क्या इतने संवेदनहीन हो गए मोहनपुर वाले

Shahjahanpur Updated Thu, 29 Nov 2012 12:00 PM IST
शव पर कफन तक की नहीं हो सकी व्यवस्था
- एसओ के खुटार से चादर भिजवाने के बाद पीएम को गया शव
अमर उजाला नेटवर्क
खुटार। क्या गांव मोहनपुर के लोग इतने संवेदनहीन हो गए हैं कि शव को ढकने के लिए कफन तक नहीं दे सके। इस सवाल का जवाब हां में है। आज पुलिस ने शव को पीएम के लिए भेजने की व्यवस्था की तो मामला कफन पर आकर अटक गया। गांव के लोगों से पुलिस ने एक चादर की व्यवस्था करने को कहा, लेकिन अफसोस की बात है कि तमाम धनाढ्यों के इस गांव में किसी के हाथ कफन के लिए नहीं बढ़ सके।
सुबह पुलिस गांव पहुंची और शव को पीएम के लिए भिजवाने की तैयारी करने लगी। मृतक के घर कोई ऐसा कपड़ा नहीं निकला जिसे कफन के रूप में उपयोग में लाया जा सके। मौके पर गांव के लोगों की भारी भीड़ जमा थी। पुलिस ने शव ढकने के लिए एक चादर की मांग तो लोग एक दूसरे का मुंह ताकने लगे। धीरे धीरे लोग मौके से खिसकने लगे। बाद में एसओ संजय यादव खुटार आए और दुकान से चादर खरीदकर भिजवाई। इसके बाद शव को पीएम के लिए भेजा गया।


घर में चारपाई और बिस्तर तक नहीं
ब्रजमोहन के घर गरीबी का आलम यह था कि घर में चारपाई और बिस्तर तक नहीं था। हालांकि गरीबी का मुख्य कारण नशा और काम नहीं करना माना जा रहा है। परिवार के लोग जमीन पर धान का पैरा बिछाकर लेटते थे। जहां पर खाना बनाया जाता था वहां पर रखे तमाम खाली डिब्बे ब्रजमोहन के घर की गरीबी बयान करने के लिए काफी हैं।



पोस्टमार्टम के लिए भेजा
गया ब्रजमोहन का शव
मंगलवार को फांसी लगाकर दे दी थी जान
- एसडीएम सहित तहसील कर्मी पहुंचे गांव
- मृतक के परिजनों को दी पांच हजार की मदद
अमर उजाला नेटवर्क
खुटार। गांव मोहनपुर के ब्रजमोहन का शव आज पुलिस ने कब्जे में लेकर पीएम को भिजवा दिया। एसडीएम भरतलाल सरोज, नायब तहसीलदार, कानूनगो और लेखपाल ने भी गांव पहुंचकर मौत के मामले में जानकारी ली। एसडीएम ने मृतक के परिजनों को पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता भी दी है।
गौरतलब है कि 35 वर्षीय ब्रजमोहन ने बीते दिवस घर में फांसी लगाकर जान दे दी थी। इस परिवार के दो सदस्य फांसी लगाकर और तीन महिलाएं आग लगाकर जान दे चुकी हैं। मामले की खबर आज अमर उजाला में प्रमुखता से छपी तो प्रशासनिक अधिकारी गांव पहुंचे। एसओ संजय यादव ने भी गांव पहुंचकर शव को कब्जे में लिया और पीएम के लिए भिजवाया। गांव के लोगों ने एसडीएम को बताया कि गांव के लोगों के आत्महत्या के पीछे मुख्य वजह नशा है। गांव के पास कच्ची शराब बनाने के तमाम कारखाने चल रहे हैं। जिससे युवा पीढ़ी नशे का सेवन का बर्वाद हो रही है।
ब्रजमोहन भी नशे आदि के चलते काम नहीं करता था, जिस कारण परिवार के लोग बेहद गरीबी में गुजर कर रहे थे। कुछ दिन पूर्व उसकी पत्नी को मायके के लोग विदा करा ले गए थे। मृतक अपने पिता और भाईयों से अलग रहता था।
उधर, आज डॉ. हिमांशु शेखर और फार्मेसिस्ट सतीश जोशी ने शव का पीएम किया। पोस्टमार्टम में मौत का कारण हैंगिंग बताया गया है। उसके पेट में पचा हुआ खाना भी पाया गया है। डॉक्टरों के अनुसार मौत से छह सात घंटे पहले मृतक ने भोजन किया था। ब्रजमोहन की पत्नी शिल्पी का रो रोकर बुरा हाल है।




बूढ़े कंधों और विकलांग
पैरों पर बढ़ी जिम्मेदारी
दो पौत्रों का पहले से ही पालन कर रहे हैं देव शर्मा
- मृतक के दो बच्चों का भी करना पड़ेगा पालन
अमर उजाला नेटवर्क
खुटार। मृतक ब्रजमोहन के पिता देव शर्मा अपनी किस्मत को कोसते हुए नहीं थक रहे थे। पत्नी, दो पुत्र और तीन बहुओं की उनके सामने हुई मौत ने उन्हें तोड़कर रख दिया है। ब्रजमोहन की मौत के बाद उनके बूढ़े कंधाें पर और ज्यादा जिम्मेदारी आ गई है।
देव शर्मा कुछ वर्ष पूर्व मार्ग दुर्घटना के बाद अपना पैर गवां बैठे थे। अब वह बैशाखी के सहारे चल पाते हैं। उनके तीन पुत्र थे। पत्नी रामलली ने फांसी लगाकर जान दे दी थी। ब्रजमोहन की दो पत्नियों की भी आग से जलकर मौत हुई। एक पुत्र आजाद और उसकी पत्नी ने गरीबी के चलते इलाज नहीं होने पर दम तोड़ दिया और बीते दिवस दूसरा पुत्र भी फांसी लगाकर चल बसा। देव शर्मा अपने पुत्र आजाद की मौत के बाद उसके पुत्र हर्षित और पुत्री स्वाति का पालन पोषण कर रहे हैं। अब ब्रजमोहन के पुत्र चार वर्षीय अंकुश और पांच वर्ष की मुस्कान के भरण पोषण का जिम्मा भी उनके ऊपर आ गया है। ब्रजमोहन की पहली पत्नी मनोरमा के दो बच्चे अपने मामा के पास रहते हैं।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

16 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी मे यहां बीजेपी के चेयरमैन 26 जनवरी को मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में बीजेपी के चेयरमैन ने लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। देखिए कहां हुई चूक।

7 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper