विज्ञापन
विज्ञापन

जलजमाव से जूझ रही है 50,000 की आबादी

Siddhartha nagar Updated Mon, 30 Jul 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
बांसी। बाढ़ आए या न आए फजिहतवा नाले के इर्द गिर्द बसे दो दर्जन से अधिक गांवों की 50 हजार की आबादी बरसात के बाद जलजमाव से हलकान है। निजात पाने के लिए तीन दशक से ग्रामीण अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों से फरियाद कर रहे हैं, पर इनकी पीड़ा सुनने वाला कोई नहीं है। धान की फसल बर्बाद होने से चार महीने तक गरीब परिवारों के सामने रोजी रोटी का संकट बरकरार रहता है। पशुओं के चारे का भी अकाल पड़ जाता है।
विज्ञापन
विज्ञापन
तहसील क्षेत्र में बूढी़ राप्ती और राप्ती नदी के बीच में फजिहतवा नाला बहता है। बरसात में जब नदी का जलस्तर बढ़ता है तो दोनों नदियों के तटबंधों में लगे रेग्युलेटर बंद कर दिए जाते हैं। बरसात में फजिहतवा नाले में आने वाला पानी चंवरताल से लेकर राप्ती और बूढ़ी राप्ती संगम स्थल तक लगभग 20 किमी दूरी में जलजमाव पैदा करता है। इससे सोनखर, बभनी, करही, कम्हरिया, सूपा बख्शी, नियाजोत, हयातनगर, तारा गुजरौलिया, कदमहवां, भंवारी, भुजराई, गुल्हरिया राजा, हाटा, पकड़डीहा, टड़वल घाट, फूलपुर दंतरंगवा, बफुआव, सूपा राजा, पिपरहवा, पटखौली सहित दो दर्जन से अधिक गांवों की फसल जलमग्न हो जाती है। जलजमाव चार महीने तक बना रहता है। लगभग आधा दर्जन गांव जलजमाव के कारण टापू में तब्दील हो जाते हैं। लोगों को भारी तबाही का सामना करना पड़ता है। खरीफ की फसल बर्बाद हो जाती है। दर्जनों कच्चे मकान गिर जाते हैं। क्षेत्र को संक्रामक बीमारियां फैल जाती हैं। चारों तरफ तबाही का मंजर दिखाई देता है। लोग दाने-दाने को मोहताज हो जाते हैं। ग्रामीण बृजलाल, रामधनी, रामवृक्ष, राममिलन, रामदास, पुरुषोत्तम का कहना है कि बरसात के दिनों में फजिहतवा नाले से होने वाले जलजमाव से निजात मिल जाए तो यहां के लोगों के दुर्दिन खुशहाली में बदल जाए। पूर्व जिला पंचायत सदस्य और सपा नेता कृष्णमुरारी यादव का कहना है कि कई बार समस्या को संबंधित विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों के समक्ष रखा गया, लेकिन सिर्फ आश्वासन ही मिला। कृष्णमुरारी यादव का कहना है कि यदि फजिहतवा नाले के जलनिकासी की व्यवस्था हो जाए तो इस क्षेत्र की लगभग 50 हजार की आबादी भीषण तबाही से छुटकारा पा सकती है।

Recommended

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से
Election 2019

देखिये लोकसभा चुनाव 2019 के LIVE परिणाम विस्तार से

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर
Election 2019

जानिए अपने शहर के लाइव नतीजों की पल-पल की खबर

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Siddharthnagar

हैट्रिक लगाकर तोड़ा मिथक

डुमरियागंज संसदीय क्षेत्र के इतिहास में अब तक कोई प्रत्याशी ऐसा नहीं रहा, जिसने लगातार तीन बार जीत हासिल की लेकिन 17वीं लोकसभा के चुनाव में भाजपा के जगदंबिका पाल ने लगातार तीन बार निर्वाचित होकर हैट्रिक का मिथक तोड़ने में कामयाब रहे।

23 मई 2019

विज्ञापन

जीत के बाद पीएम मोदी का पहला भाषण, कहा बदनीयत से नहीं करूंगा कोई काम

जीत के बाद पीएम मोदी का पहला भाषण। हजारों कार्यकर्ताओं से भरा प्रांगण मोदी-मोदी के नारों से गूंज उठा।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election