वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से केंद्र से रूबरू होंगे नवसाक्षर और निरक्षर

Raebareli Updated Wed, 29 Aug 2012 12:00 PM IST
जगतपुर (रायबरेली)। निरक्षराें और नवसाक्षरों को सीधे दिल्ली और लखनऊ में बैठे अधिकारियों से रूबरू होने का मौका मिलेगा। विश्व साक्षरता दिवस पर ब्लाक को सीधे भारत सरकार से जोड़ा जाएगा। इसके लिए कस्बा स्थित पूर्व माध्यमिक विद्यालय को जहां मॉडल केंद्र बनाया गया है, वहीं बगल के बीआरसी भवन को वीडियो कांफ्रेंसिंग सेंटर बनाने के लिए चुना गया है। मंगलवार को आई टीम ने मौका मुआयना किया। सेटेलाइट के माध्यम से नवसाक्षरों व निरक्षरों की सीधे केंद्र सरकार के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से बात कराई जाएगी। दिल्ली में बैठकर यहां की साक्षरता के बारे में जानकारी जुटाई जाएगी। इस सिलसिले में अभी अन्य कई बड़े अधिकारियों का यहां दौरा लग सकता है। साक्षर भारत मिशन के तहत मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने अंतर्राष्ट्रीय साक्षरता दिवस पर निरक्षरों और नवसाक्षरों से रूबरू होने का निर्णय लिया है। इसके लिए जिले में टीम आई और कई ब्लाकों में जाकर व्यवस्था को चेक किया, लेकिन जगतपुर ब्लाक को ही वीडियो कांफ्रेंसिंग के लिए चुना गया। मंगलवार को राज्य संसाधन केंद्र लखनऊ से आए नोडल अधिकारी सुधाकर मान सिंह ने इंजीनियरों की टीम के साथ जगतपुर जूनियर हाईस्कूल और बीआरसी भवन को देखा। साथ में जिला लोक शिक्षा समिति से दिग्विजय सिंह और पूनम सिंह मौजूद रहीं। टीम ने बीआरसी भवन को चेक करने के बाद प्रशिक्षण हाल को वीडियो कांफ्रेंसिंग के लिए चुना। टीम के अधिकारियों ने बताया कि आगामी 7, 8 व 9 सितंबर को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से नवसाक्षरों व निरक्षरों को केंद्र सरकार के अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से रूबरू कराया जाएगा। इसके लिए बीआरसी जगतपुर में सेटेलाइट सेंटर बनाया जाएगा। इसके माध्यम से वीडियो कांफ्रेंसिंग होगी।

Spotlight

Most Read

Bihar

चारा घोटाला: लालू और जगन्नाथ मिश्रा को 5 साल की सजा, कोर्ट ने 5 लाख का लगाया जुर्माना

पूर्व रेल मंत्री और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के खिलाफ सीबीआई की विशेष अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है।

24 जनवरी 2018

Related Videos

जब रात में CM योगी के आवास के बाहर किसानों ने फेंके आलू

लखनऊ में आलू किसानों को जबरदस्त प्रदर्शन देखने को मिला। अपना विरोध जताते हुए किसानों ने लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया। देखिए आखिर क्यों भड़क उठा आलू किसानों का गुस्सा।

6 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls