कड़ी सुरक्षा में दफनाया गया छात्र का शव

Pratapgarh Updated Thu, 08 Nov 2012 12:00 PM IST
लीलापुर। लालगंज कोतवाली के ढकवा गांव के पास सोमवार को मैजिक हादसे में मृत छात्र विपिन (16) को तीसरे दिन बुधवार को दफनाया जा सका। हालांकि पुलिस ने मंगलवार रात को ही शव दफनाने का दबाव बनाया लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिल सकी।
लालगंज कोतवाली के ही छेमरसरैया गांव निवासी विपिन सगरा सुंदरपुर स्थित एक कालेज में ग्यारवीं का छात्र था। सोमवार को स्कूल जाते समय दुर्घटना में वह घायल हो गया था। जिला अस्पताल में उसकी मौत के बाद जमकर उपद्रव हुआ। शाम को पोस्टमार्टम के बाद शव घर ले जाया गया लेकिन सेना में नौकरी करने वाले भाई के इंतजार में अंतिम संस्कार नहीं किया गया। दूसरे दिन मंगलवार को शव लेकर ग्रामीणाें ने लीलापुर बाजार में सड़कजाम कर दिया। यहां पुलिस और ग्रामीणाें में जमकर संघर्ष हुआ। दोपहर बाद बवाल तो किसी तरह से समाप्त हुआ लेकिन पुलिस को हर पल बवाल का खौफ सताता रहा। रात में ही एक बार पुलिस ने परिजनाें पर शव का अंतिम संस्कार करने का दबाव बनाया लेकिन उसे कामयाबी नहीं मिली। इस बीच रात में उसका भाई घर आ गया और सुबह भारी भरकम पुलिस की मौजूदगी में शव गांव के बाहर दफना दिया गया। दो दिनाें के बवाल को देखते हुए मृतक विपिन के सैनिक भाई ने सब्र से काम लिया। इसके बाद पुलिस ने भी राहत की सांस ली। शव दफनाने के समय आसपास के लोगों की भारी भीड़ जमा रही।
सोमवार को जिला अस्पताल में जमकर उपद्रव होने के बाद भी जिले की पुलिस सोती रही। परिणामस्वरूप मंलगवार को लीलापुर में इस कदर बवाल हुआ कि पुलिस को जान बचाने के लाले पड़ गए। दूसरे दिन लगातार पब्लिक के हाथों पिटने वाली खाकी लीलापुर बवाल के बाद चेती। बुधवार को स्कूल खुलने से पहले हर जगह पुलिस का पहरा लगा दिया गया। आसपास के थानों के साथ ही जिला मुख्यालय से भी पुलिस और पीएसी बुलाई गई थी। लीलापुर, सगरा सुंदरपुर और लालगंज के सभी स्कूलों के सामने पुलिस लगाई गई थी। इसमें मृतक छात्र के कालेज के प्रबंधतंत्र वाले शिक्षण संस्थानाें पर पुलिस की विशेष नजर रही। बवाल की आशंका को देखते हुए शिक्षक भी सतर्क थे। शाम को स्कूल बंद होने के बाद बच्चे घर चले गए तो पुलिस हटाई गई।
छेमरसरैया के आसपास के गांवों और चौराहों पर भी लीलापुर बवाल की घटना के बाद पहरा लगा दिया गया। जामस्थल लीलापुर से छेमरसरैया तक के कई गांव के लोग लीलापुर बवाल में पहुंचे थे। ऐसे में पुलिस को इस बात की आशंका थी कि कहीं से भी लोग बवाल करने के लिए निकल सकते हैं। ऐसे में हर गांव से निकलने वाले रास्ते पर पुलिस लगा दी गई थी।
लीलापुर बवाल के बाद छेमरसरैया गांव में बुधवार को सन्नाटा पसर गया। कुछ लोग तो अपने घर में ताला बंद कर फरार हो गए। लोगों को यह भय सताने लगा कि पुलिस बदले की कार्रवाई में उन पर कहर बरपा सकती है। ऐसे में गांव की गलियों में भी सन्नाटा पसरा रहा।

Spotlight

Most Read

Madhya Pradesh

MP निकाय चुनाव: कांग्रेस और भाजपा ने जीतीं 9-9 सीटें, एक पर निर्दलीय विजयी

मध्य प्रदेश में 19 नगर पालिका और नगर परिषद अध्यक्ष पद पर हुए चुनाव में कांग्रेस और भाजपा के बीच कड़ा मुकाबला देखने को मिला।

20 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper