व्यवसाय घाटे का, राह तरक्की की

Siddhartha nagar Updated Fri, 07 Sep 2012 12:00 PM IST
बस्ती। खाद्य विभाग में अनाज की ढुलाई करने वाले ठेकेदार अब तक करोड़ों रुपये का घाटा उठा चुके हैं। फिर भी ठेका पाने की होड़ मची है। घाटे की भरपाई के लिए कौन-सा खेल खेला जाता है यह तो जांच का विषय है, पर इसका खामियाजा गरीब उपभोक्ताओं को ही भुगतना पड़ता है। दूसरी ओर ठेकेदारों ने परिवहन दर बढ़ाने की मांग की है।
इसे व्यवस्था का दोष माने या ठेकेदारों की मजबूरी कहें। पिछले पांच सालों से पीडीएस अनाज की ढुलाई करने वाले हैंडलिंग और फारवडिंग का काम करने वाले ठेकेदारों को प्रति ट्रक एक से डेढ़ हजार रुपये का घाटा होता है। एक सेंटर पर औसत 50-90 ट्रक अनाज पहुंचता है। इस हिसाब से एक ठेकेदार को एक सेंटर से प्रतिमाह एक लाख रुपये से अधिक का नुकसान उठाना पड़ रहा है। इस तरह एक ठेकेदार पिछले पांच साल में 60 लाख रुपये से अधिक का नुकसान उठा चुका है। मंडल में कुल 34 सेंटर हैं। ठेकेदारों की मानें अब तक वे 20 करोड़ से अधिक का घाटा अनुबंध से बंधे रहने के कारण उठा चुके हैं। इतना अधिक नुकसान होने के बावजूद ठेकेदारों के पास ट्रकों की संख्या बढ़ती ही जा रही है। घाटा उठा कर भी तरक्की करने वालों में सबसे अधिक ‘माननीयों’ का नाम शामिल है। आरएफसी एके सिंह कहते हैं कि यह सही है कि पिछले कई वर्षों से परिवहन दर में वृद्धि नहीं हुई है। मगर इस बार जब भी टेंडर निकलेगा तो उसमें महंगाई को ध्यान में रखकर दर निर्धारित करने का प्रस्ताव डीएम को भेजा जाएगा।

घाटा के बाद भी तरक्की
घाटा उठाकर परिवहन का व्यवसाय करने वाले ठेकेदारों की कमी नहीं हैं। कई ठेकेदारों ने जहां ट्रकों की संख्या बढ़ाई कुछ ने चावल मिले लगवा ली। एक ठेकेदार की मानें तो यह दुनिया का सबसे अजीब व्यवसाय है, जहां पर लोग घाटा उठाने के बाद भी तरक्की कर रहे हैं। तरक्की का आंकड़ा तो नहीं मिल सका मगर घाटे का अवश्य उजागर हुआ है। अरविंद कुमार चौधरी सेंटर नाथनगर, हैंसर, पौली, मेंहदावल, सांथा, बांसी, मिठवल औरखेसरहा नुकसान उठाया लगभग पांच करोड़, रामप्रकाश चौधरी सेंटर विक्रमजोत, परशुरामपुर, बभनान, बस्ती, बघौली, सेमरियांवा, इटवा व खुनियांव घाटा लगभग पांच करोड़, संगम कांस्ट्रक्शन कंपनी सेंटर बहादुरपुर, कप्तानगंज, डुमरियागंज और भनवापुर घाटा लगभग ढाई करोड़, संगम ट्रांसपोर्ट कंपनी सेंटर सेंटर नौगढ़, बर्डपुर, रुधौली, रामनगर और सल्टौआ घाटा लगभग तीन करोड़, मंजू देवी सेंटर हर्रैया व बनकटी घाटा उटाया 1.20 करोड़, शशिकांत पांडेय सेंटर साऊंघाट और कुदरहा नुकसान 1.20 करोड़, राजीव कुमार जायसवाल सेंटर उस्का और जोगिया व सुभद्रा देवी सेंटर बढ़नी व शोहरतगढ़ घाटा 1.20-1.20 करोड़ का हो चुका है।

40 से 50 फीसदी का हो रहा नुकसान
संगम ट्रांसपोर्ट के प्रोपराइटर शैलेंद्र सिंह ने आरएफसी को पत्र लिखकर डीएम दर में बढ़ोतरी करने की मांग उठा चुके हैं। कहा कि पिछले वर्षों की अपेक्षा डीजल, टायर, मशीनरी पार्ट सहित मैन पावर में 40 से 50 फीसदी तक बढ़ोतरी हो चुकी है। एक अन्य ठेकेदार ने बताया कि लोकल स्तर पर अनाज पहुंचाने के लिए प्रति ट्रक ढाई से तीन हजार रुपये का किराया लगता है। सरकार मात्र एक हजार से बारह सौ रुपये देती है। डिपो में प्रति बोरी खर्चा लगता है। इस तरह 180 रुपये प्रति ट्रक डिपो खर्चा लगा जो सरकार नहीं देती है। सेंटर पर जब ट्रक अनलोड कराया जाता है तो वहां पर प्रति बोरी एक रुपया अनलोडिंग चार्ज देनी पड़ती है। मगर सरकार मात्र 70 पैसा प्रति बोरी देती है।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

VIDEO: नए साल पर सीएम योगी ने इन्हें दिया 66 करोड़ का तोहफा!

सिद्धार्थनगर के 29वें स्थापना दिवस के मौके पर चल रहे सात दिवसीय कपिलवस्तु महोत्सव का रविवार को समापन किया गया। समापन कार्यक्रम में खुद सीएम योगी आदित्यनाथ पहुंचे। इस दौरान उन्होंने 66 करोड़ रुपये की आठ परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया।

1 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper