डीएम के सामने 27 सदस्यों की परेड

Shahjahanpur Updated Tue, 25 Sep 2012 12:00 PM IST
जिपं अध्यक्ष बहादुर लाल के खिलाफ सौंपा अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस
- लोनिवि बंगले पर जुटे 39 में से 27 सदस्य
- सपा सांसद के अलावा सभी विधायक रहे मौजूद
सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। बसपा के जिला पंचायत अध्यक्ष बहादुर लाल आजाद के खिलाफ कई दिनों से प्रतिक्षित अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस आखिर आज डीएम रितु माहेश्वरी को सौंप ही दिया गया। समाजवादी पार्टी के सभी स्थानीय दिग्गज नेताओं की मौजूदगी में जिला पंचायत के 27 सदस्यों ने शपथ पत्र के साथ यह नोटिस डीएम को सौंपा। जिसमें सभी ने एक जुट होकर अध्यक्ष बहादुर लाल आजाद के प्रति अविश्वास व्यक्त किया है।
सोमवार की सुबह जिला पंचायत सदस्य लोनिवि डाकबंगले पर इकट्ठे हुए थे। पंचायत के 39 सदस्यों में 27 मौजूद थे। खास बात यह रही कि सपा विधायक राजेश यादव और राममूर्ति सिंह के अलावा सांसद मिथलेश कुमार और उनकी पत्नी पुवायां विधायक शकुंतला देवी भी इस बैठक में मौजूद थीं। अपरान्ह 11.30 बजे सभी सदस्य व सपा नेता जुलूस की शक्ल में कलक्ट्रेट पहुंचे और डीएम रितु माहेश्वरी से मिले।
वरिष्ठ सदस्य हरिश्चंद्र वर्मा और नीरज मिश्रा ने अविश्वास प्रस्ताव की प्रति डीएम को सौंपी। साथ ही शपथपत्र देने वाले 27 सदस्यों की परेड भी डीएम के सामने कराई। लगभग दस मिनट की इस कार्यवाही के बाद सदस्यों ने डीएम से आग्रह किया कि सभी सदस्य जिला पंचायत अध्यक्ष से त्रस्त हैं लिहाजा कोई तारीख तय कर अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा व मतदान जल्द कराएं।
डीएम से मिलने वालों में सपा जिलाध्यक्ष प्रदीप पांडेय, पूर्व विधायक शरदवीर सिंह, अनवर अली, रिजवान, रामवीर सिंह सोमवंशी, विजेंद्र सिंह यादव, दिनेश एडवोकेट आदि भी मौजूद रहे। सपा विधायकों राजेश यादव व राममूर्ति सिंह वर्मा ने दावा किया है कि उनके साथ 32 सदस्य हैं किन्तु कुछ लोगों के शपथ पत्र नहीं बन सके थे।


ये सदस्य रहे शामिल
शपथ पत्र देने वालों ने गीता देवी, राम लडैते पाल, हरिश्चंद्र वर्मा, आशा यादव, राकेश यादव, बांके लाल, प्रद्युम्न शुक्ला, सतीश वर्मा, गीता देवी, श्यामलता, मिठन्ना, आयुष कुमार सिंह, प्रेमवीर सिंह, मायावती, उदयवीर, नीरज मिश्रा, क्षमा वर्मा, नीतू सिंह, आरती वर्मा, मुकेश कुमार दीक्षित, नीतिमा सिंह, सुनीता, सर्वेश कुमार, संतोष कुमारी, सुशीला देवी, महावीर सिंह, रंजोधा सिंह थे।

तीन महीने बाद परवान चढ़ी राजनीति
जिला पंचायत अध्यक्ष बहादुर लाल आजाद के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव की राजनीति पिछले तीन महीने पहले से चल रही थी। कई बैठकें हुईं किन्तु नतीजा कुछ नहीं निकला। गत 15 सितंबर को हुई बैठक के बाद यह मामला गरम पड़ा। किन्तु इस मुद्दे पर सपा नेताओं में मतभेद थे, लिहाजा एक पखवाडा इस गुत्थी को सुलझाने में लग गया। सोमवार को सपा नेताओं ने एकजुटता का परिचय देते हुए अविश्वास प्रस्ताव का नोटिस तो दे दिया। लेकिन अविश्वास प्रस्ताव के पारित होने और उसके बाद छह महीने के अंदर होने वाले चुनाव में सपा अपना अध्यक्ष बनवा सकेगी, इसको लेकर तमाम सवाल उठ रहे हैं।

Spotlight

Most Read

Varanasi

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

मतदाता पुनरीक्षण में लापरवाही, चार अफसरों को नोटिस

19 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी मे यहां बीजेपी के चेयरमैन 26 जनवरी को मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में बीजेपी के चेयरमैन ने लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। देखिए कहां हुई चूक।

7 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper