पुलिस पर भीड़ ने बोला हमला

Pratapgarh Updated Tue, 28 Jan 2014 05:43 AM IST
अंतू थाना क्षेत्र के उपाध्यायपुर गांव में दो भाइयाें की हत्या से आक्रोशित लोगों का गुस्सा रविवार को पोस्टमार्टम हाउस के पास फूट गया। वन विभाग के अधिकारियाें और पुलिस कर्मियाें पर कार्रवाई के लिए जाम लगाए लोगों ने पुलिस पर हमला बोल दिया। पथराव में कई पुलिसकर्मी लहूलुहान हो गए। ईंट लगने से लालगंज कोतवाल का सिर फट गया। आनन-फानन उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया। सिपाहियों ने आसपास के घरों में छिपकर जान बचाई। सूचना पर आईजी एलवी देवकुमार एंटनी, डीएम, एससपी समेत अन्य अधिकारी मौके पर पहुंचे और स्थिति को काबू में किया।
अंतू थाना क्षेत्र के जैतीपुर कठार गांव निवासी इफ्तेखार उर्फ पप्पू पठान (35) और उसके छोटे भाई अनीस (25) की शनिवार रात उपाध्यायपुर गोपालपुर गांव में हत्या कर दी गई थी। पुलिस ने दोनों के शव पोस्टमार्टम हाउस पहुंचा दिए। प्रशासन ने रात में ही पोस्टमार्टम कराने का प्रयास किया लेकिन एक्सरे और परिजनाें के न आने के कारण सुबह पोस्टमार्टम का फैसला लिया गया। 26 जनवरी की सुबह करीब आठ बजे पोस्टमार्टम हाउस के बाहर भारी भीड़ जमा हो गई। कुछ लोगों ने कचहरी-सदर मोड़ मार्ग पर जाम लगाकर नारेबाजी शुरू कर दी। लोगाें का आक्रोश देख यह साफ हो गया कि पोस्टमार्टम के बाद लोग सड़क पर शव रखकर बवाल करेंगे। पुलिस अधिकारियाें ने लोगाें को समझाने का प्रयास किया लेकिन कोई सुनने को राजी नहीं हुआ। इस बीच लालगंज कोतवाल कुलदीप तिवारी ने नारेबाजी कर रहे लोगों को हटाने का प्रयास किया। इस पर भीड़ ने पथराव शुरू कर दिया। पुलिस ने भी जवाबी पथराव किया, लेकिन भीड़ बेकाबू होते देख वह पीछे हट गई। इस बीच वहां से गुजर रहे ईंट लदे ट्रैक्टर को लोगों ने रोक लिया। इसके बाद तो खुलकर ईंट-पत्थर चलने लगे। पुलिस वाले बचने के लिए आसपास के घरों में दुबक गए। कोतवाल कुलदीप तिवारी भीड़ के निशाने पर आ गए। ईंट लगने से कोतवाल का सिर फट गया और वह लहूलुहान होकर गिर गए। इसके बाद लोगों ने उन्हें पीटना शुरू कर दिया। बचाने के प्रयास में कोतवाल के हमराही सिपाही जुबेर अहमद और आशुतोष पांडेय भी घायल हो गए थे। पथराव से कई राहगीर भी घायल हो गए थे। किसी तरह सिपाहियों ने उन्हें भीड़ के चंगुल से छुड़ाकर जान बचाई।
बवाल की सूचना मिलते ही आईजी एलवी देवकुमार एंटनी, डीएम, एससपी सहित सभी आला अफसर मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने उग्र भीड़ की तीन तरफ से घेराबंदी करने के बाद बातचीत शुरू की। डीएम की ओर से एडीएम पुनीत शुक्ल व एएसपी विसर्जन सिंह यादव ने लोगों को भरोसा दिया कि मृतक के परिजनों को दस-दस लाख रुपये, शस्त्र लाइसेंस, डीएफओ व दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के साथ ही आरोपियों को जल्द गिरफ्तार किया जाएगा। इसके बाद लोग शवाें को घर ले जाने के लिए राजी हुए।

Spotlight

Most Read

Gorakhpur

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

पद्मावत फिल्म का प्रदर्शन रोकने को सड़क पर उतरी करणी सेना

22 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper