कंपोजिट ग्रांट की धनराशि में गोलमाल

Gorakhpur Bureauगोरखपुर ब्यूरो Updated Thu, 29 Oct 2020 10:42 PM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
कंपोजिट ग्रांट की धनराशि में गोलमाल
विज्ञापन

संतकबीरनगर। परिषदीय विद्यालयों में मरम्मत व अन्य कार्यों के लिए आए कंपोजिट ग्रांट की धनराशि में गोलमाल का आरोप है। इस मामले का पर्दाफाश शासन की ओर से नामित टीम की जांच में है। टीम ने 25 विद्यालयों की जांच की थी। इसके बाद महानिदेशक स्कूली शिक्षा अभियान ने गोलमाल के आरोपी प्रधानाध्यापकों और अधिकारियों पर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
जिले में 1075 प्राथमिक और 416 उच्च प्राथमिक विद्यालय हैं। इनमें वर्ष 2017-18, 2018-19 और 2019-20 में शासन ने अवस्थापना कार्यों के लिए कंपोजिट ग्रांट के तहत धनराशि भेजी थी। वर्ष 2017-18 में चार करोड़ 16 लाख, 2018-19 में आठ करोड़ सात लाख और 2019-20 में छह करोड़ 26 लाख रुपये जिले को आवंटित हुए थे। हर विद्यालय को छात्र संख्या के हिसाब से धनराशि भेजी गई थी। शासन ने अगस्त में कंपोजिट ग्रांट की धनराशि की खर्च का भौतिक सत्यापन कराने के लिए तीन सदस्यीय टीम गठित कराई। टीम में डायट प्राचार्य, अवर अभियंता बाराबंकी अनिल कुमार शुक्ल और अवर अभियंता बाराबंकी मुरलीधर तिवारी शामिल थे। टीम ने 24 से 27 अगस्त तक जिले के 25 स्कूलों की जांच की, जहां पर कंपोजिट ग्रांट की धनराशि तो निकाली गई मिली, पर मौके पर कोई कार्य नहीं मिला। धनराशि खर्च का कागजात विद्यालयों में नहीं मिला। खेल के लिए सामग्री और डेस्क-बेंच की खरीदारी नहीं मिली, जबकि रकम निकाली गई थी। टीम ने 25 विद्यालयों की बिंदुवार जांच से संबंधित रिपोर्ट शासन को सौंप दी। महानिदेशक स्कूली शिक्षा अभियान विजय किरण आनंद ने बीएसए को पत्र भेजकर निर्देश दिए हैं कि 25 विद्यालयों की जांच में जो अनियमितता मिली है उसमें शामिल प्रधानाध्यापकों व अधिकारियों पर कार्रवाई करते हुए विद्यालयों में भौतिक संसाधन उपलब्ध कराए जाएं। कार्रवाई से उन्हें अवगत भी कराएं। संवाद
इन विद्यालयों की हुई थी जांच
प्राथमिक विद्यालय बंडा बाजार हैंसर, पूर्व माध्यमिक विद्यालय चपरापूर्वी हैंसर, प्राथमिक विद्यालय चपरापूर्वी, पूर्व माध्यमिक विद्यालय सेमरियावां, पूर्व माध्यमिक विद्यालय महुआरी सेमरियावां, प्राथमिक विद्यालय बाघनगर, पूर्व माध्यमिक विद्यालय बाघनगर, उच्च प्राथमिक विद्यालय बनकटवा खलीलाबाद, प्राथमिक विद्यालय मोहीदद्दीनपुर खलीलाबाद, उच्च प्राथमिक विद्यालय जयरामपट्टी खलीलाबाद, प्राथमिक विद्यालय जयराम पट्टी खलीलाबाद, प्राथमिक विद्यालय मटिहना नगर क्षेत्र खलीलाबाद, पूर्व माध्यमिक विद्यालय मैलानखुर्द बेलहर कलां, प्राथमिक विद्यालय बढ़याबाबा बेलहर कलां, पूर्व माध्यमिक विद्यालय बेलहर कलां, पूर्व माध्यमिक विद्यालय कैथवलिया बेलहरकलां, प्राथमिक विद्यालय बभनी बेलहरकलां, प्राथमिक विद्यालय मेलानखुर्द बेलहरकलां, उच्च प्राथमिक विद्यालय शनिचरा पौली, पूर्व माध्यमिक विद्यालय सांथा पौली, उच्च प्राथमिक विद्यालय रोसयाबाजार पौली, प्राथमिक विद्यालय सांथा पौली, प्राथमिक विद्यालय कुड़वा पौली की टीम ने जांच की थी।
परिषदीय विद्यालयों में कंपोजिट ग्रांट की धनराशि की जांच हुई थी। काफी अनियमितता मिली थी। रकम निकाल लिया गया है, पर मौके पर कार्य नहीं मिला है। इसकी रिपोर्ट महानिदेशक स्कूली शिक्षा अभियान को सौंप दी गई है। जो भी दोषी होगा, उसके विरुद्घ कार्रवाई की जाएगी।
प्रताप सिंह बघेल, सचिव बेसिक शिक्षा परिषद प्रयागराज
महानिदेशक स्कूली शिक्षा अभियान का जांच से संबंधित पत्र मिला है। इसमें जो भी दोषी होगा उसके विरुद्घ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। निकाली गई धनराशि की वसूली की जाएगी।
सत्येंद्र कुमार सिंह, बीएसए
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X