कर्मचारी संघ अध्यक्ष पर फायरिंग

Pratapgarh Updated Wed, 22 Jan 2014 05:44 AM IST
प्रतापगढ़। राजदत्त हत्याकांड समेत लूट के कई मामलों में वांछित विकास सिंह को दबोचने के लिए जिले की पुलिस जौनपुर, बनारस, आजगमगढ़ और सुल्तानपुर की खाक छान रही हैं। इधर विकास ने शहर में मौजूदगी दर्शाते हुए फिर खाकी को चुनौती दे दी। उसने नगर कोतवाली क्षेत्र के भदोही गांव निवासी लोक निर्माण विभाग के कर्मचारी करुणेश प्रताप सिंह के घर पर धावा बोलकर जानलेवा हमला किया। विकास और उसके साथी राजेश सिंह के खिलाफ कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है।
करुणेश प्रताप सिंह उर्फ मुन्ना सिंह लोक निर्माण विभाग के नियमित वर्कचार्ज कर्मचारी संघ के अध्यक्ष हैं। कुछ दिनाें पूर्व उन पर जानलेवा हमला हुआ था। आरोपी उनका पड़ोसी राजेश सिंह इस मामले में जमानत पर छूटा है। वह काफी समय से बयान बदलने और गवाही में न जाने का दबाव बना रहा है। शुक्रवार रात राजेश सिंह गाेंड़े गांव निवासी अपने साथी विकास सिंह के साथ उनके घर पहुंचा और उन्हें दौड़ा लिया। मुन्ना सिंह घर में घुस गए तो हमलावराें ने बाहर फायरिंग की। मुन्ना ने नगर कोतवाली में तहरीर दी। शनिवार रात पुलिस ने विकास सिंह और राजेश सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। मुन्ना सिंह ने पुलिस को बताया कि विकास कई दिनों से उनके गांव के आसपास टहल रहा था। मुन्ना के अनुसार आरोपियाें ने उन्हें गवाही देने पर जान से मारने की धमकी दी है।
जिला पुलिस के लिए सिरदर्द बन चुके विकास पर 15 हजार का इनाम घोषित कर दिया गया है। एसपी एसके वर्मा ने बताया कि उसके आपराधिक इतिहास को देखते हुए इनाम की राशि और बढ़ाने की कार्रवाई की जा रही है। जल्द ही इनामी राशि 50 हजार हो जाएगी। उसका पोस्टर भी सार्वजनिक स्थानाें पर लगाया जा रहा है।
राजदत्त हत्याकांड में पुलिस की नाकामी से आक्रोशित वकीलों ने अब आरपार की जंग का ऐलान किया है। रविवार को बार कार्यालय में हुई बैठक में जिले में हो रही नई घटनाओं पर भी चिंता व्यक्त की गई।
राज्य कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राम समुझ तिवारी ने कहा कि पुलिस की कार्यशैली अत्यंत चिंताजनक है। पुलिस एक माह बाद भी राजदत्त के हत्यारों तक नहीं पहुंच सकी। नई घटनाओं ने यह साबित कर दिया है कि अपराधियों को पुलिस का कोई भय नहीं रह गया है। एक अन्य कर्मचारी नेता करुणेश प्रताप सिंह ने कहा कि उनका संगठन वकीलों के साथ है। तय किया गया कि शीघ्र ही वरिष्ठ उपाध्यक्ष अशोक कुमार पांडेय के नेतृत्व में दस सदस्यीय टीम के साथ वकील मुख्यमंत्री से मिलकर सीबीआई जांच की मांग करेंगे। इस मौके पर गणेश नारायण मिश्र, राजेश्वर तिवारी, रमेश बहादुर सिंह, संजय कुमार पांडेय, सूर्यकांत मिश्र निराला, राजेंद्र सिंह जरियारी, रवीश कुमार मिश्र ने भी विचार व्यक्त किए। महामंत्री राजेंद्र कुमार पाठक ने बताया कि 20 जनवरी को आंदोलन और तेज किया जाएगा। अध्यक्षता जूबाए के कार्यवाहक अध्यक्ष अशोक कुमार पांडेय ने की। इस दौरान सूर्य प्रकाश शुक्ल, भूपेंद्र शुक्ल, विवेक दत्त पाली, प्रताप शंकर सिंह मुन्नू बाबू आदि थे।
राजदत्त हत्याकांड की सीबीआई जांच की मांग को लेकर जूबाए उपाध्यक्ष लाल बहादुर यादव सोमवार से डीएम कार्यालय परिसर में अनशन पर बैठेंगे। यह जानकारी बार की विज्ञप्ति में दी गई।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी दिवस: प्रदेश को 25 हजार करोड़ की योजनाओं की सौगात, योगी बोले- आज का दिन गौरवशाली

यूपी दिवस के मौके पर प्रदेश को सरकार ने 25 हजार करोड़ करोड़ की योजनाओं की सौगात दी। मुख्यमंत्री योगी ने आज के दिन को गौरवशाली बताया।

24 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017