विज्ञापन

विकास के इंतजार के बाद अब बेचैनी

Saharanpur Updated Wed, 30 Jan 2013 05:30 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
सहारनपुर। नगर निगम को लेकर हो रही राजनीति में जिले के उन 32 गांवों का भविष्य अधर में लटक गया है जो निगम में तो शामिल कर दिए गए, लेकिन अब न तो निगम उनके लिए कुछ कर रहा है और न ही वे ग्रामसभा से कुछ करवा सकते हैं। इन गांवों में विकास सपना बना हुआ है। ग्रामीणों की हालत न घर के रहे न घाट के जैसी बनी हुई है।
विज्ञापन

इन 32 गांवों के लोगों ने सपना देखा था कि हमारे गांव नगर निगम में शामिल होने पर अच्छी सड़कें मिलेंगी। पानी की समस्या दूर होगी। जल निकासी और सीवरेज सिस्टम होगा। स्ट्रीट लाइटें मिलेंगी और नियमित सफाई होगी, मगर ऐसा कुछ नहीं हुआ। उलटा अब निगम का अस्तित्व पर भी सवाल उठने लगे हैं। खुद नगर विकास मंत्री आजम खां की ओर से निगम की जरूरत न होने के बयान से लोगों की बेचैनी बढ़ गई है। उन्हें आशंका है कि यदि नगर निगम का अस्तित्व समाप्त हुआ या जल्दी चुनाव न हुए उनके गांवों को पटरी पर आने में लंबा समय लगेगा।
पिंजौरा और काजीपुरा के प्रधान रहे चुके राजकुमार और सुलेमान कहते हैं कि या तो इन गांवों को निगम में शामिल नहीं करना चाहिए था और किया गया है तो अब इन्हें निगम वाली सुविधाएं दी जाएं। उधर, पंचायती राज ग्राम प्रधान संगठन के जिलाध्यक्ष संजय राठी का कहना है कि भंवर में फंसे गांवों के पूर्व प्रधानों के साथ मिलकर इन क्षेत्रों की आवाज सरकार तक पहुंचाई जाएगी। वर्ष 2009 में घोषित हुए नगर निगम में शामिल जिन गांवों का भविष्य अधर में है, उनमें पिंजौरा, दाबकी, बालपुर, प्रेम नगर, मानकमऊ, मोहम्मदपुर माफी, जेजेपुरम, हरिलोक विहार, आरकेपुरम, लक्ष्मीपुरम, काजीपुरा, चकहरेटी, बादशाहपुर, ज्ञानागढ़, सड़क दूधली, कोलागढ़, हबीबगढ़, ताजीवाला, रमजानपुर, सिराज कालोनी, मवी खुर्द, मवीं कलां, चौधरी विहार, छजपुरा, चकदेवली, नाजिरपुरा, हबीबपुरा, गोपाल नगर, ताहरपुर, कोटतला, चंद्रलोक विहार, भगवती कालोनी, बाबू गढ़, गंगोत्री विहार, शालीमार गार्डन, मक्खन माजरा, मढ़ और चक सराय।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us