यहां हर सुबह-शाम दबे पांव आती है मौत

Sant kabir nagar Updated Mon, 22 Oct 2012 12:00 PM IST
संतकबीरनगर। बूधंा कला गांव में दो महिलाओं की मौत ने लोगों को झकझोर दिया है। निर्मल भारत अभियान का संदेश अभी इस गांव में नहीं पहुंच पाया है। एक-दो घरों में ही शौचालय है। गांव के पुरुष और महिलाएं नित्य क्रिया कर्म के लिए गांव के उत्तर हाईवे पर जाते हैं। घर की इज्जत के साथ जिंदगी भी दांव पर लगी रहती है। हर सुबह-शाम मौत दबे पांव आती है, जिसका नतीजा रविवार को सामने आया। दो महिलाएं काल के गाल के समा गई और मां-बेटी घायल हो गई।
दस हजार की आबादी वाले बूधा गांव में 538 परिवार रहते हैं। गांव में करीब 2500 वोटर हैं। गांव में करीब 15 घरों में ही व्यक्तिगत शौचालय बना है। निर्मल भारत अभियान का यहां कोई असर नहीं है। एपीएल और बीपीएल परिवारों को सरकार की तरफ शौचालय बनवाए जाने के लिए अनुदान दिए जाने की योजना है। एपीएल में एससी, एसटी के लाभार्थी को 9100 रुपये, घर की महिला मुखिया होने पर, भूमिहीन खेतिहर मजदूर और सीमांत अथवा लघु सीमांत कृषक को भी वहीं लाभ दिया जाना है। 900 रुपये लाभार्थी को लगाना है। बूधां कला गांव शासन की इस महत्वपूर्ण योजना से वंचित है। यहां जागरूकता का अभाव कहे या अधिकारियों की अनदेखी, जो भी हो दुखद है। गांव के सभी घरों में शौचालय न होना हादसे की वजह बन गया। हाईवे के किनारे गई साधना और सुभागी चौहान की मौत हो गई, जबकि मृतक साधना की सास और ननद बुरी तरह से घायल हो गई। घटना से पीड़ित परिवार सदमे हैं।
इनसेट
पूछ रहा था मासूम क्यों रो रहे हैं लोग
हादसे की शिकार हुई मृतका साधना का इकलौता मासूम टाइगर (4) को यह पता नहीं था कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं रही। परिजनों को रोते-बिलखते देख कर वह पूछ रहा था कि क्यों रो रही है। उसकी मासूमियत देख रोते- लोगों के आंखों से टपकते आंसू कुछ क्षण के लिए रुक जा रहे थे और फिर वे लोग रोने लगते थे। गांव के लोग यह भी कह रहे थे कि मृतका गर्भवती भी थी। हादसे ने दो जान नहीं बल्कि तीन जान निगल लिया।
इनसेट
ओवरब्रिज की आवाज दबा दी गई
बूधा कला गांव के गजेंद्र पांडेय, बबलू तिवारी, घनश्याम आदि ने कहा कि ओवरब्रिज की मांग को अधिकारियों ने नजरअंदाज कर दिया, जिसका नतीजा है कि यहां आए दिन दुर्घटनाएं हो रही हैं। इसके लिए डीएम, एसडीएम को लिखित आवेदन दिया गया था। उनका कहना है कि यदि ओवरब्रिज बना होता तो शायद दुर्घटनाओं पर रोक लगती।
इनसेट
सर्वे करा कर विभाग को दी सूची
ग्राम प्रधान प्रतिनिधि हरिश्चंद्र शुक्ला बताते हैं कि गांव में करीब 15 लोगों के पास अपना खुद का शौचालय है। वर्ष 2003-04 में कुछ सरकारी शौचालय की सुविधा आई थी, लेकिन क्यों नहीं बनाए गए उन्हें नहीं पता है। एक माह पूर्व सर्वे करके पात्रों की सूची डीपीआरओ कार्यालय को दी गई है। उन्हें बताया गया है कि 50 परिवारों को प्रथम बार मेें शौचालय दिया जाएगा। उनका पूरा प्रयास है कि गांव में घर-घर शौचालय बनवाया जा सके। गांव में कोई ऐसी सुरक्षित जगह नहीं है जहां लोग नित्य क्रिया कर्म के लिए जाए।
इनसेट
प्रयास कर बनवाएंगे गांव में शौचालय
निर्मल भारत अभियान के जिला परियोजना समन्वयक प्रदीप त्रिपाठी ने बताया कि बूधां कला गांव में गए थे और 50 शौचालय का प्रस्ताव उन्हें प्राप्त भी हो गया है। हाईवे पर जमा गंदगी को साफ कराने का प्रयास किया गया, लेकिन जागरूकता के अभाव के कारण सफल नहीं हो पाया। 33 हजार परिवारों को शौचालय देने का लक्ष्य है। 13 हजार परिवारों को स्वीकृति भी कर दिया गया है। बूधां कला गांव में शौचालय निर्माण कराए जाने की दिशा में उनका पूरा जोर है।
इनसेट
प्रकरण की कराएंगे जांच
प्रभारी डीएम भोला नाथ मिश्र ने कहा कि घटना की उन्हें जानकारी नहीं है। बूधां कला गांव में शौचालय का लाभ लोग क्यों नहीं पा सके, इसकी जांच कराई जाएगी। जांच में जो दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कार्रवाई भी की जाएगी। इसके अलावा गांव में योजना का लाभ पहुंचे और लोग जागरूक होकर शौचालय निर्माण कराए, इस दिशा में पूरा प्रयास होगा।

Spotlight

Most Read

Kanpur

बाइकवालाें काे भी देना हाेगा टोल टैक्स, सरकार वसूलेगी 285 रुपये

अगर अाप बाइक पर बैठकर आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर फर्राटा भरने की साेच रहे हैं ताे सरकार ने अापकी जेब काे भारी चपत लगाने की तैयारी कर ली है। आगरा - लखनऊ एक्सप्रेस वे पर चलने के लिए सभी वाहनों को टोल टैक्स अदा करना होगा।

17 जनवरी 2018

Related Videos

नए साल पर सीएम आदित्यनाथ ने वनटांगिया समुदाय को दिया ये तोहफा

नए साल पर यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने महराजगंज जनपद के पनियरा ब्लाक में वनटांगिया समुदाय को सौगात दी। सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को वनटांगिया समुदाय के 3779 लोगों को आवासीय भूमि का पट्टा प्रदान किया।

2 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper