नए साल में भी नहीं मिल सके चिकित्सक

Siddhartha nagar Updated Tue, 21 Jan 2014 05:45 AM IST
सिद्धार्थनगर। नए साल में लोगों को उम्मीद थी कि स्वास्थ्य महकमा डॉक्टरों की कमी को दूर कर देगा। नये साल के 20 दिन बीत चुके हैं, लेकिन हालात जस के तस बने हुए हैं। ऐसा भी नहीं है कि यह मामला नया है। जिले में डॉक्टरों की कमी पिछले दो साल से बरकरार है।
जिले में पिछले दो साल से डॉक्टरों की कमी है। पूरे जिले में 163 सरकारी डॉक्टरोें के सापेक्ष मात्र 54 डॉक्टर हैं। सबसे ज्यादा परेशानी महिला मरीजों को है। जिले में केवल पांच महिला चिकित्सक हैं। पूरे जिले में एक भी सरकारी फिजिशयन डॉक्टर नहीं है, सर्जन की स्थिति भी बेहद दयनीय है। केवल तीन सर्जन के भरोसे जिले के स्वास्थ्य सेवा की नैया पार कराई जा रही है। बाल रोग विशेषज्ञों की संख्या छह है। इसमें दो जिला अस्पताल में बाकी चार अन्य सीएचसी और पीएचसी पर तैनात हैं। रेडियोलॉजिस्ट का पद भी जिला अस्पताल में काफी दिनों से खाली है। डॉक्टरों की यह कमी पिछले दो सालों से बरकरार है।
नये साल पर विभाग ने दावा किया था कि जनवरी के प्रथम सप्ताह तक डॉक्टरों की कमी को दूर कर दिया जाएगा। लेकिन विभाग के ये दावे दावे ही रह गए। इसकी वजह से गरीबों को इलाज के लिए प्राइवेट डॉक्टरों का सहारा लेना पड़ रहा है। जिले में मौजूदा समय में तीन सत्ताधारी दल के विधायक हैं। साथ ही यह जिला विधानसभा अध्यक्ष का गृह जनपद है। उसके बाद भी डॉक्टरों की तैनाती आज तक नहीं हो पाई है। विभाग की मानें तो हर माह इसकी रिपोर्ट शासन स्तर पर भेजी जाती है। उसके बाद भी डॉक्टर नहीं मिल रहे है।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: नए साल पर सीएम योगी ने इन्हें दिया 66 करोड़ का तोहफा!

सिद्धार्थनगर के 29वें स्थापना दिवस के मौके पर चल रहे सात दिवसीय कपिलवस्तु महोत्सव का रविवार को समापन किया गया। समापन कार्यक्रम में खुद सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने 66 करोड़ रुपये की आठ परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया।

1 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls