न्यूनतम योग्यता वाले मानव का अधिकार है मानवाधिकार

Shahjahanpur Updated Sun, 25 Nov 2012 12:00 PM IST
शिक्षाविदों ने अपने ढंग से बताई मानवाधिकार की परिभाषा
- एसएस विधि महाविद्यालय में वर्तमान परिदृश्य में मानवाधिकारों के उदीयमान आयाम विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी
सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। स्वामी शुकदेवानंद विधि महाविद्यालय में दोे दिनी राष्ट्रीय संगोष्ठी आरंभ होेे गई। संगोष्ठी में डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय पूर्व उप कुलपति डॉ. एसके भटनागर ने कहा कि मानवाधिकार मानव के प्रारूप में जन्म लेने वाले प्रारूपिक मानव का अधिकार नहीं, वरन यह मानव की न्यूनतम योग्यता को धारण करने वालेेे योग्य मानव का अधिकार है।
डॉ. भटनागर वर्तमान परिदृश्य में मानवाधिकारों के उदीयमान आयाम विषयक संगोष्ठी में बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे। कहा: मानवता धारित करने वाला योग्य मानव ही मानव अधिकारों की विषय वस्तु है। अविवाहित सहचर्य, समलैंगिकता, स्त्री स्वतंत्रता के नाम पर तथा स्वयं उन्नति के पर्यावरण की क्षति जैसी संकल्पनाओं को मानवाधिकारों से जोेड़ते हुए उन्होंने कहा कि यदि हम मानवीयता की न्यूनतम योग्यता से सुसज्जित मानव के लिए मानवाधिकार की संकल्पना को साकार कर पाएं तो वर्तमान परिदृश्य में मानवाधिकारों के उल्लंघन की कोई घटना ही नहीं होगी।
पूर्व गृह राज्यमंत्री स्वामी चिन्मयानंद सरस्वती ने मानवाधिकारों केनाम पर सरकारों द्वारा बरती जा रही पक्षपात पूर्ण नीतियों को दोषी ठहराया। कहा: वर्तमान सरकार एक अशिक्षित एवं बेकारी से त्रस्त अजमल कसाब को मानवाधिकारों के उल्लंघन केकारण मौत की सजा देती है, लेकिन दूसरी ओर प्रक्रियाजनित मानावाधिकारों केनाम पर अफजल गुरु के साथ उदारता का व्यवहार कर रही है। संगोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए वर्धमान विश्वविद्यालय पश्चिम बंगाल के विधि विभागाध्यक्ष प्रो. शिव सहाय सिंह नेेे कहा: प्रकृति केेअनुसार जीवन व्यतीत करना ही मानवाधिकारों के संरक्षण की गारंटी हो सकती है। कहा: यदि मानव अपनी सहज सामाजिक प्रकृति केअनुसार आचरण करे तो उसमें सहनशीलता एवं संयम का विकास स्वमेव हो जाएगा।
वरिष्ठ प्रवक्ता डॉ. जयशंकर ओझा के संचालन में हुई संगोष्ठी में हरिचरन सिंह यादव ने स्वागत भाषण और नलनीश चंद्र ने अतिथि का परिचय दिया। पहले दिन के समापन पर प्राचार्य डॉ. संजय वरनवाल ने आभार व्यक्त किया। आयोजन में डॉ. अनिरुद्घ सिंह, आशीष त्रिपाठी, नीरज पाठक, डॉ. रघुवीर सिंह, गौरव गुप्ता, अमित सैनी, दिनेश सिंह, अमित सिंह, अशोक कुमार, डॉ. दीप्ति गंगवार, रंजना खंडेलवाल, अमित यादव, अमरेंद्र सिंह, वीरेंद्र सिंह यादव आदि का योगदान रहा।


इन शिक्षाविदों की भी रही सहभागिता
संगोष्ठी में लखनऊ विश्वविद्यालय के डॉ. राजबली जैशल, डॉ. मुहम्मद अहमद, डॉ. कमाल अहमद, डॉ. वंशीधर सिंह, डॉ. राज कुमार,, डॉ. हरिश्चंद्र, टीडी कालेज जौनपुर के डॉ. संतोष सिंह, डॉ. यशवंत सिंह, कानपुर से डॉ. विनोद कुुुुुमार, डॉ. अजय भूपेंद्र जायसवाल, इलाहाबाद विश्वविद्यालय से डॉ. रोशन लाल, भीमराव अंवेडकर विश्वविद्यालय से डॉ. नीलकंठ पांडेय, डॉ. मृत्युंजय कुमार राय, मनोज राय, हेमवली नंदन, केंद्रीय विश्वविद्यालय से डॉ. एके पांडेय, बीएचयू के आदर्श मौर्य आदि भी शामिल हुए।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश: कांग्रेस ने लहराया परचम, 24 में से 20 वॉर्ड पर कब्जा

मध्यप्रदेश के राघोगढ़ में हुए नगर पालिका चुनाव में कांग्रेस को 20 वार्डों में जीत हासिल हुई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

शाहजहांपुर के अटसलिया गांव में नहीं हो रही लड़कों की शादी, ये है वजह

केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर जिले में एक गांव ऐसा है जहां महिलाओं को आज भी खुले में शौच जाना पड़ता है।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper