‘नम्बर’ गेम कारोबारियों में हड़कंप,खाकी अब भी बेफिक्र

Pratapgarh Updated Tue, 18 Dec 2012 05:30 AM IST
प्रतापगढ़। अमर उजाला ‘स्टिंग आपरेशन’ से शहर और कानून को शर्मसार कर रही लाटरी का खुलासा होने पर सोमवार को कारोबारियों में हड़कंप रहा। इस प्रतिबंधित खेल का खुलासा होने के बाद भी खाकी कोमा में ही रही। कुछ पुलिस कर्मियों के जरिए हर माह लाटरी कारोबारियों से एक लाख रुपये वसूली का मामला दबी जुबान से सामने आया। जिन गुमटियों पर नंबरों का ये गेम हो रहा था उन पर सन्नाटे की स्थिति रही। कई चर्चित छोटे कदवाले राजनीतिज्ञ भी इस विष बेल को शहर में सींच रहे हैं।
कुछ पुलिस कर्मियों की सरपरस्ती में शहर अवैध कारोबार का अड्डा बनता जा रहा है। कई माह से यहां जगह-जगह ‘नंबर’ गेम यानी लाटरी चल रही है। सूत्र बताते हैं कि पुलिस को पता चला तो इस गुनाह को उसने कमाई का जरिया बना लिया। कार्रवाई के बजाए इस कारोबार को वह संरक्षण देने में जुट गई। इसके बदले कारोबारियों से हर माह करीब एक लाख रुपये की वसूली करने लगे। कुछ लोगों ने इसे बंद कराने की उम्मीद से कुछ राजनीतिज्ञों को बताया। लोगों की उम्मीद पर खरा उतरने के बजाय उन्होंने भी लाटरी के हर काउंटर से पैसा वसूली शुरू कर दी। इसी सिस्टम के तहत शहर के मध्यम वर्गीय व गरीब तबके के लोगों को लाटरी खेलाकर लूटने का धंधा परवान चढ़ता रहा। चोर-चोर मौसेरे भाई की कहावत पर अमल करते हुए यह लोग मिलजुल कर दूसरों के परिवार की बर्बादी का खेल करते रहे। रविवार को अमर उजाला ने ‘स्टिंग आपरेशन’ के जरिए सोमवार के अंक में दो नंबर पेज पर प्रमुखता से खबर प्रकाशित की तो लाटरी कारोबारियों में हड़कंप मच गया। इसके बाद भी पुलिस सक्रिय होने के बजाए खामोशी से कोमा में पड़ी रही। इस धंधे के बेहद करीब रहने वाले कुछ लोगों के मुताबिक हर माह कुछ पुलिस कर्मी लाटरी कारोबारियों से एक लाख रुपये वसूल करते हैं। यह पैसा एमडीपीजी के सामने और पुरानामालगोदाम के लाटरी काउंटर से जाता है। जांच या फिर कार्रवाई न होने से सोमवार को लोग नाम छिपाते हुए पुलिस को कोसने से रुक नहीं सके।
लाटरी की दुनिया में सोमवार को एक चर्चित नाम उभर कर सामने आया। रेलवे स्टेशन या इसके आस-पास का रहने वाला यह व्यक्ति इस कारोबार में मनोज दादा उर्फ मुकद्दर के नाम से जाना जाता है। सूत्र बताते हैं कि अपने घर में बैठ कर यह हर रोज तीन से चार लाख रुपये की लाटरी खेलाने का काम करता है। दबंग व आपराधिक प्रवृत्ति का होने के नाते इसकी मुखालफत करने की जुर्रत लोग नहीं कर पाते।
लाटरी से नकाब उठने के बाद प्याज की परत की तरह संलिप्त लोगों की जानकारी सामने आ रही हैं। एक रिटायर्ड दरोगा भी इस कारोबार में लिप्त है। लोग उसे मनोज दादा उर्फ मुकद्दर का शागिर्द मानते हैं। स्टेशन पर हो रहे इस कारोबार में उसका फितूरी दिमाग काम करता है। पुलिस मैनेजमेंट से लेकर तमाम बाधाओं को रोकने के लिए वह मुकद्दर से अच्छा खासा पैसा वसूल करता है।
अपर पुलिस अधीक्षक राधेश्याम विश्वकर्मा का कहना है कि शहर में लाटरी खेलाए जाने का मामला सुनने को मिला है। इसे गंभीरता से लिया गया है। कार्रवाई की रणनीति बनाई जा रही है। इस मामले में जो भी पुलिस कर्मी पैसा ले रहा होगा उस पर भी कार्रवाई होगी।

Spotlight

Most Read

National

पाकिस्तान की तबाही के दो वीडियो जारी, तेल डिपो समेत हथियार भंडार नेस्तनाबूद

सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने पाकिस्तानी गोलाबारी का मुंहतोड़ जवाब दिया है। भारत के जवाबी हमले में पाकिस्तान की कई फायरिंग पोजिशन, आयुध भंडार और फ्यूल डिपो को बीएसएफ ने उड़ा दिया है।

23 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper