‘दरियां है, मालूम है हुनर, जहां चलेंगे रास्ता कर लेंगे’

Saharanpur Updated Tue, 30 Oct 2012 12:00 PM IST
सहारनपुर। ‘हम तो दरियां है, हमें अपना हुनर मालूम है,
जिधर भी चल पड़ेंगे, रास्ता हो ही जाएगा’....। इन लाइनाें से प्रेरित होकर जिले के ग्रामीण अंचल के चित्रकार अजय चौधरी ने अद्भुत कारनामा कर रहे हैं। वह एक घंटे में 350 रेखाचित्र बना रहे हैं। इस स्पीड को इतना बढ़ा देना चाहते हैं कि जल्दी से जल्दी ऐसे एक लाख चित्र बना सके। ताकि रेखाचित्रों की एक बड़ी प्रदर्शनी लगाकर गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज करा सकें।
गांव मोहद्दीनपुर के अजय चौधरी ‘आजाद’ को हाल ही में पाकिस्तान के 1100 चित्रकारों ने 42 हजार वर्ग फिट की पेटिंग बनाकर गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकार्ड में अपना नाम दर्ज कराते देख यह जुनून सवार हुआ। वे बताते हैं कि वर्तमान में उसकी स्पीड 350 रेखा चित्र प्रति घंटा है, जिसे वह 500 तक ले जाना चाहते हैं। खेत खलियान और अन्य कार्यों से निपट कर वे अपनी अभिव्यक्ति और परंपरावादी कला को रेखाओं के माध्यम से कागज पर ही उतारने में जुटते हैं। महान चित्रकार पाबलो पिकासो और एमएफ हुसैन को आदर्श मानने वाले अजय ने बताया कि अभी तक फोटोग्राफी और लोक चित्र ही गिनीज बुक में दर्ज हैं। इस तरह के रेखा चित्र पर किसी ने कोई वर्क नहीं किया है। वह ऐसे एक लाख चित्र बनाकर एक बड़ी प्रदर्शनी लगाना चाहते हैं।
अगले कुछ माह में ही यह लक्ष्य हासिल कर अपना यह सपना पूरा करना चाहते हैं। कई कालेजों में उसकी रेखा चित्रों की प्रदर्शनी सराही गई है। जैन डिग्री कालेज के चित्रकला विभागाध्यक्ष और राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित चित्रकार डा. रामशब्द सिंह कहते हैं कि अजय के चित्र नितांत रचनात्मक कलाकार की व्यक्तिगत कलात्मक अनुभूतियां की अभिव्यंजना है। इनमें वर्तमान की समस्याओं, संघर्ष, कुंठा आदि जीवन की विविध असमानताओं की सुखद एवं सकारात्मक पक्षों की व्यख्या है। अजय का तकनीकी पक्ष अत्यंत सबल एवं परिष्कृत है।

गीता, संगीत देता हैं प्रेरणा
सहारनपुर। अजय चौधरी बताते है कि रेखा चित्रों को बनाने में उन्हें प्रेरणा भागवत गीता, संगीत से मिलती है। नुसरत फतेह अली खान का संगीत, दूरदर्शन का सीरियल गोरा और खेत-खलियान, वनस्पति को देखकर ही मन में विचार उठते हैं। वह मन की व्याकुल अभिव्यक्ति को बंधन में बांधकर नहीं रख सकता।

क्या है रेखा चित्र
सहारनपुर। एक बिंदु से दूसरे बिंदु की बीच की दूरी को रेखा कहते है। इन रेखाओं को जोड़कर जो अंकन या आकृति तैयार की जाती है उसे रेखा चित्र कहते है। जैल और पेस्टल पैन से यह रेखा चित्र तैयार किये जाते हैं।

Spotlight

Most Read

National

राजनाथ: अब ताकतवर देश के रूप में देखा जा रहा है भारत

राज्य नगरीय विकास अभिकरण (सूडा) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से नया आयाम मिला है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

सहारनपुर में मुठभेड़ के दौरान पुलिस के हत्थे चढ़े इनामी बदमाश

सहारनपुर में पुलिस और क्राइम ब्रांच की टीम के साथ मुठभेड़ में चार बदमाश पुलिस के हत्थे चढ़े।

19 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper