आपका शहर Close

कौन जीते सोने-चांदी के पदक

Shahjahanpur

Updated Mon, 13 Aug 2012 12:00 PM IST
न खेलने को मैदान है, न ही खिलाने को प्रशिक्षक
- खेलों में राजनीतिक दखलंदाजी ने भी डुबोई लुटिया
सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। ‘बड़े बे-आबरू होकर तेरे कूंचे से हम निकले’ ये कहावत लंदन ओलंपिक में सवा करोड़ भारतीयों का प्रतिनिधित्व करने गए खिलाड़ियों के दल पर सटीक बैठ रही है। ओलंपिक में जिस-जिस खिलाड़ी से एक अदद पदक की आस लगाई गई, उसने अगले ही मुकाबले में वह आस तोड़ दी और शर्म से सिर झुकाए हमारे ‘रणवांकुरे’ मैदान से बाहर निकलते रहे। नामी-गिरामी खिलाड़ियों के अप्रत्याशित प्रदर्शन कहीं न कहीं खेलों की नर्सरी कमजोर होने की ओर इशारा कर रहे हैं।
वैसे सरकार ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए खेल एवं शारीरिक शिक्षा को अनिवार्य कर दिया है, लेकिन इससे समस्या का समाधान होना नाकाफी है। कारण यह कि कॉलेजों के पास न तो अपने खेल मैदान हैं और न ही कुशल प्रशिक्षक। अब बिना मैदान और प्रशिक्षक के अनिवार्य विषय क्या करे। अपने जनपद की तो स्थिति बहुत ही खराब है। बता दें कि एबी रिच इंटर कॉलेज का अपना खेल मैदान है, जो कॉलेज से दूर तो है ही साथ ही मैदान पूर्ण रूप से घासविहीन है। कंकरीट से पटे मैदान में कॉलेज के छात्र तो खेलने जाते ही नहीं, हां मुहल्ले के कुछ बच्चे जरूर ऊधम काटते देखे जा सकते हैं।
इसी तरह राजकीय इंटर कॉलेज का मैदान है, जो रामलीला मैदान से जाना जाता है। यहां कभी खेलों के आयोजन नहीं होते, बल्कि राजनैतिक रैलियां और धरना-प्रदर्शन ही होते रहते हैं। राजकीय स्टेडियम शहर से इतनी दूर है कि वहां स्कूली बच्चे जाने से कतराते रहते हैं। यहां तक जाने को कोई साधन भी नहीं है।
अब ऐसी परिस्थितियों में खिलाड़ी कहां से तैयार हों। बेसिक से लेकर माध्यमिक तक खेल मैदानों और प्रशिक्षकों का अभाव है। केवल खेलकूद रैलियों में ही विद्यार्थियों को किस्मत आजमाते देखा जा सकता है। यहां भी वे राजनीति के शिकार होते रहते हैं। शिक्षकों का ध्यान खेल पर कम अपने स्कूल के बच्चे जिताने में अधिक रहता है।



‘बेसिक से लेकर ऊपर तक खेल मैदानों और कुशल प्रशिक्षकों का अभाव है। जब खेल की नर्सरी ही कमजोर होगी तो अच्छे खिलाड़ी कहां से आएंगे। ग्रामीण क्षेत्र में प्रतिभाएं भरी पड़ी हैं। जरूरत है ऐसी प्रतिभाओं को तलाशने और तराशने की। जब तक व्यवस्था में सुधार नहीं होता, तब तक किसी प्रकार के पदक की आस करना भी बेमानी है।’
- शरद कुमार सक्सेना, प्रधानाचार्य रेलवे कॉलेज रोजा



‘बड़े आयोजनों के लिए खिलाड़ियों का चयन राजनीति से प्रेरित होता है। दमखम रखने वाले होनहार खिलाड़ी रह जाते हैं। जरूरी है कि शिक्षा के साथ खेलों पर भी शुरू से ही ध्यान दिया जाए, ताकि खिलाड़ियों की नर्सरी मजबूती से फल-फूल सके। स्कूलों और स्टेडियम में अच्छे कोच नियुक्त किए जाएं। नौकरियों और स्कूलों में खेलों का कोटा भी निर्धारित हो।’
- डॉ. अमीर सिंह, प्रधानाचार्य डीएस इंटर कॉलेज
Comments

Browse By Tags

gold medal-silver

स्पॉटलाइट

सामने आया राधिका आप्टे का नया हॉट फोटोशूट, न्यूड सीन से आईं थी चर्चा में

  • शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017
  • +

NSPCL में एग्जीक्यूटिव के पद पर वैकेंसी, ऑनलाइन करें आवेदन

  • शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017
  • +

सलमान ने एक और भाषा में किया 'स्वैग से स्वागत', मजेदार है यह नया वर्जन, देखें वीडियो

  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

PHOTOS: शादी पर खर्चे थे 100 करोड़ सोचिए रिसेप्‍शन कैसा होगा, पूरा कार्ड देखकर लग जाएगा अंदाजा

  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

अनुष्‍का की शादी में मेहमानों पर 'विराट' खर्च, दिया कीमती गिफ्ट, वेडिंग प्लानर ने खोले कई और राज

  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

Most Read

'मजेदार' अंग्रेजी से लालू ने कसा भाजपा पर तंज, लिखा- ना करना भूल, चटाना धूल

Gujarat Vidhan Sabha Election: lalu prasad yadav attacks BJP gujarat election 2017
  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

नसीमुद्दीन, राजभर और मेवालाल सहित 22 बसपा नेताओं के खिलाफ चार्जशीट तैयार, लगेगा पॉक्सो

chargesheet prepared against nasimuddin and other BSP leaders.
  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

CM योगी की तस्वीर से सांकेतिक विवाह करने वाली महिला पर देशद्रोह का केस, 14 दिन जेल

woman who did marriage with yogi adityanath pic sent to jail.
  • रविवार, 10 दिसंबर 2017
  • +

अभी 'पप्पू' को अपग्रेड होने में समय लगेगा- एग्जिट पोल पर बीजेपी मंत्री का बयान

Chhattisgarh Minister Brijmohan Agrawal Comment on rahul gandhi Gurarat election exit polls 2017
  • गुरुवार, 14 दिसंबर 2017
  • +

गोलियों की तड़तड़ाहट से दहला आईएफटीएम, कांपे छात्र 

firing in university
  • मंगलवार, 12 दिसंबर 2017
  • +

अमरनाथ यात्रा के दौरान नहीं लगा सकेंगे जयकारे, मोबाइल और घंटी बजाने पर पाबंदी

 NGT directs Shrine board that no chanting of 'mantras' and 'jaykaras' in Amarnath
  • बुधवार, 13 दिसंबर 2017
  • +
Top
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper
Your Story has been saved!