नागरिकों ने घ्‍ाेरा तहसील आैर ब्लॉक

Raebareli Updated Fri, 19 Oct 2012 12:00 PM IST
सलोन (रायबरेली)। तहसील क्षेत्र के गणेशगंज बाजार से होकर बनाए जाने के लिए प्रस्तावित फोरलेन बाईपास पर गुरुवार को ग्रामीणों और व्यापारियों का गुस्सा फूट पड़ा। उन्होंने ब्लॉक और तहसील का घेराव करते हुए नारेबाजी के साथ जमकर प्रदर्शन किया। इससे कई घंटे तक गहमागहमी का माहौल रहा। एसडीएम के न रहने पर नायब तहसीलदार को ज्ञापन देकर फोरलेन बाईपास दूसरे स्थान से बनाए जाने की मांग की। ऐसा न होने पर तीखा आंदोलन छेड़ने का ऐलान किया।
रायबरेली-जौनपुर राजमार्ग पर गणेशगंज बाजार पड़ता है। इस मार्ग से होकर फोरलेन बाईपास का निर्माण किया जाना प्रस्तावित है। क्षेत्रवासियों का कहना है कि इसका निर्माण होने से न सिर्फ उन लोगों के आवासीय मकान ढह जाएंगे, बल्कि दुकानदारों का व्यापार चौपट हो जाएगा। इसके विरोध में गुरुवार को ग्रामीण और व्यापारी सड़क पर उतर आए। सलोन ब्लॉक प्रमुख आजाद सिंह की अगुवाई में राम कुमार तिवारी, सुधाकर पांडेय, गिरजाशंकर, मो. यासीन, राधेश्याम, उर्मिला देवी, मोतीलाल, रामकुमार, मनोज, उमाशंकर, श्रीपाल समेत अन्य ग्रामीण और व्यापारी जुलूस निकालते हुए पहले सलोन ब्लॉक का घेराव किया। इसके बाद सलोन तहसील पहुंचकर घेराव करके जमकर प्रदर्शन किया। ग्रामीणों और व्यापारियों का गुस्सा देख तहसील और ब्लॉक के अफसरों-कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। सलोन एसडीएम गिरजाशंकर के न रहने पर सभी ने नायब तहसीलदार रामपाल तिवारी को ज्ञापन सौंपकर फोरलेन बाईपास का निर्माण गणेशगंज बाजार से न कराकर दूसरे स्थान से कराए जाने की मांग की। ब्लॉक प्रमुख ने कहा कि फोरलेन बाईपास का निर्माण होने से ग्रामीण और व्यापारी पूरी तरह से अनाथ हो जाएंगे। इसके लिए जिला प्रशासन के अफसरों और सरकार को सोचना चाहिए। ऐसा न होने पर धरना शुरू कर दिया जाएगा। उधर, एसडीएम का कहना है कि ज्ञापन मिला है। ग्रामीणों और व्यापारियों की बात उच्चाधिकारियों तक पहुंचाई जाएगी।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018