विज्ञापन
विज्ञापन

बारिश का पानी रोकने को छत पर डाली पन्नी

Pratapgarh Updated Mon, 17 Sep 2012 12:00 PM IST
ख़बर सुनें
प्रतापगढ़। रेलवे स्टेशन की बिल्डिंग कभी भी ढह सकती है। मेस के किचन के साथ ही अन्य कार्यालयों में भी बरसात होने पर पानी टपकता रहता है। बिल्डिंग जर्जर होने के कारण इससे गिरते प्लास्टर से खाना बनाने वाले लोग घायल हो जाते हैं। बिल्डिंग की जर्जरता का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि इसकी दीवारों के साथ ही छत में भी दरारें बन गई हैं। उधर बिल्डिंग की छतों पर बरसात से बचने के लिए कहीं पन्नी डाली गई है तो कहीं सीमेंटेड शेड लगाए गए हैं। कार्यालयों में काम करने वाले कर्मचारी काम निपटाने के बाद इसमें ठहरना नहीं चाहते। उन्हें आशंका रहती है कि यह बिल्डिंग कभी भी धराशाई हो सकती है।
विज्ञापन
विज्ञापन
बेल्हा के रेलवे स्टेशन की बिल्डिंग कभी भी धराशाई हो सकती है। जर्जर बिल्डिंग से गिरता प्लास्टर लोगों को घायल कर देता है। मेस के किचन की तो हालत ही पतली है। तीन दिन से लगातार हो रही बरसात को यह सहन नहीं कर पा रहा है और बारिश का पानी छत में बने दरार के माध्यम से अंदर आ रहा है। इसमें काम करते समय लोग भीग भी जाते हैं। इस दौरान छत से गिरता प्लास्टर उन्हें घायल कर देता है। इसमें काम कर लोग जल्द से जल्द बाहर निकलकर बैठ जाते हैं। उधर अन्य कार्यालयों में भी पानी टपकता रहता है। इसके चलते कर्मचारियों को काम करने में बाधा उत्पन्न होती है। बिजली विभाग के साथ ही कई कार्यालयों की छतों पर पन्नी डाली गई है और सीमेंट के शेड बना दिए गए हैं। आश्चर्य की बात है कि रेलवे जैसे विभाग की बिल्डिंग की छत पर पन्नी डालकर काम किया जा रहा है। बरसात होने के दौरान कर्मचारी इन कार्यालयों के बाहर बने शेड में ही बैठना पसंद करते हैं। कर्मचारी बरसात होने पर बिल्डिंग के जमींदोज होने की आशंका से सिहर उठते हैं। कर्मचारियों ने बताया कि बरसात होने पर छत से ज्यादा मात्रा में पानी टपकने लगता है। इससे काम करना मुश्किल हो जाता है।
रेलवे मेस के किचन की हालत बदतर है। यहां काम करने वाले लोग बताते हैं कि बिल्डिंग से पानी टपकता ही नहीं बल्कि गिरता है। छत के साथ ही दीवारों में भी दरारें पड़ गईं हैं। पानी आने पर छत से प्लास्टर टूटकर गिरता रहता है। इससे यहां काम करना मुश्किल हो जाता है। साथ ही पूरे किचन में पानी भर जाता है। उधर वाशबेसिन के पास लगे आइने में चेहरा तो दिखता ही नहीं, टोटी भी पानी देने में आनाकानी करती है। किचन में पहुंचते ही लगता है जैसे किसी खंडहर में आ गए हों।
रेलवे कर्मचारियों ने काम करने की गरज से खुद के खर्चे से पन्नी डलवाई है। कर्मचारी बताते हैं कि बरसात होने पर इतना अधिक पानी टपकता है कि काम करना मुश्किल हो जाता है। इसलिए खुद के पैसे से ही पन्नी खरीदवाकर डलवा दी गई है। उधर सीमेंटशेड भी खुद के ही खर्चे से लगाए जाने की बात कही गई।
बिल्डिंग के टपकने और उसके जर्जर होने की बात करने पर अधिकारी इससे बचते नजर आए। एसएस केएन शर्मा से बात करने पर उन्होंने इसकी जिम्मेदारी सहायक मंडल अभियंता रेलवे की बताई। सहायक मंडल अभियंता से बात की गई तो उन्होंने भी डिवीजन की जिम्मेदारी बताकर पल्ला झाड़ लिया।

Recommended

विज्ञापन
विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें

लोकसभा चुनाव 2019 (lok sabha chunav 2019) के नतीजों में किसने मारी बाजी? फिर एक बार मोदी सरकार या कांग्रेस की चुनावी नैया हुई पार? सपा-बसपा ने किया यूपी में सूपड़ा साफ या भाजपा का दम रहा बरकरार? सिर्फ नतीजे नहीं, नतीजों के पीछे की पूरी तस्वीर, वजह और विश्लेषण। 23 मई को सबसे सटीक नतीजों  (lok sabha chunav result 2019) के लिए आपको आना है सिर्फ एक जगह- amarujala.com  Hindi news वेबसाइट पर.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Most Read

Pratapgarh

संदिग्ध दशा में पेड़ से लटकता मिला बीए की छात्रा का शव 

पट्टी/पृथ्वीगंजबाजार। पट्टी कोतवाली के रामपुर खागल गांव के जंगल में जौनपुर जनपद की रहने वाली बीए की छात्रा का शव पेड़ से लटकता मिला।

25 मई 2019

विज्ञापन

लोकसभा चुनाव में आजम खान से हारीं जया प्रदा करेंगी BJP में 'गद्दारी' की शिकायत

लोकसभा चुनाव 2019 में हाई प्रोफाइल सीट रामपुर से भाजपा प्रत्याशी जया प्रदा का बयान सामने आया है। जया प्रदा ने भाजपा के भीतरघात को अपनी हार का कारण बताया है।

24 मई 2019

आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree