व्यापारी पिता-पुत्र पर रिपोर्ट

Shahjahanpur Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
सैंपलिंग के दौरान खाद्य विभाग की टीम से अभद्रता का नतीजा
- खाद्य सुरक्षा आयुक्त ने दी वाद दायर करने की अनुमति
सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। खाद्य पदार्थों की सैंपलिंग के दौरान करीब ढाई माह पहले अफसरों से अभद्रता करना बहादुरगंज के व्यापारी पिता-पुत्र को अंतत: महंगा पड़ गया। इस मामले में प्रभारी मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज कुमार सिंह तोमर ने मंगलवार को दोनों के खिलाफ अतिरिक्त मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी प्रथम विष्णु चंद्र वैश्य के न्यायालय में खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम-2006 के तहत मुकदमा दायर कराया है।
बता दें कि गत नौ जून को सिटी मजिस्ट्रेट गौरव वर्मा के नेतृत्व इंचार्ज सीएफएसओ श्री तोमर विभागीय टीम के साथ खाद्य वस्तुओं के नमूने लेने शहर में निकले थे। बहादुरगंज मेन मार्केट के किराना व्यापारी मैसर्स आत्माराम ओमप्रकाश के प्रतिष्ठान पर जाकर टीम ने छत पर रखे टैंकर से सरसों के तेल का नमूना लिया। इस दौरान दुकान की गद्दी संभाले अनिल अग्रवाल ने अपने पिता ओमप्रकाश की मौजूदगी में न केवल इस कार्यवाही का विरोध किया, फोन करके कई व्यापारी नेताओं को मौके पर बुला लिया।
व्यापारियों के हंगामा करने पर सिटी मजिस्ट्रेट समेत कई अफसर धक्का-मुक्की के शिकार हुए। टीम का आरोप है कि इसी दौरान दुकान स्वामी के बेटे अनिल ने सीएफएसओ के हाथ से सरसों तेल का नमूना छीन लिया। नतीजे में अफसरों को वहां से बैरंग लौटना पड़ा। श्री तोमर ने इस पूरे प्रकरण की रिपोर्ट प्रदेश के खाद्य सुरक्षा आयुक्त संजय अग्रवाल को भेजकर अग्रिम कार्यवाही के बारे में दिशा निर्देश देने का अनुरोध किया था।
सीएफएसओ के अनुसार खाद्य सुरक्षा आयुक्त के अनुमोदन पर व्यापारी पिता-पुत्र ओमप्रकाश और अनिल के खिलाफ खाद्य सुरक्षा एवं मानक अधिनियम की धारा 62 के तहत एसीजेएम फर्स्ट कोर्ट में मुकदमा दायर कराया गया है। इस धारा के तहत अधिकारी को काम करने से रोकने पर दंड का विधान किया गया है।


पॉवर प्रोजेक्ट की
कैंटीन का चालान
खाद्य विभाग की टीम ने मंगलवार को रिलायंस थर्मल पॉवर प्रोजेक्ट की कैंटीन पर छापा मारा। संचालक द्वारा खाद्य वस्तुओं की बिक्री का लाइसेंस प्रस्तुत नहीं करने पर कैंटीन का चालान कर दिया गया।
प्रभारी मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी मनोज कुमार सिंह तोमर के अनुसार बरेली शहर के मोहल्ला सिकलापुर निवासी रिंकू जायसवाल पिछले दो साल से बगैर लाइसेंस कैंटीन चला रहा था। परियोजना प्रबंधक से पत्राचार करके इस आशय का अनुरोध किया जा रहा है कि खाद्य विभाग से बिक्री लाइसेंस जारी होने के बाद ही कैंटीन संचालित कराई जाए।




मिलावटखोरी में तीन
दुकानदारों पर जुर्माना
शाहजहांपुर। अपर जिला मजिस्ट्रेट (प्रशासन) राजाराम ने मंगलवार को अपमिश्रित खाद्य पदार्थों की बिक्री करने के मामले में दर्ज तीन मुकदमों का निस्तारण करते हुए संबंधित विक्रेताओं को हजारोें रुपये अर्थदंड की सजा सुनाई है।
खाद्य विभाग के अधिकारिक सूत्रों के अनुसार चौक क्षेत्र के मोहल्ला मतानी निवासी नन्हें पुत्र रामऔतार की दुकान से नमकीन, पसगवां (खीरी) क्षेत्र के बन का गांव निवासी मतलूब पुत्र जाहिद अली से दूध और कांट क्षेत्र के गांव अकर्रा रसूलपुर निवासी सुरेश राठौर पुत्र रामरतन से जलेबी केे नमूने लिए गए। राजकीय जनविश्लेषक की प्रयोगशाला जांच में तीनों नमूने फेल होने पर एडीएम कोर्ट में वाद दायर किए गए थे। एडीएम ने नन्हें और सुरेश पर 2500-2500 रुपये और मतलूब पर दो हजार रुपये जुर्माना डाला है। जुर्माना की रकम अदा नहीं किए जाने की दशा में प्रतिवादियों के खिलाफ आरसी जारी कर दी जाएगी।

Spotlight

Most Read

Dehradun

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

आरटीओ में गोलमाल, जांच शुरू

21 जनवरी 2018

Related Videos

शाहजहांपुर के अटसलिया गांव में नहीं हो रही लड़कों की शादी, ये है वजह

केंद्र सरकार खुले में शौच से मुक्ति दिलाने के लिए स्वच्छ भारत मिशन के तहत करोड़ों रुपये खर्च कर रही है, लेकिन यूपी के शाहजहांपुर जिले में एक गांव ऐसा है जहां महिलाओं को आज भी खुले में शौच जाना पड़ता है।

20 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper