काली सूची वाले विद्यालय नहीं बनेंगे परीक्षा केंद्र

Sant kabir nagar Updated Sun, 18 Nov 2012 12:00 PM IST
संतकबीरनगर। यूपी बोर्ड की हाईस्कूल और इंटरमीडिएट की परीक्षा में इस बार डिबार सेंटर को परीक्षा केेंद्र नहीं बनाया जाएगा। बोर्ड ने जिले के 6 विद्यालयोें को काली सूची में डालते हुए डिबार घोषित कर दिया है। बोर्ड से सूची जारी होते ही प्रबंध तंत्र में हड़कंप मच गया है।
पिछले वर्ष जिन विद्यालयों पर सामूहिक नकल की सूचना मिली थी, उन विद्यालयों की परीक्षा निरस्त कर दी गई थी। इन विद्यालयों को काली सूची से हटाने के लिए इनके प्रबंध तंत्र डीआईओएस कार्यालय का चक्कर काटते रहे। डीआईओएस कार्यालय को बोर्ड मुख्यालय ने जो सूची भेजी है, उसमें जिले के 6 विद्यालयों को डिबार घोषित कर दिया है। बोर्ड के सचिव ने कहा है कि इन विद्यालयों को किसी भी दशा में परीक्षा केंद्र न बनाया जाए। पिछले सत्र की परीक्षा में जनपद मेें कुल 111 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे और चार विद्यालयों को डिबार घोषित किया गया था। उस समय हाईस्कूल के 35,964 छात्र-छात्राओं ने परीक्षा दी थी। जबकि इंटरमीडिएट में 27,559 छात्रों ने परीक्षा दी थी। इस बार बोर्ड की परीक्षा में हाईस्कूल के 30,272 छात्र-छात्रा और इंटरमीडिएट में 28,780 छात्र-छात्रा परीक्षा देंगे। जो कि पिछली बार की संख्या से कुछ कम है। जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय ने 110 विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाए जाने की सूची तैयार की है।


बोर्ड ने जिन विद्यालयों को डिबार घोषित किया है, उन्हें परीक्षा केंद्र नहीं बनाया जाएगा। हर हाल में बोर्ड के निर्देशोें का पालन किया जाएगा।
जिला विद्यालय निरीक्षक, उमानाथ

इंसर्ट
डिबार घोषित हुए कालेज
1-जनता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, धर्मसिंहवा
2-रामनरेश कृषि विद्यामंदिर, रमवापुर सरकारी
3-जनता इंटर कालेज, देवकली कला
4-जुबैदा गर्ल्स इंटर कालेज, उड़सरा
5-जीपीएस बालिका इंटर कालेज
6-आदित्य शिवम उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, गंगानगर

डीएम ने चार्ट प्रस्तुत करने का दिया निर्देश
संतकबीरनगर। जिलाधिकारी की अध्यक्षता में जिलाधिकारी कैंप कार्यालय पर शनिवार को यूपी बोर्ड परीक्षा के केंद्र निर्धारण को लेकर चर्चा की गई। जिसमें जिलाधिकारी ने डीआईओएस को केंद्र बनाए जाने वाले विद्यालयों का पूरा चार्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।
बैठक को संबोधित करते हुए जिलाधिकारी राजेश कुमार ने कहा कि पहले यह देख लें कि जिन विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया जा रहा है, वहां पर बच्चों को बैठने के लिए फर्नीचर है कि नहीं तथा उस विद्यालय की सड़क मार्ग से दूरी कितनी है। विद्यालय पर हैंडपंप की स्थिति क्या है। इसके लिए एक चार्ट तैयार कर लें। नकलविहीन परीक्षा कराने को लेकर जिलाधिकारी ने कहा कि इस बार उन्हीं विद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया जाए, जहां पर सचल दस्ता आसानी से पहुंच सके। बोर्ड परीक्षा में कहीं भी नकल की शिकायत मिलेगी तो फौरन कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि जो विद्यालय बोर्ड मुख्यालय से डिबार घोषित किए गए हैं, उन्हें किसी भी दशा में परीक्षा केंद्र न बनाया जाए। बैठक में एसडीएम सदर विनय कुमार सिंह, एसडीएम मेंहदावल, एसडीएम धनघटा, डीआईओएस उमानाथ, बीएसए राम सिंह सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

National

इलाहाबाद HC का निर्देश- CBI जांच में सहयोग करे लोक सेवा आयोग

कोर्ट ने लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष को जवाब दाखिल करने के लिए छह फरवरी तक की मोहलत दी है।

19 जनवरी 2018

Related Videos

नए साल पर सीएम आदित्यनाथ ने वनटांगिया समुदाय को दिया ये तोहफा

नए साल पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज जनपद के पनियरा ब्लाक में वनटांगिया समुदाय को सौगात दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 3779 लोगों को आवासीय भूमि का पट्टा प्रदान किया।

2 जनवरी 2018

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper