ठंड का कहर, आम आदमी त्रस्त, प्रशासन मस्त

Sant kabir nagar Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
संतकबीरनगर। शनिवार को ठंड से बचने के लिए लोग घरों में दुबके रहे। सुबह से चल रही हल्की हवा ने गलन को और बढ़ा दिया। सुबह 12 बजे के बाद कोहरा छटा और हल्की धूप निकली। किसी भी चौराहे पर अलाव की व्यवस्था नहीं दिखी। रिक्शा वाले, मजदूर और रोडवेज तिराहे पर खुले में यात्री ठिठुरते रहे लेकिन प्रशासन इन सबसे बेपरवाह रहा। अमर उजाला टीम ने शनिवार सुबह इसका जायजा लिया।

स्थान : मेंहदावल बाईपास
यात्री इस चौराहे से लखनऊ, गोरखपुर और मेंहदावल जाने के लिए बसों को पकड़ते है। यहां पर कहीं भी अलाव जला हुआ नहीं दिखा। लोग ठंड में कांपते हुए सड़क पर खड़ा होकर बस पकड़ने का इंतजार कर रहे थेे। यात्री सुरेश पांडेय, राजेश सोनकर, महेश बर्नवाल का कहना है कि यहां पर अलाव की व्यवस्था 24 घंटे होनी चाहिए। जिससे की यात्रियों को राहत मिल सके।

स्थान : मोती चौराहा
शहर के मोती चौराहे का हाल भी यही था। यहां पर कहीं नगर पालिका की तरफ से कोई लकड़ी नहीं गिराई गई है। सड़क पर बिखरे कागज और गत्ते के टुकड़ों को एकत्र कर ठंड दूर करने की भरसक कोशिश रिक्शा चालक कर रहे थे। वहीं सड़क पर बहुत कम लोग दिख रहे थे। रिक्शा चालकों ने बताया कि प्रशासन की तरफ से ठंड से बचने की कोई व्यवस्था नहीं की गई है।

स्थान : मुखलिसपुर चौराहा
यह चौराहा शहर का व्यस्ततम चौराहा माना जाता है। यहां रिक्शा वाले ठिठुरते नजर आए। कोई कंबल लपेटे हुए था तो कोई ऐसे ही शरीर को सिकोड़कर ठंड से बचने का प्रयास कर रहा था। कुछ रिक्शा चालकों ने कहा कि गरीबी में अगर ठंड देखी जाए तो फिर पेट की आग बुझानी मुश्किल हो जाए। प्रशासन अगर यहां पर कुछ लकड़ी गिरा दे तो राहत मिलेगी।

स्थान : डीएम कैंप कार्यालय
जिलाधिकारी के कैंप कार्यालय के सामने रहने वाले दुकानदार कागज की दफ्ती को जलाकर शरीर सेंक रहे थे। उनका कहना था कि नगर पालिका प्रशासन ने अलाव की कोई व्यवस्था नहीं है। कब तक इंतजार करेंगे। इसलिए दफ्ती को जलाकर ही ठंड को दूर करने का प्रयास कर रहे हैं। ठंड इतनी बढ़ गई है लेकिन प्रशासन न जाने किस बात का इंतजार कर रहा है।

स्थान : आजाद तिराहा
नगरपालिका परिषद कार्यालय के सामने आजाद तिराहे पर रोजाना सैकड़ों दिहाड़ी मजदूर सुबह दो वक्त की रोटी के लिए आ खड़े होते हैं। आजाद तिराहे पर ही ईओ का कार्यालय भी है। पर अधिकारी यहां भी अलाव नहीं जला पाए। ठंड काफी है, लेकिन नगर पालिका ने अलाव की व्यवस्था नहीं की है। मजदूर ठंड में काम मिलने का इंतजार कर रहे थे।

स्थान : रेलवे स्टेशन
घने कोहरे के बीच सुबह यात्री ट्रेन का इंतजार करते रहे। यात्री सुरेश प्रसाद, जगदंबा सिंह का कहना है कि रेलवे स्टेशन पर न तो टीन शेड लगा है और न ही अलाव की व्यवस्था है। प्रशासन को चाहिए हर जगह सार्वजनिक स्थल पर अलाव की व्यवस्था करे। जिससे आने-जाने वाले यात्रियों को थोड़ी सी राहत मिल सके।

स्थान : ग्रामीण क्षेत्र
मेंहदावल प्रतिनिधि के अनुसार मेंहदावल नगर पंचायत में कहीं भी अलाव की व्यवस्था नहीं की गई है। स्थानीय निवासी गोपाल जी मिश्र, कैप्टन रमेश मिश्र, विरेंद्र अग्रहरी, बबलू यादव आदि का कहना है कि नगर पंचायत प्रशासन द्वारा नगर पंचायत के किसी वार्ड में अभी तक अलाव की व्यवस्था नहीं की गई है। जबकि कड़ाके की ठंड पड़ रही है। धनघटा और हरिहरपुर प्रतिनिधि के अनुसार हरिहरपुर नगर पंचायत में भी अलाव की व्यवस्था नहीं हो पाई है। इसके अलावा तहसील मुख्यालय पर भी अलाव नहीं जल रहा है। लोगों ने अलाव की व्यवस्था की मांग की है।

तत्काल होगी व्यवस्था : चेयरमैन
नगरपालिका, खलीलाबाद के चेयरमैन जगत जायसवाल का कहना है कि बाहर था, आज ही आया हूं। रविवार से हर चौराहे पर अलाव जलाने की व्यवस्था के लिए नगर पालिका को निर्देश दे दिया गया है। इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाएगी।

Spotlight

Most Read

Chandigarh

पंजाब: कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने दिया इस्तीफा

पंजाब के कैबिनेट मंत्री राणा गुरजीत सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। राणा गुरजीत ऊर्जा एवं सिंचाई विभाग के मंत्री थे।

16 जनवरी 2018

Related Videos

नए साल पर सीएम आदित्यनाथ ने वनटांगिया समुदाय को दिया ये तोहफा

नए साल पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज जनपद के पनियरा ब्लाक में वनटांगिया समुदाय को सौगात दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 3779 लोगों को आवासीय भूमि का पट्टा प्रदान किया।

2 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper