कटरी की लाइफ लाइन होगा फर्रुखाबाद-मैलानी रेलवे ट्रैक

Shahjahanpur Updated Mon, 17 Dec 2012 05:31 AM IST
- अगले बजट पर अभी से लगी हैं इलाके के लोगों की निगाहें
अमर उजाला नेटवर्क
जलालाबाद। अगले वर्ष के रेल बजट पर क्षेत्रीय लोगों की निगाहें अभी से लगी हुई हैं। लोगों का मानना है कि फर्रूखाबाद-शाहजहांपुर-मैलानी रेल लाइन को यदि इस बजट में स्वीकृति मिल जाए तो यह इलाके की जनता के लिए ही नहीं, बल्कि औद्योगिक एवं सामरिक दृष्टि से भी लाभकारी होगी।
सभी जानते हैं कि रेलवे लाइन न होने से जनता को तमाम समस्याओं से गुजरना पड़ता है। जनप्रतिनिधियों की उदासीनता के बाद भी मात्र जनता की ओर से की जा रही मांग पर रेल मंत्रालय ने वर्ष 1977 एवं 1999 में पूर्वोत्तर रेलवे और वर्ष 2003 में उत्तर रेलवे से इस रेलवे लाइन बिछवाए जाने संबंधी सर्वे कराया, परंतु बताते हैं कि मंत्रालय को भेजी गई रिपोर्ट में इस रेलवे लाइन को आर्थिक दृष्टि से लाभकारी न होना दर्शा दिया गया, जिससे क्षेत्रीय जनता के हितों से जुड़ा यह मामला ठंडे बस्ते के हवाले हो गया। हालांकि इसके बाद भी जारी रही इस मांग को सरकारों ने तबज्जों नहीं दी। क्षेत्र के बुद्घिजीवी वर्ग का मानना है कि अंतिम 2003 में हुए सर्वे के नौ सालों के इस लंबे अंतराल में काफी कुछ बदला है। यदि दोनों जनपदों के मध्य 90 किलोमीटर की रेल लाइन बिछा दी जाए तो जनपद की इस पिछड़ी तहसील में आवागमन के साधनों के साथ ही विकास के नए रास्ते भी खुल जाएंगे।


सामरिक, औद्योगिक
दृष्टि से महत्वपूर्ण
काबिले गौर है कि इस लाइन के बिछने के बाद शाहजहांपुर और फतेहगढ़ जैसी हमारी महत्वपूर्ण सैनिक छावनियों का जुड़ाव सीधे मथुरा, आगरा, ग्वालियर, झांसी और टनकपुर की छावनियों के मध्य हो जाएगा, जिससे हमेशा संवेदनशील रहने वाली हमारी उत्तरी सीमा को मजबूती मिल सकेगी। औद्योगिक दृष्टि से भी पिपरौला स्थित खाद समेत विभिन्न फैक्ट्रियों के अलावा रोजा का पॉवर प्लांट की दक्षिणी जिलों के सीधे संपर्क में होंगे।


2011 में सर्वे मंजूर
पर नहीं मिला पैसा
फरवरी 2011 में तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी ने जनता की लगातार हो रही इस मांग पर गौर करते हुए अपने पेश रेलवे बजट में इस रेलवे लाइन के सर्वे को मंजूरी देते हुए यह कार्य पूर्वोत्तर रेलवे को सौंपा, परंतु इस सर्वे कार्य के लिए पर्याप्त बजट स्वीकृत न होने से यह मामला बीते दो सालों से लटका हुआ है। इस साल पेश होने वाले नए रेल बजट में इन सर्वे कार्य के लिए आवश्यक धन मिलने की लालसा लोगों का ध्यान इस बजट पर केंद्रित किए हुए है।



इस इलाके के लोगों का यह दुर्भाग्य रहा है कि क्षेत्र के विकास के लिए हमारे जनप्रतिनिधि कभी गंभीर नहीं हुए। यदि इस मुहिम में सभी का सहयोग मिल जाए तो मंजिल आसान हो सकती है।
- विष्णु दत्त द्विवेदी, राष्ट्रपति पुरस्कार से सम्मानित शिक्षक



भगवान परशुराम की जन्मस्थली होने केसाथ ही यह क्षेत्र परमवीर चक्र विजेता नायक जदुनाथ सिंह का जन्म स्थान भी है। यदि रेलवे लाइन रूपी सौगात इस क्षेत्र को मिल जाए तो यह शहीद सिंह के लिए यह सच्ची श्रद्घांजलि होगी।
- आनंद त्रिवेदी, समाजसेवी



रेलवे लाइन क्षेत्र के विकास से जुड़ा अहम मुद्दा है। मंच के माध्यम से इसके लिए काफी प्रयास किए जा चुके हैं। इस दिशा में शीघ्र प्रगति न होने पर नए सिरे से प्रयास शुरू करने की रणनीति बनाई जाएगी।
- कमला निवास शास्त्री, जिला संरक्षक उपभोक्ता संरक्षण मंच

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी मे यहां बीजेपी के चेयरमैन 26 जनवरी को मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में बीजेपी के चेयरमैन ने लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। देखिए कहां हुई चूक।

7 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper