राम के वियोग में पिता दशरथ ने त्याग दिए प्राण

Shahjahanpur Updated Fri, 19 Oct 2012 12:00 PM IST
शाहजहांपुर। नगर और ओसीएफ रामलीला में गुरुवार का दिन विषाद से भरा रहा। दोनों ही आयोजनों में पुत्र वियोग में पिता दशरथ ने तड़प-तड़प कर प्राण त्याग दिए। इस दौरान प्रसंग से जुड़ अन्य लीलाओं का भी प्रभावी मंचन किया गया।
नगर रामलीला में दर्शकों की भीड़ में खासा इजाफा होने लगा है। भीड़ को देखते हुए आयोजकों ने महिलाओं और पुरुषों के बैठने की व्यवस्था भी अलग-अलग कर रखी है। इस दौरान राम, सीता और लक्ष्मण के वन जाने के बाद राजा दशरथ ने पुत्र वियोग में प्राण त्याग दिए। भाई के वन जाने और पिता की मृत्यु का समाचार सुनकर ननिहाल से भरत बुला लिए गए। भरत का माता कैकेयी से संवाद और चित्रकूट में भाई राम से मिलन लीला का प्रभावी मंचन देख दर्शकों की भी आंखें छलछला आईं। लीला मंचन में सचिन शर्मा, विनीत सक्सेना, कृष्ण मोहन शर्मा, मुकेश, मनोज राना, अनूप, संजय सक्सेना, मनोज मौर्या, विवेक टिकैत आदि शामिल रहे। इससे पूर्व डॉ. रोहित चौधरी-डॉ. अपर्णा चौधरी, वीरेंद्र गुप्ता-पुष्पा गुप्ता, विनोद अग्रवाल-मीरा अग्रवाल, मुकेश अग्रवाल-कल्पना अग्रवाल और सुरेंद्र सिंह सेठ सपरिवार माता वैष्णों देवी की झांकी की आरती उतार कर लीला का शुभारंभ किया।
उधर, ओसीएफ रामलीला में भी दशरथ मरण लीला का मंचन किया गया। इससे पूर्व गंगा पार करने के लिए राम की भेंट केवट से हुई। गंगा पार के बाद राम ने चित्रकूट में विश्राम किया। इसी बीच प्रिय पुत्र राम के वियोग में पिता दशरथ ने प्राण त्याग दिए। भरत ने चित्रकूट से राम को बुलाने का भरसक प्रयास किया, लेकिन राम ने पिता की आज्ञा को सर्वोपरि मानते हुए अयोध्या लौटने से मना कर दिया। भरत राम की खड़ऊं लेकर अयोध्या लौट आए। इस दौरान सीता श्रंगार लीला का मंचन भी सराहा गया।
मंचन से पूर्व फैक्ट्री के संयुक्त महाप्रबंधक और रामलीला कमेटी के चेयरमैन टीके साहा ने पत्नी के साथ नारियल फोड़कर लीला का शुभारंभ किया। मंचन में प्रमुख रूप से एपी सिंह-राम, श्रद्धा सक्सेना-सीता, देवेंद्र पाल-लक्ष्मण, रोहित सक्सेना-भरत, अमित अवस्थी-शत्रुघ्न, कल्याण राम-केवट के रूप में शामिल रहे।
000
रामलीला में आज
----------------
- ओसीएफ रामलीला में सूर्पणखा का पंचवटी में प्रवेश, सूर्पणखा नासिका भंग, खर-दूषण-त्रिषला वध, सीता हरण आदि लीलाओं का मंचन।
- नगर रामलीला में सूपर्णखा नासिका भंग, खर-दूषण वध, सीता हरण, सुतीक्ष्ण भक्ति, जटायु मरण आदि लीलाओं का मंचन।
000
ओसीएफ मेला में खाद्य पदार्थों की जांच
ओसीएफ मेला प्रदर्शनी में नगर मजिस्ट्रेट के निर्देश पर मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज कुमार सिंह ने टीम के साथ तमाम दुकानों का निरीक्षण कर दूषित खाद्य सामग्रीको नष्ट कराया। श्री सिंह ने बताया कि तमाम स्टालों पर आलू, प्याज, टोमाटो सॉस आदि दूषित पाए जाने पर उसे नष्ट करा दिया गया। उन्होंने अपनी रिपोर्ट सिटी मजिस्ट्रेट को सौंप दी है।
अजय


रेल अफसर नहीं चाहते सीआरएस का डिवीजनल दौरा
0 ताबड़तोड़ डिरेलमेंट पर जवाब तलब होने की आशंका
0 बरेली-रोजा रूट के बिजलीकरण का निरीक्षण प्रस्तावित
शाहजहांपुर। रेल संरक्षा आयुक्त के बरेली-रोजा रूट पर बिजलीकरण के प्रस्तावित निरीक्षण की तिथियां मुकदमें की तारीखों की तरह बार-बार आगे बढ़ रही हैं और रेल अफसर चाहते भी यही हैं। दरअसल, हाल ही में इसी रूट पर ताबड़तोड़ हुए कई डिरेलमेंट से खौफ खाए यहां के रेल अधिकारी नहीं चाहते कि सीआरएस एके कर्दम हाल-फिलहाल यहां आएं और एक्सीडेंट रजिस्टर तलब करके उनकी क्लास लें।
बता दें कि सीआरएस रोजा से लखनऊ तक विद्युतीकरण कार्य का निरीक्षण कर उसे फिटनेस दे चुके हैं। अब उन्हें बरेली से रोजा के बीच इलेक्ट्रिक ट्रेन का ट्रायल लेना है। माना जा रहा है कि यह रूट ओके होने के बाद बरेली से बनकर लखनऊ दिशा में जाने वाली अथवा विपरीत दिशा की बरेली में यात्रा समाप्त करने वाली ट्रेनों-मालगाड़यों का बिजली इंजन से संचालन संभव हो जाएगा। इस माह पहले सात और आठ और अब 19 अक्तूबर उनके दौरे की तिथि बताई जा रही थी, लेकिन उच्चपदस्थ रेल सूत्रों के अनुसार अभी मुरादाबाद के पास काफी काम अवशेष होने के कारण सीआरएस का जल्द आना संभव नहीं दिख रहा।
सूत्रों के अनुसार डिवीजन आफिस से सीआरएस के दौरे के पर्सनल मैसेज इसीलिए पास किए गए कि जो काम अधूरे हैं वे पूरे करने को स्टाफ जुट जाए। जो भी हो, रेल अफसरों में इस बात को लेकर काफी संतोष है कि सीआरएस का दौरा फिर टलने के आसार हैं। बता दें कि संरक्षा आयुक्त के दौरे की यहां के रेल अधिकारियों को न तो पहले कोई अधिकृत सूचना मिली और न बाद में, लेकिन मुरादाबाद के यूनियन स्टाफ से मिलने वाले मैसेज उच्चाधिकारियों के संभावित दौरों से यहां के अफसरों को सचेत करते रहते हैं।
0000000
‘मेरे चाहने-न चाहने से कोई फर्क नहीं पड़ता। मुझे न तो सीआरएस के आने की आफिशियल सूचना मिली और न ही उनका दौरा रद्द होने की। सभी अनुभागों में रोजमर्रा की तरह नियमित काम हो रहा है। हां, इतना तय है कि सीआरएस के दौरे के बाद ही इस रूट पर बिजली की ट्रेन दौड़ पाएगी।’
-एके गौतम, स्टेशन अधीक्षक, शाहजहांपुर
00000
‘मैं तो चाहता हूं कि सीआरएस मेरे स्टेशन पर आएं जिससे उन्हें बताया जा सके कि जिला प्रशासन और हाईडिल से लगातार पत्राचार के बावजूद गत 23 जुलाई से स्टेशन पर बिजली नहीं है। हालांकि, जनरेटर से एएसएम आफिस में लाइट और पंखा चलता है, लेकिन यार्ड में शंटिंग अंधेरे में होती है।’
ओमशिव अवस्थी, स्टेशन अधीक्षक, पं. रामप्रसाद बिस्मिलनगर

Spotlight

Most Read

Shimla

कांग्रेस के ये तीन नेता अब नहीं लड़ेंगे चुनाव, चुनावी राजनीति से लिया संन्यास

पूर्व मंत्री एवं सांसद चंद्र कुमार, पूर्व विधायक हरभजन सिंह भज्जी और धर्मवीर धामी ने चुनाव लड़ने की सियासत को बाय-बाय कर दिया है।

17 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी मे यहां बीजेपी के चेयरमैन 26 जनवरी को मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में बीजेपी के चेयरमैन ने लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। देखिए कहां हुई चूक।

7 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper