सीबीआई ने मूल आवेदन तलब किया

Sant kabir nagar Updated Tue, 21 Jan 2014 05:45 AM IST
संतकबीरनगर। खलीलाबाद में तैनात रहे सहायक डाक अधीक्षक शिवमूर्ति प्रसाद का घूस लेने के मामले में जांच तेज हो गई है। सीबीआई ने शिकायतकर्ता का मूल आवेदन पत्र तलब किया है। जानकारों की माने तो यह मामला सहायक डाक अधीक्षक को महंगा पड़ सकता है। उनकी नौकरी केवल डेढ़ साल बची थी, इतना नहीं नहीं उनका प्रमोशन डाक अधीक्षक के रुप में भी होने की संभावना जताई जा रही थी जो अब खटाई में पड़ सकती है।
सहायक डाक अधीक्षक को सीबीआई की टीम ने बीते 12 जनवरी 2014 को बखिरा कसबे में कपड़ा व्यवसायी विनोद वर्मा से चार हजार रुपये रिश्वत लेते हुए रंगे हाथ पकड़ा था। इस मामले में सीबीआई टीम ने 17 जनवरी को डाक पर्यवेक्षक रामशब्द वर्मा से भी पूछताछ की और फिर छोड़ दिया। 22 जनवरी को फिर रामशब्द वर्मा को पूछताछ के लिए लखनऊ बुलाया है। खलीलाबाद में सहायक डाक अधीक्षक का कार्यभार देख रहे एके त्रिपाठी ने बताया कि महराजगंज जिले के आनंदनगर पोस्ट ऑफिस से बखिरा निवासी विनोद वर्मा का मूल आवेदन पत्र जांच के लिए खलीलाबाद आया था। उस दौरान उनकी तैनाती यहां थी। बखिरा क्षेत्र बांसी परिक्षेत्र में आता है, इस लिए वे मूल आवेदन को तीन दिसंबर 2013 को बांसी क्षेत्र के सहायक डाक अधीक्षक पवन कुमार श्रीवास्तव को जांच के लिए वापस कर दिए थे। 11 दिसंबर 2013 को खलीलाबाद में सहायक डाक अधीक्षक पद पर शिवमूर्ति प्रसाद की तैनाती हुई। रिश्वत के लालच में शिवमूर्ति प्रसाद शिकायतकर्ता विनोद वर्मा से दूसरा फार्म जांच के लिए भरवाए। परिक्षेत्र के बाहर जाकर अवैध तरीके से जांच के नाम पर घूस लेते पकडे़ गए। सीबीआई इंस्पेक्टर राजुल सिंह ने पत्र भेज मूल आवेदन पत्र को जांच के लिए मांगा है। मूल दावा पत्र वे बांसी क्षेत्र के सहायक अधीक्षक से प्राप्त करके डाक अधीक्षक बस्ती देवव्रत त्रिपाठी को दे दिए हैं। जो सीबीआई टीम को भेजा जाना है। इधर विभाग में चर्चा है कि खलीलाबाद परिक्षेत्र में तैनाती के लिए सहायक डाक अधीक्षकों में होड़ मची रहती है। शिवमूर्ति प्रसाद खलीलाबाद के पूर्व आरएमएस गोरखपुर में तैनात रहे, वहीं से जुगाड़ लगा कर खलीलाबाद में तैनाती कराए थे। एक माह भी नहीं गुजरा था कि वे रिश्वत लेने के मामले में पकडे़ गए। उनकी नौकरी डेढ़ साल ही बची है और सीनियर होने की वजह उन्हें प्रमोशन मिलने वाला था, जो शायद अब संभव नहीं होगी।
इंसर्ट
सीबीआई टीम ने डाक पर्यवेक्षक रामशब्द वर्मा को फिर से 22 जनवरी को पूछताछ के लिए बुलाया है। शिकायतकर्ता के मूल आवेदन पत्र को सीबीआई ने मांगा है, जिसे भेजा जाएगा। सीबीआई की रिपोर्ट की इंतजारी है। उसके बाद विभागीय जांच शुरू होगी। वैसे शिवमूर्ति प्रसाद विभाग में सीनियर अफसर है। उन्हें प्रमोशन मिलने की उम्मीद थी।
-देवव्रत त्रिपाठी, डाक अधीक्षक बस्ती।

Spotlight

Most Read

Lucknow

अखिलेश यादव का तंज, ...ताकि पकौड़ा तलने को नौकरी के बराबर मानें लोग

यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव ने केंद्रीय मंत्री सत्यपाल सिंह पर निशाना साधा और कहा कि भाजपा देश की सोच को अवैज्ञानिक बताना चाहती है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

नए साल पर सीएम आदित्यनाथ ने वनटांगिया समुदाय को दिया ये तोहफा

नए साल पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज जनपद के पनियरा ब्लाक में वनटांगिया समुदाय को सौगात दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 3779 लोगों को आवासीय भूमि का पट्टा प्रदान किया।

2 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper