श्रीराम जन्म का प्रसंग सुनकर श्रोता हुए भाव विभोर

Shahjahanpur Updated Thu, 24 May 2012 12:00 PM IST
शाहजहांपुर। बारादरी पक्का तालाब स्थित शिवमंदिर पर चल रही श्री रामकथा में कथा व्यास रामकुमार मिश्र ने राम जन्म का प्रसंग सुनाकर श्रोताओं को भाव-विभोर कर दिया।
श्री मिश्र ने सुनाया राजा दशरथ और कौशल्या जब पूर्व जन्म में मनु सतरूपा थे तब उनके तप से प्रसन्न होकर भगवान विष्णु ने उन्हें वरदान दिया था कि वे उनके अगले जन्म में अंशों सहित उनके पुत्र बनेंगे, परंतु दशरथ का चौथापन आने के बाद भी जब उनके यहां कोई पुत्र नहीं हुआ तो गुरु वशिष्ठ के निर्देश पर उन्होंने श्रंगी ऋषि से पुत्रेष्टि यज्ञ कराया। यज्ञ से अग्नि देव खीर लेकर प्रकट हुए और राजा को देकर बोले कि इसे अपनी तीनों रानियों में यथायोग्य बांट दो। दशरथ ने वैसा ही किया। खीर खाकर तीनों रानियां गर्भवती हुईं और समय पूर्ण होने पर कौशल्या ने राम, कैकेयी ने भरत तथा सुमित्रा ने लक्ष्मण और शत्रुघ्न को जन्म दिया। आयोजन में भगवानदास, विक्रम सक्सेना, जगदीश कुशवाहा, रामनरायन आदि का सहयोग रहा।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

प्रेम में बदनामी के डर से नाबालिग ने खुद को फूंका

शाहजहांपुर में एक नाबालिग लड़की ने बदनामी के डर से आग लगाकर जान दे दी। लड़की के प्रेमी ने लड़की के घर फोन करके दोनों के प्रेम प्रसंग की बात कही। जिसके बाद लड़की ने बदनामी से बचने के लिए ये कदम उठाया।

22 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls