राष्ट्र की शक्ति हैं इंजीनियर : असीम डे

Shahjahanpur Updated Sun, 16 Sep 2012 12:00 PM IST
शाहजहांपुर। रोजा तापीय परियोजना में महान इंजीनियर एवं भारत रत्न सर मोक्षगुंडम विश्वैश्वरैया का जन्मदिवस इंजीनियर्स डे के रूप में मनाया गया। इस मैाके पर देश की इंजीनियरिंग क्षमता का लोहा पूरे विश्व को मनवाने वाले छह महान विभूतियों की जीवनी पर एक प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया।
परियोजना के निदेशक असीम डे ने सरस्वती और इंजीनियर विश्वैश्वरैया की प्रतिमा पर दीप प्रज्वलन और माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। स्व. विश्वैश्वरैया के जीवन पर एक डाक्युमेंट्री भी दिखाई गई। जिसके जरिये भारत रत्न स्व. विश्वैश्वरैया की उपलब्धियों और उनकी सरल जीवन शैली का वर्णन किया गया। निदेशक असीम डे ने कहा कि विश्वैश्वरैया भारतीय इंजीनियर्स के लिए प्रेरणास्त्रोत हैं। उन्होंने कहा कि किसी भी राष्ट्र की शक्ति और समृद्धि वहां की इंजीनियरिंग क्षमता पर निर्भर करती है। उन्होंने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम, होमी जहांगीर भाभा, वेरगिस कुर्रियन, कल्पना चावला, सुनीता विलियम्स सरीखे इंजीनियरों ने भारत को वैश्विक पटल पर गौरवान्वित किया है।
कार्यक्रम में परियोजना के 12 इंजीनियरों को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए प्रशस्ति पत्र व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। सम्मान पाने वाले में इंजीनियर मिल्की जैन, आकाश कुमार, अमित राय, सुजीत, अशोक कुमार सिंह, अनुराग शुक्ला, संकल्प चतुर्वेदी, अतुल निगम, सूरज एस, सुमित पवार, यादवेंद्र कुमार सिंह, बेग मुदस्सर अब्दुल सत्तार शामिल रहे। कार्यक्रम में परियोजना के उपाध्यक्ष सुब्रत घोष, एमएम मांजी, एचएस तोमर, एचपी सिंह, दीपक गर्ग, सुनील कुमार, चंद्र शेखर, सुनील रंजन व पुष्पेंद्र आदि भी मौजूद रहे। इस दौरान लगाई गई प्रदर्शनी में इंजीयिर मोक्ष गुंडम विश्वैश्वरैया, अब्दुल कलाम आजाद, होमी जहांगीर भाभा, ई श्रीधरन, वेरगिस कुरियन के जीवन पर आधारित प्रदर्शनी भी लगाई गई।
0000000000000000000000
फोटो 23
देश के पहले इंजीनियर थे विश्वैश्वरैया
इंजीनियर मोक्षगुंडम विश्वैश्वरैया के जन्म दिन को देश में इंजीनियर्स डे के रूप में मनाया जाता है। इंजीनियिरिंग के क्षेत्र में देश का पहला इंजीनियर विश्वैश्वरैया को माना जाता है। इनका जन्म 1860 में कर्नाटक में हुआ था। 1895 में उन्होंने सिंध से सुकार तक जल आपूर्ति के लिए काम किया। 1904 में वह लंदन इंस्टीट्यूट आफ इंजीनियरर्स के सदस्य चुने गए। 1909 में उन्होंने बाढ़ से रोकथाम के लिए हैदराबाद में बांध का निर्माण किया। 1912 में वह मैसूर के दीवान भी बनाए गए। भारत सरकार ने 1955 में उन्हें भारत रत्न से सम्मानित किया।

Spotlight

Most Read

Lucknow

1300 भर्तियों के मामले में फंसे आजम खां, एसआईटी ने जारी किया नोटिस

अखिलेश सरकार में जल निगम में हुई 1300 पदों पर हुई भर्ती को लेकर आजम खा के खिलाफ नोटिस जारी किया गया है।

16 जनवरी 2018

Related Videos

यूपी मे यहां बीजेपी के चेयरमैन 26 जनवरी को मनाएंगे स्वतंत्रता दिवस

26 जनवरी को पूरे देश में गणतंत्र दिवस मनाया जाता है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर में बीजेपी के चेयरमैन ने लोगों को स्वतंत्रता दिवस की बधाई दी है। देखिए कहां हुई चूक।

7 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper