मौसम ने ली करवट, बढ़ गई ठंड

Siddhartha nagar Updated Sat, 01 Dec 2012 12:00 PM IST
सिद्धार्थनगर। मौसम के करवट बदलने से ठंड में इजाफा हो चुका है। पिछले तीन चार दिनों से पछुवा हवाओं के चलने ठंड के साथ गलन शुरू हो गई है। ठंड ने लोगों की दिनचर्या प्रभावित कर दी है। देर शाम कोहरा गिरने से यातायात व्यवस्था भी प्रभावित है। ठंडक बढ़ने से ऊनी वस्त्रों की खरीददारी जोर पकड़ चुकी है और घरों में इलेक्ट्रिक हीटरों तथा गीजर का प्रयोग शुरू हो गया है।
नवंबर महीने के आखिरी सप्ताह से ठंड में बढ़ोत्तरी हो चुकी है। पश्चिमी पहाड़ियों पर हिमपात होने और पछुवा हवाओं ने ठिठुरन बढ़ा दी है। ठंडक ने लोगों की दिनचर्या प्रभावित कर दी है। लोगों की सुबह इस समय सात बजे के बाद हो रही है। सुबह-सुबह महिलाओं के अलावा अन्य लोग रजाई से निकलने से गुरेज कर रहे हैं। अगर कोई जरूरी काम न हो तो लोग सुबह आठ बजे से पहले घर के बाहर कदम नहीं निकालते हैं। गर्मी के दिनों में सुबह चार बजे से शुरू होने वाली मार्निंग वाक की टाइमिंग भी इस समय बदल गई है। अब लोग सुबह छह बजे टहलने निकल रहे हैं। जल्दी दिन डूबने के कारण अब शाम आठ बजते ही प्रमुख चौराहों पर सन्नाटा पसर जा रहा है। ठंड बढ़ने के साथ ही गर्म कपड़ों और रजाई, कंबलों की बिक्री बढ़ गई है। मुख्यालय पर ऊनी वस्त्रों के कारोबारी अजय कुमार का कहना है कि 15 नवंबर से ऊनी कपड़ों का कारोबार तेज हुआ है। प्रतिदिन 15 से 20 हजार रुपये की बिक्री हो रही है। ऊन का कारोबार करने वाले सलमान का कहना है कि ऊन की बिक्री ठंड बढ़ने से तेज हो गई है और प्रतिदिन अच्छी खासी बिक्री हो रही है। रूम हीटर और गीजर का प्रयोग भी लोग गर्मी पाने के लिए कर रहे हैं। ठंड बढ़ने के साथ नेपाली कंबल और लोई की बिक्री का दौर भी तेज हो चुका है। अलिगढ़वा में इस समय लोई का मूल्य 500 से 1000 रुपये है। वहीं कंबलों की कीमत 1500 से 5000 रुपये तक है।

सेहत के प्रति रहें सचेत
ठंड बढ़ने के साथ ही बीमारियों का दौर शुरू हो गया है। जिला अस्पताल के चिकित्सक डॉ. विवेक मिश्रा का कहना है कि इस मौसम में कोल्ड डायरिया, फीवर और सर्दी जुकाम की आशंका अधिक रहती है। इस लिए सर्दी से बचने के लिए शरीर को गर्म कपड़ों से ढककर रखें। बुजुर्गों को इस मौसम में काफी सचेत रहने की जरूरत है, क्योंकि ठंडी हवाओं से उनके जोड़ों के दर्द में इजाफा हो सकता है और उन्हें सांस से भी जुड़ी परेशानी हो सकती है। सीएमएस डॉ. रामचंद्र का कहना है कि इस मौसम में नवजात बच्चों की देखभाल में काफी सावधानी बरतनी चाहिए। बच्चों को इस समय निमोनिया और कोल्ड डायरिया हो सकता है। उन्होंने बताया कि बच्चों के शरीर को गीला न रहने दें। बच्चों को किसी भी प्रकार की समस्या होने पर तत्काल चिकित्सक से संपर्क करना चाहिए।

Spotlight

Most Read

Rohtak

सीएम को भेजा पत्र

सीएम को भेजा पत्र

23 जनवरी 2018

Rohtak

एमटीएफसी

23 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: नए साल पर सीएम योगी ने इन्हें दिया 66 करोड़ का तोहफा!

सिद्धार्थनगर के 29वें स्थापना दिवस के मौके पर चल रहे सात दिवसीय कपिलवस्तु महोत्सव का रविवार को समापन किया गया। समापन कार्यक्रम में खुद सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने 66 करोड़ रुपये की आठ परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया।

1 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper