अव्यवस्थाओं की रेल से कैसे होगी कुंभ यात्रा

Pratapgarh Updated Sun, 16 Dec 2012 05:30 AM IST
प्रतापगढ़। कुंभ स्नान के लिए लोगों को इलाहाबाद की यात्रा भारी पड़ सकती है। न तो इसके लिए स्टेशन तैयार हैं और न ही वहां काम करने वाले लोग। महज कुछ दिन बाद स्टेशनों के माध्यम से लोगों को इलहाबाद में आयोजित कुंभ मेले में स्नान के लिए जाना है। स्टेशनों पर होने वाली भीड़ को उपलब्ध कराई जाने वाली सुविधाएं क्या होंगी इसके लिए रेल प्रशासन अभी नहीं जाग रहा है। लोगों को पीने का पानी, शौचालय की व्यवस्था के साथ ही उनके बैठने की भी व्यवस्था स्टेशनों पर नहीं दिख रही है। ऐसे में लोग किस तरह कुंभ स्नान कर पाएंगे यह सोचा जा सकता है। स्टेशनों की अगली कड़ी में अमर उजाला टीम ने शनिवार को खुंडौर यानी कौहंडौर स्टेशन का जायजा लिया। इस स्टेशन का नाम खुंडौर लिखा गया है जबकि यह कोहंडौर के नाम से चर्चित है।
इस स्टेशन की खासियत है कि यहां के कर्मचारियों आधिकारियों के पास करने को कोई काम नहीं है। प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंचें तो लगेगा किसी स्टेशन पर नहीं जंगल में आ गए हैं। वृक्षों ने इस रेलवे स्टेशन पर खूब कहर बरसाया है। प्लेटफार्म नंबर एक पर वर्षों पहले सफेदा का एक मोटा पेड़ गिर गया था। यह प्लेटफार्म नंबर एक से लगी बाउंड्रीवाल को तोड़ते हुए बाहर तक पहुंच गया है। इसके चलते रास्ता भी ब्लाक है। महीने भर पहले डीआरएम के निरीक्षण में अधिकारियों ने यहां की समस्या बताई पर इस पर उन्होंने ध्यान ही नहीं दिया। स्नान के लिए भीड़ बढ़ने पर यहां हादसा भी हो सकता है। यही नहीं प्लेटफार्म नंबर दो पर आम की एक मोटी डाल गिर गई थी। इसे भी आज तक नहीं हटवाया जा सका है।
स्टेशन पर पानी की भारी कमी है। पूरे स्टेशन पर मात्र एक ही नल है। दो नंबर प्लेटफार्म पर एक दूसरा नल है लेकिन वह वर्षों से खराब पड़ा है। इसे बनवाने की जहमत विभाग ने नहीं उठाई। इससे दो नंबर प्लेटफार्म पर खड़े लोग पानी के लिए तरसते हैं। यदि उन्हें पानी पीना होता है तो वे एक नंबर पर आते हैं। इकलौता नल भी बीमारियों का घर ही है। इस पर इतनी गंदगी है कि पानी शुद्ध होने का सवाल ही पैदा नहीं होता। तमाम लोग तो नल पर फैली गंदगी देखकर ही प्यासे लौट जाते हैं। शौचालय के नाम पर एक गड्ढा बना हुआ है, जिसमें पैर फिसलने से आदमी गिर भी सकता है। बावजूद इसके इन सब बातों का विभाग से कोई ताल्लुक नहीं है। यह समस्या वर्षों से बनी हुई है।
स्टेशन पर बैठने के लिए कुछ कुर्सियां एकाध दशक पहले लगाई गईं थीं। अब इन कुर्सियों के अवशेष ही बचे हैं। बैठने के लिए प्लेटफार्म नंबर एक पर बिजली का स्टोन खंभा पड़ा हुआ है, जिस पर बैठकर यात्री ट्रेनों का इंतजार करते हैं। इसके अलावा कोई अन्य बैठने का साधन यात्रियों के लिए नहीं है। ऐसा प्रतीत होता है कि यहां यात्रियों के बैठने की परवाह रेल विभाग को नहीं है। यात्री चाहे खड़े रहें या फिर बैठें उसे कोई मतलब नहीं है। कुंभ स्नान के लिए जुटने वाली भीड़ यहां खड़ी होकर ही ट्रेन का इंतजार करेगी। बढ़ी हुुई भीड़ ही स्टेशन पर आ जाए यही बड़ी बात होगी।
स्टेशन पर रोशनी के लिए खंभे लगे हैं। इनमें बल्ब भी लगे हैं लेकिन यह रोशनी दे पाने में अक्षम हैं। वर्षों पूर्व अराजकतत्वों के कहर का शिकार हुई यह व्यवस्था दोबारा ठीक करने की जरूरत महसूस नहीं की गई। तार टूटने के कारण रात में यह बल्ब, खंभे रोशनी नहीं दे पाते। इसके चलते यहां अराजकतत्वों का भी जमघट रात में लगा रहता है। यही नहीं रात में यात्रियों को ट्रेन पकड़ने और इंतजार करने में खासी दिक्कत झेलनी पड़ती है। रात में कुंभ स्नान के यात्रियों की ट्रेन के इंतजार के दौरान कितनी फजीहत हो सकती है यह भी समझा जा सकता है।

Spotlight

Most Read

Lucknow

यूपी एसटीएफ ने मार गिराया एक लाख का इनामी बदमाश, दस मामलों में था वांछित

यूपी एसटीएफ ने दस मामलों में वांछित बग्गा सिंह को नेपाल बॉर्डर के करीब मार गिराया। उस पर एक लाख का इनाम घोषित ‌किया गया था।

17 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper