मुखलिसपुर कैनाल का खजुरिया माइनर टूटा

Sant kabir nagar Updated Thu, 13 Dec 2012 05:30 AM IST
धनघटा। नाथनगर ब्लाक के मुखलिसपुर स्थित कुआनो नदी से निकली मुखलिसपुर पंप कैनाल की शाखा खजुरिया माइनर मंगलवार की रात टूट गई। इससे 13 बीघा गेहूं की फसलों में पानी लग गया है।
बता दें कि मुखलिसपुर पंप कैनाल किसानों के लिए दुखदाई बनती जा रही है। इसकी सफाई और मरम्मत के लिए हर वर्ष लाखों रुपये का बजट आता है। यह नहर वर्ष में दर्जनों बार टूटती है। हर बार किसानों की फसल बर्बाद होती है। क्षेत्र के आलोपीनाथ, राजेंद्र राय, प्रसिद्ध, राम प्रसाद राय, श्रीराम राय सहित दर्जनों लोगों ने विभाग की लापरवाही पर नाराजगी जाहिर की है। उनका कहना है कि एक सप्ताह पहले बोई गई गेहूं की फसल में पानी लगने से अब जोताई नहीं हो पाएगी। इससे हमें काफी नुकसान उठाना पड़ेगा।
नहर में पानी छोड़ने की मांग
नंदौर। बखिरा पंप कैनाल से पानी न छोड़े जाने के कारण किसानों को सिंचाई में दिक्कतों का सामना पड़ रहा है। बखिरा पंप कैनाल जिससे ढोढया, मझौली, परसोहिया, पटवरिया, नंदौर तक सिंचाई का प्रमुख साधन पंप कैनाल ही है। किसानों को खेत की पटकनी का कार्य हो गया था लेकिन अब तक नहर में पानी नहीं छोड़ा गया। किसान पप्पू उपाध्याय, प्रद्युमन्न, विंध्याचल, छोटेलाल का कहना है कि आपरेटर से संपर्क किया तो उसने ऊपरी आदेश का हवाला देते हुए आपूर्ति बहाल करने से मना कर दिया। किसानों ने प्रशासन से नहर में पानी छोड़ने की मांग की है।

Spotlight

Most Read

Gorakhpur

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

22 जनवरी 2018

Related Videos

नए साल पर सीएम आदित्यनाथ ने वनटांगिया समुदाय को दिया ये तोहफा

नए साल पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज जनपद के पनियरा ब्लाक में वनटांगिया समुदाय को सौगात दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 3779 लोगों को आवासीय भूमि का पट्टा प्रदान किया।

2 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper