने ढेबरुआ इंस्पेक्टर मानवेंद्र प्रताप सिंह को लाइन हाजिर कर दिया है। साथ ही मामले की जांच एएसपी अशोक कुमार वर्मा को दे दी है। इस मामले में ढेबरुआ पुलिस ने पुजारी की तहरीर पर बालेश्वर, प्रेमशंकर, कृपाशंकर, पंकज और बालेश्वरी की पत्नी कपूरा के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कर लिया है।
चर्चा का विषय बनी कार्रवाई
अहिरौली गांव की यह घटना जिले में चर्चा का विषय बनी हुई है। पीड़ित पक्ष पुजारी के चाचा अर्जुन प्रसाद सैनी मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में हैं। उन्हें घटना की जानकारी हुई तो इस मामले की शिकायत मुख्यमंत्री से की। मुख्यमंत्री तक बात पहुंचने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। शनिवार की देर शाम ही पुलिस महकमे के आलाधिकारियों ने एसपी अनंत देव को तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया। एसपी ने इस मामले में इंस्पेक्टर मानवेंद्र प्रताप सिंह को शनिवार की देर रात सस्पेंड कर दिया।
मुख्यमंत्री की सुरक्षा व्यवस्था में पीड़ित पक्ष का रिश्तेदार है। उन्होंने उच्चाधिकारियों से इंस्पेक्टर की शिकायत की थी। इस मामले में उच्चाधिकारियों का निर्देश आया था। इस पर तत्काल कार्रवाई करते हुए इंस्पेक्टर ढेबरुआ मानवेंद्र प्रताप सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है। साथ ही इस मामले में एएसपी को जांच के लिए निर्देश भी दे दिया गया है।
- अनंत देव, एसपी सिद्धार्थनगर

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: नए साल पर सीएम योगी ने इन्हें दिया 66 करोड़ का तोहफा!

सिद्धार्थनगर के 29वें स्थापना दिवस के मौके पर चल रहे सात दिवसीय कपिलवस्तु महोत्सव का रविवार को समापन किया गया। समापन कार्यक्रम में खुद सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने 66 करोड़ रुपये की आठ परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया।

1 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls