बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP

26 दिनों में छह लोगों की हत्या

Siddhartha nagar Updated Fri, 08 Jun 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें
सिद्धार्थनगर। पिछले छब्बीस दिनों में जिले में छह लोगों की हत्याएं हुईं। अधिकतर हत्याओं की वजह जमीन का विवाद सामने आया है। ऐसे में पुलिस के समक्ष अब उसके गांव के मुखबिर तंत्र की विफलता भी सामने आ रही है, वह भी तब, जब इस जनपद में आईजी और डीआईजी ने क्राइम मीटिंग में अपराध रोकने के टिप्स भी दे चुके हैं।
विज्ञापन

जानकारी के अनुसार पिछले एक पखवारे के भीतर जिले में अपराध बढ़ गए। महीने भर के भीतर डीआईजी और आईजी की क्राइम मीटिंग हो चुकी है। अपराध पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस अधीक्षक से लेकर सभी सीओ और थानाध्यक्षों को आईजी तथा डीआईजी की तरफ से निर्देश दिया जा चुका है। इधर आंकड़ों पर गौर करें तो 12 मई को जमीन विवाद को लेकर मिश्रौलिया थाना क्षेत्र के छतवा ग्राम एक पक्ष के लोगों ने धर्मराज की जमकर पिटाई की। गंभीर पिटाई से उसकी मौत हो गई। उसके तीन दिनों बाद 15 मई को जमीनी विवाद के चलते कोतवाली बांसी अंतर्गत ग्राम जनियाजोत के निवासी चैतू को पीट-पीट कर मार डाला गया। 18 मई को तीरथा देवी की हत्या की गई। दूसरी तरफ 18 मई को ही बांसी में जमीनी विवाद को लेकर दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। 26 मई को उसका बाजार थानाक्षेत्र के कुसम्ही निवासी पैंतालीस वर्षीय रविंद्र यादव की हत्या कर उसकी लाश को खेत में फेंक दिया गया था। इस मामले को पुलिस ने सुलझाने का दावा किया है। पुलिस के अनुसार इस अधेड़ की हत्या उसके बेटे और बहू ने की। जिस बेटे ने अपने बाप के मरने की तहरीर दी थी, वही अब मुल्जिम भी बन गया। अपराधियों ने एक बार फिर 31 मई को ढेबरुआ थानाक्षेत्र के केवटलिया में अब्दुल समद की बम मारकर हत्या करने की कोशिश की गई। पुलिस ने दो अभियुक्तों को गिरफ्तार किया। हालांकि अब भी दो अभियुक्त पुलिस की गिरफ्त में नहीं आ सके। दो जून को जोगिया कोतवाली के हरैया निवासी विरेंद्र तिवारी को चुनावी रंजिश में लहूलुहान कर दिया गया। छह जून को दहला निवासी यासीन को मामूली सी बात को लेकर दबंगों ने अन्य लोगों के साथ मिलकर इतना पीटा की उसकी मौत हो गई। यानी हत्याओं को लेकर जिले का माहौल गरम है। जानकारों का मानना है कि पुलिस के समक्ष अपने खुफिया तंत्र को मजबूत करने के साथ ही गांव में होने वाली छोटी छोटी वारदातों पर नजर रखने की कोशिश करनी होगी।

इस संबंध में पुलिस अधीक्षक मदन गोपाल सिंह का कहना है कि जितनी भी हत्याएं हुई हैं, उनमें से अधिकतर मामलों में अभियुक्तों की गिरफ्तारी हो चुकी है। ज्यादातर मामलों को सुलझा लिया गया है। पुलिस अपने स्तर से अपराध को रोकने का काम कर रही है। छोटी-मोटी बातों को लेकर ही ज्यादातर हत्याएं हुई हैं। थानेदारों को हर छोटे बड़े प्रकरण पर नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us