गन्ने के खेत में नहीं, नदी के दूसरी तरफ से छूटा रामसुख

Shahjahanpur Updated Tue, 04 Dec 2012 05:30 AM IST
नाव पर बैठाकर परिजनों को दी गई सुपुर्दगी
- एसओ बंडा पर झूठ बोलने का आरोप
- डीआईजी से की मामले की शिकायत
अमर उजाला नेटवर्क
बंडा। गांव कुरसंडा से अपहृत रामसुख को पुलिस ने गन्ने के खेत से बरामद नहीं किया है। बदमाश पुलिस के दबाव से उसे छोड़कर फरार भी नहीं हुए थे। बदमाशों ने 17 लाख रुपये फिरौती लेने के बाद उसे रामगंगा के दूसरी ओर से नाव पर बैठाकर छोड़ा था। ‘पकड़’ छूटने के मामले में अधिकारियों को गुमराह करने और झूठा श्रेय बटोरने के लिए एसओ बंडा राजेश मौर्या की शिकायत डीआईजी से की गई है।
गौरतलब है कि गांव गुरसंडा रायपुर के हरिधाम के पुत्र रामसुख का तीन नवंबर को एक दर्जन से अधिक बदमाशों ने शस्त्रों की नोक पर अपहरण कर लिया था। पहले तो पुलिस मामले को अपहरण मानने को तैयार ही नहीं हुई। बमुश्किल चार दिन बाद रिपोर्ट दर्ज की गई, लेकिन उसके बाद अपहरणकर्ताओं की तलाश की पूरी कहानी संदेह के घेरे में रही।
आज अपने आवास पर पत्रकारों से बात करते हुए रामसुख और उसके पिता हरिधाम ने रोते हुए बताया कि उनकी दो एकड़ जमीन बिक गई। पांच एकड़ जमीन गिरवी डालनी पड़ी और रिश्तेदारों से भी कर्ज लिया गया, तब कहीं जाकर 17 लाख रुपये की रकम जुट सकी। पुलिस और एसओजी एक माह तक लड़के को छुड़ाने का नाटक करती रही और अब पुलिस के दबाव में बदमाशों के भाग जाने और पुत्र को गन्ने के खेत से बरामद करने का कुप्रचार कर रही है।
उन्होंने बताया कि लड़के को रामगंगा के दूसरी तरफ रखा गया था। रुपये देने के बाद पुत्र को नाव पर बैठाकर दूसरी तरफ भेजा गया। जहां से वह लोग उसे शनिवार की रात ही घर ले आए थे। रविवार को पुलिस उसे कटरी ले गई और बरामदगी का नाटक रच दिया। इस मामले से डीआईजी को अवगत कराते हुए एसओ बंडा की शिकायत की गई है। डीआईजी ने मामले की जांच कराए जाने का भरोसा भी दिलाया है।


बारात का कार्यक्रम भी टला
बंडा। रामसुख की बारात अपहरण की घटना से पहले ही तय हो गई थी। चार दिसंबर को उसकी बारात जानी थी। अपहरण के बाद बारात के कार्यक्रम को टाल दिया गया। हरिधाम का कहना है कि उनके पास मात्र पांच बीघा जमीन बची है। शेष भूमि पुत्र को छुड़ाने में या तो बिक गई या गिरवी रखनी पड़ी है। ऐसे में बारात आदि का खर्च उठा पाना संभव नहीं है। उधर, लड़के की मानसिक स्थिति भी अभी ठीक नहीं है। वधू पक्ष के लोग भी शादी कार्यक्रम आगे बढ़ाने पर सहमत हो गए हैं।


दो और लोगों के
अपहरण की धमकी
रामसुख के अपहरण में एक बदमाश बबलू का नाम सामने आया है। बताया जाता है कि अपहरण के मामले में वहीं मुख्य साजिशकर्ता था। रामसुख की पैरवी से नाराज उसके दो रिश्तेदारों को उसने फोन कर अपहरण कर लेने की धमकी दी है।






फिरौती की रकम मिलने के बाद किया जाता है ऐसा

‘पकड़’ छूटने का संकेत है
चोटी के पास कटे बाल
- कटरी में नहीं पकड़ेंगे दूसरे बदमाश
- कटरी में गठित हुए बदमाशों के नए गैंग
- सभी में है आपस में अच्छा तालमेल
अमर उजाला नेटवर्क
पुवायां। जेल से रिहाई होने पर रिहा कैदी के हाथ पर एक मोहर ठोंक दी जाती है। इसका जो भी मतलब हो, लेकिन बताया जाता है कि इस मोहर के लगने के बाद कैदी बस और ट्रेेन आदि में बिना टिकट जा सकता है। पकडे़ जाने पर वह हाथ पर लगी मोहर दिखा देता है। कटरी के बदमाशों ने ‘पकड़’ को छोड़ते समय ऐसी ही व्यवस्था कर रखी है। बदमाश फिरौती के बाद छोड़े गए व्यक्ति की चोटी के पास बाल काट देते हैं। कटरी में फिर कोई भी ऐसे व्यक्ति को बिना सवाल-जवाब जाने देता है।
बंडा के गांव कुरसंडा रायपुर के रामसुख ने कुछ ऐसी ही कहानी बयां की है। उसके सिर में चोटी के पास बाल कटे हुए हैं। रामसुख ने बताया कि कटरी के जिस गैंग ने उसका अपहरण किया था उसमें दो दर्जन से अधिक बदमाश हैं। सब के सब असलहों से लैस। सभी बदमाश बेहद शातिर हैं और पुलिस से आगे की सांच रखते हैं। उसके पिता और फूफा जब फिरौती लेकर परौर क्षेत्र में पहुंचे तो केवल एक बदमाश रुपये लेने गया था। वह बदमाश भी अपने साथियों के लगातार संपर्क में था। उसे रामगंगा के दूसरी तरफ रखा गया था। फिरौती की रकम मिल जाने और रुपये सुरक्षित स्थान पर पहुंच जाने के बाद बदमाशों ने उसकी चोटी के पास के बाल मूड़ने शुरू कर दिया। बताया गया कि यदि कटरी क्षेत्र में कोई रोकने की कोशिश करे तो उसे अपना सिर दिखा देना। इससे यहां घूम रहे बदमाश समझ जाएंगे कि उसे छोड़ दिया गया है। अन्यथा उसे भागा हुआ समझकर पकड़ा और मारा जा सकता है। बाद में उसे नाव पर बिठाकर पिता और फूफा के पास भेज दिया गया। उसने बताया कि कटरी के बदमाश गिरोहों के बीच आपस में अच्छा तालमेल है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

शिवपाल के जन्मदिन पर अखिलेश ने उन्हें इस अंदाज में दी बधाई, जानें- क्या बोले

शिवपाल यादव ने अपने समर्थकों संग लखनऊ स्थित आवास पर जन्मदिन मनाया। अखिलेश यादव ने उन्हें मीडिया के माध्यम से बधाई दी।

22 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper