कर के दायरे में आएंगे बिना रजिस्ट्रेशन बिजली जला रहे व्यापारी

अमर उजाला ब्यूरो प्रतापगढ़ Updated Sat, 13 Aug 2016 11:59 PM IST
टैक्स
टैक्स - फोटो : DEMO Pics
विज्ञापन
ख़बर सुनें
 बिना रजिस्ट्रेशन कामर्शियल रेट पर बिजली का कनेक्शन लेने वाले व्यापारियों को अब व्यापार कर के दायरे में लाया जाएगा। इसको अमली जामा पहनाने के लिए  वाणिज्य कर विभाग ने कवायद तेज कर दी है। जानकारी के मुताबिक व्यापार कर अधिकारी ने बिजली विभाग को पत्र भेजकर कार्मिशयल कनेक्शन लेने वालों की सूची मांगी है। जिससे व्यापारियों की पहचान आसान हो जाएगी और वाणिज्य कर के निर्धारण करने और राजस्व वसूलने में अधिकारियों को कोई दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ेगा।
विज्ञापन

 
जिले में करीब छह हजार के करीब कामर्शियल उपभोक्ता हैं। इसमें करीब ढाई हजार उपभोक्ता खंड एक और तीन हजार से अधिक उपभोक्ता खंड दो में हैं। इसमें प्रतिष्ठान, दुकानदार, होटल, रेस्टोरेंट, मोबाइल शॉप इत्यादि व्यवसायिक प्रतिष्ठानों के नाम भी शामिल हैं। इसमें से बड़ी संख्या में ऐसे उपभोक्ता हैं जिन्हाेंने बिजली विभाग के कार्यालय से बकायदा कामर्शियल रेट पर कनेक्शन तो प्राप्त कर लिया है। मगर, जिस बिजनेस या दुकान के लिए कनेक्शन लिया है। उसका रजिस्ट्रेशन व्यापार कर के दफ्तर में नहीं कराया है। समझा जा रहा है कि रजिस्ट्रेशन न कराकर ऐसे लोगों ने व्यापार कर की अप्रत्यक्ष रूप से चोरी की है। ऐसे व्यापारियों का पता लगाने के लिए वाणिज्य कर कार्यालय ने इस तरह का नायाब तरीका निकाला है।


व्यापार कर के अधिकारियों की मानें तो इससे दो फायदे होेंगे एक तो बिजली विभाग में कार्मिशयल की आड़ में छिपे व्यापारियों का रजिस्ट्रेशन हो जाएगा। दूसरा, रजिस्ट्रेशन के बाद व्यापार के हिसाब से उन पर व्यापार कर भी लगाने की तैयारी है। फिलहाल, वाणिज्य कर विभाग के अधिकारी बड़े ही गोपनीय तरीके से इस काम को अंजाम देने की तैयारी कर रहे हैं। बिजली विभाग को भी उन्होंने गोपनीय पत्र भेजकर वाणिज्य उपभोक्ताओं की सूची मांगी है। सूची मिलने के बाद वाणिज्य कर कार्यालय उसमें से व्यापारियों की सूची अलग करेगा। ऐसा करने से व्यापार कर के दायरे में आने वाले व्यापारियों की पहचान आसान हो जाएगी। हालांकि व्यापार कर के अधिकारी सीधे तौर पर इस बात को नकार रहे हैं। उनका तर्क है कि केवल रजिस्ट्रेशन के लिए वे ऐसा करा रहे हैं। जबकि रजिस्ट्रेशन का मतलब है कि व्यापार कर निर्धारण। मगर, बिजली विभाग के अधिकारी पंजीयन के बाद व्यापार कर की वसूली की बात कह रहे हैं।

आ सकता है दो हजार व्यापारियों के नाम
बिजली विभाग में पंजीकृत करीब छह हजार वाणिज्य उपभोक्ताओं में से करीब दो हजार उपभोक्ता ऐसे हैं जिन्होंने अपना पंजीयन व्यापार कर के दफ्तर मेें नहीं कराया है। चर्चा है कि अगर सूची की पड़ताल होती है इनके नाम समाने आ जाएंगे। फिर इनको कर के दायरे में लाने की प्रक्रिया तेज कर दी जाएगी। इस बारे में एक्सईएन प्रथम एसपी मिश्रा ने बताया कि वाणिज्य कर अधिकारी कार्यालय से कार्मिशयल दर पर कनेक्शन लेने वाले उपभोक्ताओं की सूची मांगी गई  है।
 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00