अधीक्षकों को सौंपी स्मार्ट कार्डों की जांच

Raebareli Updated Wed, 22 Jan 2014 05:46 AM IST
रायबरेली। गरीबों को मुफ्त इलाज के लिए आई केंद्र की महत्वाकांक्षी योजना राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (आरएसबीवाई) में फर्जीवाड़ा करके गलत लोगों को स्मार्टकार्ड जारी करने के मामले में सीएचसी अधीक्षकों को कार्डों की जांच करके एक सप्ताह में रिपोर्ट देने के आदेश दिए गए हैं। हालांकि फर्जी स्मार्ट कार्डों के कई केस संज्ञान में आने के बाद भी सीएमओ ने कार्रवाई नहीं की है। बीमा कंपनी आईसीआईसीआई लोंबार्ड के जिम्मेदार लोगों को बचाने का प्रयास किया जा रहा है।
आरएसबीवाई के तहत गरीबी रेखा से नीचे जीवनयापन करने वाले परिवारों को 30 हजार रुपये का मुफ्त इलाज मिलना है। वर्ष 2002 की बीपीएल सूची में जिन लोगों के नाम शामिल हैं, उन्हीं को स्मार्ट कार्ड जारी करने के आदेश हैं, लेकिन एपीएल परिवारों के लोगों को स्मार्ट कार्ड जारी करके योजना में खेल करने का प्रयास किया है। इस खेल में बीमा कंपनी के साथ ही स्वास्थ्य विभाग के जिम्मेदार अधिकारियों ने साठगांठ की है। शहर में करीब सौ फर्जी स्मार्ट कार्ड बनने के बाद बीमा कंपनी और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की कलई खुल गई। विभाग ने बीमा कंपनी के जिला प्रबंधक को नोटिस जारी करने के बाद सभी सीएचसी अधीक्षकों को स्मार्ट कार्डों की जांच करके रिपोर्ट देने के आदेश दिए हैं। सीएमओ डॉ. बीरेंद्र मोहन ने बताया कि मामले की जांच शुरू करा दी गई है। अधीक्षकों की रिपोर्ट आने के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls