प्रधानपति की हत्या में कोटेदार समेत दो नामजद

Pratapgarh Updated Tue, 25 Sep 2012 12:00 PM IST
कुंडा। नवाबगंज क्षेत्र के मधवापुर ग्राम प्रधानपति की रविवार रात हुई हत्या में परिजनों ने कोटेदार समेत दो लोगों को नामजद किया है। घटना से गांव वालों में आक्रोश है और पीएसी तैनात है।
मधवापुर बैरगियापुर गांव निवासी डॉ. सुरेश यादव (40) पुत्र विन्दादीन यादव पूर्व प्रधान एवं निजी चिकित्सक थे। वर्तमान में उनकी पत्नी सीतापति यादव ग्राम प्रधान हैं। गांव में कई वर्षों से कोटेदारी को लेकर विवाद चला आ रहा था। प्रधान की अगुवाई में हुई शिकायत के दौरान ही कोटेदार राय सिंह का कोटा निलंबित कर दूसरी ग्राम सभा से अटैच कर दिया गया था। इससे रंजिश और बढ़ गई। रविवार रात सुरेश यादव मानिकपुर क्षेत्र के लालाबाजार स्थित अपनी क्लीनिक बंद कर गांव के ही सहयोगी शंभू शरण उर्फ मुन्ना सिंह के साथ घर जा रहे थे। सहयोगी को उसके घर छोड़ने के बाद जैसे ही वह अपने घर के लिए चले महज 100 मीटर पहले घात लगाकर बैठे कोटेदार राय सिंह पुत्र हरिशंकर सिंह निवासी वैशन का पुरवा व उसके चालक मुख्तार उर्फ कताली पुत्र शेरअली निवासी जिल्ला मधवापुर ने हमला कर दिया। अचानक हुए हमले से डा. सुरेश गिर गए। इस पर हमलावरों ने तमंचे से सीने में दो फायर झोंक दिए। फायर की आवाज एवं चीख सुनकर ग्रामीण दौड़े तो मुख्तार ने बंदूक से हवाई फायर झोंक दिया। इस पर ग्रामीण सहम गए और तब तक मौका पाकर हमलावर फरार हो गए। परिजन उन्हें आननफानन में उपचार के लिए एनटीपीसी ऊंचाहार ले जा रहे थे मगर रास्ते में ही उनकी सांसें थम र्गइं। घटना की सूचना पर नवाबगंज पुलिस के साथ ही पीएसी भी मौके पर पहुंच गई। मृतक के भाई केदारनाथ की तहरीर पर पुलिस ने राय सिंह और मुख्तार के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कर शव पीएम के लिए भेज दिया।
मधवापुर गांव निवासी मृतक पूर्व प्रधान के भाई समेत कई ग्रामीणों ने बताया कि तीन-चार दिन पूर्व भी हत्यारों ने जान से मारने की धमकी दी थी। इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस कर्मियों को दूरभाष पर दी गई थी। बावजूद इसके स्थानीय पुलिस हत्यारों पर शिकंजा नहीं कस सकी।
पूर्व प्रधान एवं प्रधानपति की हत्या की खबर के बाद भी स्थानीय पुलिस तीन घंटे बाद मौके पर पहुंची। इसे लेकर आज भी ग्रामीणों में आक्रोश व्याप्त है। ग्रामीणों का आरोप है कि सूचना के बाद हम लोग उपचार कराने के लिए ले गए। मगर पुलिस ने मौके पर पहुंचना मुनासिब नहीं समझा। घटना के तत्काल बाद पुलिस हरकत में आ जाती तो शायद हत्यारे पकड़े जा सकते थे।
पूर्व प्रधान की हत्या से पूरा परिवार बिखर गया। चार बच्चों के सिर से पिता का साया छिन गया। बड़ी बेटी सीमा की शादी को लेकर भी अब संशय बन गया है। मृतक सुरेश यादव के तीन बेटी सीमा (20), अर्चना (12), नीलू (7) और एक बेटा धीरेंद्र (14) है। ग्राम प्रधानी के साथ ही प्रैक्टिस अच्छी चलने के चलते पूरा परिवार खुशहाल था जबकि बड़े भाई केदारनाथ, श्यामलाल, छोटेलाल भी उनका हाथ बंटा रहे थे। बड़ी बेटी की शादी नवाबगंज क्षेत्र के सोनामऊ में ही कुछ माह पहले तय हुई थी। गोदभराई का रस्म पूरी कर 13 फरवरी को शादी की तिथि तय हो गई थी। मगर क्या पता था कि बेटी की डोली उठाने से पहले हत्यारे उनकी अर्थी उठा देंगे। रविवार रात घटना के बाद उनकी विधवा ग्राम प्रधान सीतापति यही कहकर विलख रही थी।
पूर्व प्रधान डा. सुरेश यादव की हत्या की कोशिश पहले भी हो चुकी थी। असुरक्षा महसूस हुई तो शस्त्र लाइसेंस के लिए आवेदन करने के साथ ही उच्चाधिकारियों से सुरक्षा की गुहार भी लगा चुके थे। मगर प्रशासन ने न तो लाइसेंस मुहैया कराया, न ही सुरक्षा। कोटेदारी और प्रधानी की रंजिश के चलते मानिकपुर क्षेत्र के ऐंठू के समीप तीन वर्ष पूर्व चार पहिया वाहन से टक्कर मार हत्या करने का प्रयास हुआ था।
डा. सुरेश यादव का कोटेदारी को लेकर कई वर्षों से विवाद चल रहा था। इस विवाद में उन्हें जेल तक जाना पड़ा। बीती जुलाई में कोटा सस्पेंड कराने में सफलता मिली, लेकिन कोटेदार हाईकोर्ट चला गया। कोटेदार को बीते दिनों स्टे भी मिल गया था, लेकिन सुरेश कोटा बहाली में रोड़ा बने थे। इसी के चलते उनकी हत्या कर दी गई।
डॉ. सुरेश यादव की हत्या की खबर से लाला बाजार में शोक की लहर दौड़ गई। व्यापार मंडल की अगुवाई में बाजार बंद करने के साथ ही शोकसभा आयोजित कर मृत आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की गई। शोकसभा में अध्यक्ष मिलन केसरवानी, महामंत्री रामबाबू अग्रहरि, डॉ. राहुल मिश्रा, डॉ. हसनैन, डॉ. भोला यादव, डॉ. सोहन लाल, डॉ. राजेश कुमार, चंद्रशेखर मिश्रा, संतोष मिश्र, राजेश चौरसिया, मो. उस्मान, जाकिर भाई, लल्लन, राज कुमार जायसवाल, मगनलाल केसरवानी, रंगलाल, शंकरलाल केसरवानी, पन्नालाल, बृजलाल, सूर्य कुमार, शिवलाल समेत सैकड़ों व्यापारी, चिकित्सक मौजूद रहे।

Spotlight

Most Read

Rampur

टेक्सटाइल्स की जमीन पर फिर अवैध कब्जे

रजा टेक्सटाइल्स की जमीन पर सप्ताह भर के भीतर ही फिर से अवैध कब्जे कर लिए गए। अवैध कब्जे को लेकर पुलिस व प्रशासन से मामले की शिकायत की गई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper