कहमारा में नहीं रखा जा रहा ट्रांसफार्मर

Shahjahanpur Updated Fri, 14 Dec 2012 05:30 AM IST
एक महीने से अंधेरे में है गांव, ठप पड़ा है नलकूप
- सांसद और विधायक से कहने के बाद भी समस्या जस की तस
अमर उजाला नेटवर्क
पुवायां। गांव कहमारा के बिजली उपभोक्ता एक महीने से परेशान हैं। यहां का ट्रांसफार्मर एक महीने से फुंका पड़ा है। कई बार मांग के बाद भी इसे नहीं बदला गया है। समाधान नहीं होने पर आज बिजली उपभोक्ताओं ने प्रदर्शन कर ट्रांसफार्मर रखवाने की मांग की।
गांव के बिजली उपभोक्ताओं ने बताया कि काफी समय पहले गांव में बिजली सप्लाई करने के लिए ट्रांसफार्मर लगा हुआ था। बाद में इस ट्रांसफार्मर को उतरवाकर दूसरी जगह रखवा दिया गया और गांव की सप्लाई नलकूप संख्या दो पर रखे ट्रांसफार्मर से जोड़ दी गई। नलकूप पर रखे छोटे ट्रांसफार्मर पर अधिक लोड हो जाने से वह बार बार फुंकने लगा। लगभग एक माह पूर्व ट्रांसफार्मर जलने से नलकूप के साथ ही गांव के उपभोक्ताओं की बिजली भी ठप हो गई। तब से गांव के लोग ट्रांसफार्मर लगवाने के लिए लगातार दौड़ लगा रहे हैं। सांसद और विधायक से भी मांग की गई। उन्होंने समस्या के निराकरण का आश्वासन भी दिलाया लेकिन आज तक ट्रांसफार्मर नहीं लग सका है। गांव के लोगों ने प्रदर्शन कर अधिक क्षमता का ट्रांसफार्मर लगवाए जाने की मांग की है। प्रदर्शन के दौरान छोटेलाल, वारिस, सर्वेश कुमार, अशोक कुमार, अनिल कुमार, सुधीर, परशुराम तिवारी, रामऔतार, इलियास, बहोरन लाल, जसवंत आदि मौजूद रहे।



लाखों रुपये के बिजली
तार काट ले गए चोर
तीन वर्ष पूर्व पुवायां बंडा के बीच खींचे गए थे तार
- 33 हजार केवीए की थी लाइन
अमर उजाला नेटवर्क
पुवायां। बंडा में बिजली व्यवस्था के सुधार को डाली गई बिजली लाइन के लाखों के तार चोरों ने काट लिए। काफी समय से चल रहे बिजली तार चोरी के इस मामले की ओर पुलिस और विभागीय अधिकारियों ने कभी ध्यान देने की जरूरत नहीं समझी।
बंडा के बिजली केंद्र को 66 हजार क्षमता की बिजली लाइन से सप्लाई दी जाती है। लगभग तीन वर्ष पूर्व लोड को देखते हुए बिजली केंद्र में 33 हजार क्षमता का एक ट्रांसफार्मर लगाया गया था। इसको बिजली सप्लाई देने के लिए विद्युत माध्यमिक कार्य खंड बरेली को लाइन निर्माण का जिम्मा सौंपा गया। कई लाख रुपये की लागत से पुवायां से बंडा तक 33 हजार क्षमता की एक बिजली लाइन डाली गई। लाखों रुपये की कीमत से डाली गई यह बिजली लाइन ज्यादा दिन तक उपयोग में नहीं लाई जा सकी। तकनीकि दृष्टि से खामियों से भरी इस लाइन को बाद में बंद कर दिया गया। आंधी आदि में लाइन टूट गई और इसके तार नीचे गिर गए। विभाग ने इस ओर ध्यान देने की जरूरत नहीं समझी।
लाइन बंद होने की जानकारी मिलते ही चोरों ने इसे निशाना बनाना शुरू कर दिया। लाइन में खिंचे बेहद कीमती तार को काट कर बिक्री कर दिया गया। अब हालत यह है कि पोल के पास तारों के छोटे छोटे टुकड़े ही लटकते नजर आते हैं। शेष तार चोरी हो चुका है। इस प्रकार बंडा की बिजली व्यवस्था में सुधार लाने की महत्वपूर्ण योजना लाखों रुपये की चपत लगाने के साथ ही ठंडे बस्ते में चली गई।


‘पुवायां से बंडा को 33 हजार क्षमता की लाइन गलत तरीके से बना दी गई थी। तकनीकि दृष्टि से पूरी तरह खामियों से भरी यह लाइन पेड़ों के बीच से बनी थी, जिस कारण इसका चलना संभव नहीं था। इस बिजली लाइन को हैंडओवर ही नहीं किया गया। लाइन बंद होने के कारण तार आदि चोरी हुए हैं।’
- एसके श्रीवास्तव, अधिशासी अभियंता विद्युत वितरण खंड प्रथम शाहजहांपुर

Spotlight

Most Read

National

तीन करोड़ वाले टेबल के चक्कर में फंसा AIIMS, प्रधानमंत्री मोदी से शिकायत

आरोप है कि निविदा में दी गई शर्तों को केवल यूके की कंपनी ही पूरा कर सकती है। इस कंपनी ने टेबल की कीमत तीन करोड़ रुपये तय की है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper