कर्नाटक की ज्यादातर मशीनों ने दिया धोखा

Pratapgarh Updated Thu, 08 May 2014 05:30 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
प्रतापगढ़। विश्वनाथगंज विधानसभा क्षेत्र में लगी कर्नाटक प्रांत की ईवीएम के धोखा देने से ज्यादातर केंद्रों पर देर से मतदान प्रारंभ हुआ। कुछ बूथों पर मशीनों को बदलना पड़ा।
विज्ञापन

विश्वनाथगंज विधानसभा क्षेत्र में कंट्रोल यूनिट गाजियाबाद और बैलेट यूनिट कर्नाटक प्रांत के धारवाड़ जिले से मंगाई गई थी। बुधवार सुबह विधानसभा प्रत्याशियों के लिए भेजी गई कंट्रोल यूनिट और बैलेट यूनिट मॉकपोल के दौरान ही जवाब दे गई। काफी देर तक पीठासीन अधिकारी मशक्कत करते रहे, लेकिन मशीन चालू नहीं हुई तो अधिकारियों और कंट्रोल रूम को सूचना दी गई। संडवा चंद्रिका ब्लाक के छतरपुर बूथ पर ईवीएम खराब होने से 9.20 बजे तक मतदान बाधित रहा। सूचना पर पहुंचे जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने काफी मशक्कत के बाद मशीन ठीक कर मतदान प्रारंभ कराया। विसहुला, बंडाखुटार, बोझवा, रामपुरउमरी में लगभग घंटे भर मतदान बाधित रहा। इन बूथों पर सेक्टर मजिस्ट्रेट ने पहुंचकर ईवीएम ठीक किया। धरमपुर, रामनगर, दूलापुर, गोपालपुर, सरायआनादेव, अहिना, पतुलकी, दांदूपुर, कटकावली, कीर्तिपुर, ईशीपुर, सरायगोविंदराय, तेजगढ़, रामनगर, हरखपुर, बजहा, बरिष्ता, कटाता, बासूपुर, नेवासी, पूरेलाल, विक्रमपुर, पूरबगांव, धरौली, कोठानेवढ़िया, उमरी, टाउन एरिया अंतू, संडवा, कोलबजरडीह, गड़वारा, डोणपुर, प्रभैतामऊ, पीपरताली, नरिया, मझिलहा, अजगरा, डांडीखास, सगरासुंदरपुर बूथों पर ईवीएम की खराबी से काफी विलंब से मतदान प्रारंभ हुआ। कुछ केंद्रों पर काफी प्रयास के बाद भी मशीनें नहीं चली तो उन्हें बदल दिया गया। ईवीएम प्रभारी और आरईएस के अधिशासी अभियंता राशिमणि मिश्र ने बताया कि विश्वनाथगंज विधानसभा में लगी मशीने पुरानी पद्धति की थी। उन्होंने बताया कि सबसे अधिक विश्वनाथगंज विधानसभा से मशीनें खराब होने की शिकायतें मिली हैं, जहां ईवीएम नहीं चली उसे बदल दिया गया है।
ईवीएम के खराबी की सूचना मिलने पर जिलाधिकारी सुरेंद्र सिंह ने पीठासीन अधिकारियों को मशीन ठीक करने का तरीका बताया। पीठासीन का नंबर नहीं मिलने पर मतदान अधिकारी प्रथम को फोन मिलाकर समस्याओं का निराकरण किया।
प्रशिक्षण के दौरान लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों को मतदान के दिन खामियाजा भुगतना पड़ा। बुधवार को अधिकांश पीठासीन और प्रथम मतदान अधिकारी ईवीएम चलाने में फेल हो गए। अधिकांश बूथों पर खराब मशीन को अधिकारियों ने ठीक किया। अधिकारियों की मानें तो मतदान कर्मियों के ठीक से प्रशिक्षण नहीं लेने से यह परेशानी हुई है।
लोकसभा चुनाव में लगी ईवीएम के खराब होने की शिकायतें कम मिली। ईवीएम प्रभारी की मानें तो यह मशीनें जिले में वर्ष 2012 में विधानसभा चुनाव में इस्तेमाल की गई थी। इसलिए यह मशीनें पूरी तरह ठीक थीं।
शहर के प्राइमरी स्कूल रूपापुर बूथ संख्या बीस पर मतदान साढे़ पांच बजे ठप हो गया। मतदाता जब वोट करने के लिए झिकझिक करने लगे तो पीठासीन अधिकारी ने बैटरी लो होने की बात कहकर बगल में स्थित बूथ संख्या 19 पर मतदान कराया।
शहर के बीएन मेहता स्थित आदर्श बालिका स्कूल में बूथ संख्या 70 बनाया गया था। सुबह ईवीएम आन करते ही बैटरी धोखा दे गई। जोनल मजिस्ट्रेट के पहुंचने पर मशीन बदली गई।
रानीगंज विधानसभा के नजियापुर गांव के लगभग 35 लोग मतदान से वंचित हो गए। इन लोगों का नाम मतदाता सूची में नहीं था। मिडिल स्कूल विंदागंज में स्थित बूथ संख्या 119 पर रामलली ने पीठासीन से लिखित शिकायत की है।
गौराडांड बूथ पर मतदान कराने पहुंचा एक कर्मचारी अशिक्षित मतदाताओं को देखकर स्वयं ही मतदान करता रहा। मतदाताओं की शिकायत थी कि अशिक्षित महिला और पुरुष देखकर उन्हें बताने के बहाने बैलेट यूनिट तक पहुंचता और बटन दिखाने के बहाने वोट दे देता था। इसकी शिकायत कंट्रोल रूम तक पहुंची तो अधिकारियों ने फटकार लगाई।
रानीगंज विधानसभा में लोकसभा की ईवीएम खराब होने से मतदान देर से प्रारंभ हुआ। इमलीडांड, आनापुर, बीरापुर, शिवसत, पटहटिया में ईवीएम खराब होने से देर से मतदान प्रारंभ हुआ। जबकि प्राइमरी स्कूल बनवारपुर में बने बूथ पर मतदान कर्मियों के देर से आने से पौन घंटे बाद मतदान प्रारंभ हुआ।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us