लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Shahjahanpur News ›   बिजली संकट थमने के नहीं कोई आसार

बिजली संकट थमने के नहीं कोई आसार

Shahjahanpur Updated Mon, 21 May 2012 12:00 PM IST
विज्ञापन
- अघोषित कटौती के साथ फाल्ट बने सप्लाई में बाधक

सिटी रिपोर्टर
शाहजहांपुर। शहर समेत जिले में बड़े पैमाने पर जारी बिजली संकट का दौर थमने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं। इमर्जेंसी रोस्टरिंग के साथ अघोषित कटौती और उस पर जगह-जगह होने वाले लाइन फाल्ट बिजली सप्लाई में बाधक बन रहे हैं, लेकिन पॉवर कारपोरेशन के अभियंता नेटवर्क की खराबियों का स्थायी निदान खोजने के बजाय केवल कागजी घोड़े दौड़ा रहे हैं।
पॉवर कारपोरेशन के सिस्टम कंट्रोल ने शहरी क्षेत्र में सुबह तीन से पांच बजे तक और अपरान्ह तीन से शाम सात बजे तक छह घंटे की आपात कटौती घोषित कर रखी है। बाकी बचे समय में बिजली मिलनी चाहिए, लेकिन ऐसा हो नहीं रहा। पॉवर कंट्रोल से रोजाना तीन-चार घंटे अघोषित कटौती होने से दस घंटे रोस्टिंग की भेंट चढ़ जाते हैं। बाकी बचे समय में फीडरों को हीट अप होने से बचाने को दो-दो घंटे की लोकल रोस्टरिंग का दौर चलता है।

लोगों को दिक्कत तब और ज्यादा होती है, जब सप्लाई के दौरान लाइन फाल्ट हो जाते हैं। प्रभावित क्षेत्र के लोग उस वक्त खीझते हैं जब सूचनाएं देने पर भी टूटे तार या फिर जले हुए ट्रांसफार्मर बदलने में अनावश्यक देरी की जाती है। पिछले दिनों शहर की पॉश कॉलोनी बृज विहार में यही हुआ जब ट्रांसफार्मर खराब होने से कालोनी के एक हिस्से की बिजली गुल हो गई। हथौड़ा सब स्टेशन पर सूचना नोट कराने के चार दिन बाद भी बिजली गुल रही।
कॉलोनी में उजाला पांचवें दिन तब हुआ जब वहां के लोगों ने अधिशासी अभियंता को घेरकर सवालों की झड़ी लगाई और एक्सईएन ने क्षेत्रीय अवर अभियंता केपेंच कसे। मौजूदा बिजली संकट को लेकर विभिन्न संगठन और राजनीतिक दल लगातार प्रदर्शन करके अफसरों को ज्ञापन दे रहे हैं, लेकिन बिजली सप्लाई की लचर हालत में सुधार नहीं हो पा रहा है। अभियंताओं का कहना है कि वे जनता की परेशानी के मद्देनजर पॉवर कारपोरेशन मुख्यालय और सिस्टम कंट्रोल से लगातार पत्राचार कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही।



‘सिस्टम कंट्रोल की प्राथमिकता जन सामान्य की डिमांड पूरी करने के बजाय नार्थ ग्रिड को ट्रिप होने से बचाने की है। बगैर बताए बिजली कटौती से लोगों का रोष बढ़ना स्वाभाविक है, लेकिन इसमें विभाग की डिस्ट्रीब्यूशन विंग का कोई दोष नहीं है। उच्चाधिकारियों को लगातार यहां की वस्तुस्थिति से अवगत कराया जा रहा है।’
-आरएन सिंह, अधिशासी अभियंता (शहर), पॉवर कारपोरेशन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00