आईटीआई में भी रहा अव्यवस्था का आलम

Pratapgarh Updated Sun, 08 Jul 2012 12:00 PM IST
प्रतापगढ़। तीन नगर पंचायतों की मतगणना शनिवार को आईटीआई में भारी अव्यवस्था के बीच शुरू हुई। माइक लगने के बावजूद चरणवार परिणाम की घोषणा नहीं की गई। गणना स्थल से 200 मीटर दूर खड़े प्रत्याशी और समर्थक हर पल की स्थिति की जानकारी के लिए बेताब रहे। प्रशासनिक इंतजाम ठीक नहीं होने से प्रत्याशियों का चेहरा लाल-पीला होता रहा। हद तो यह रही कि जीत हार के बाद भी प्रत्याशियों को सूचना नहीं दी गई। जीत की खबर एजेंटों ने उम्मीदवारों को दी। जिले में मतगणना के दौरान ऐसी अव्यवस्था शायद ही कभी रही हो। चुनाव आयोग की सख्ती के बावजूद खूब लापरवाही बरती गई। सुबह आठ बजे से मतगणना का समय निर्धारित था। इसका दावा खुद डीएम/जिला निर्वाचन अधिकारी ने किया था, लेकिन आईटीआई में इसकी हवा निकल गई। मतगणना कार्य सुबह नौ बजे तक शुरू नहीं हो सका था। नौ बजे के बाद मतपेटी खोलकर मतों की छंटाई का काम शुरू हुआ। चरणवार मतों की घोषणा के लिए माइक के इंतजाम थे। मगर उपयोग नहीं किया गया। एक भी चरण की घोषणा माइक से नहीं की गई। हद तो यह रही कि जीत हार का आइना साफ होने के बाद भी परिणाम सार्वजनिक नहीं किया गया। मतगणना स्थल से दूर खड़े समर्थकों और उनके उम्मीदवारों को उनके एजेंटों ने जीत और हार की खबर मोबाइल से दी। किस चरण में किसे कितने मत मिले, यह जानकारी न हो पाने से उम्मीदवारों में आक्रोश रहा। बदइंतजामी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि यहां मात्र तीन नगर पंचायतों की गणना शाम छह बजे तक हुई। मतगणना स्थल से 200 मीटर दूर सभी को रोकने के लिए लगी पुलिस काफी सख्त रही, जबकि आईटीआई के प्रवेश द्वार पर लगे पुलिस कर्मी ‘मूूदहुं आंख कतहुं कछु नाहीं’ की तर्ज पर चल रहे थे। मतदान से लेकर मतगणना तक कराने के लिए लाखों का बजट प्रशासन को मिला है। इसके बावजूद ड्यूटी पर लगे सिपाहियों को भूख से तड़पना पड़ा। दोपहर करीब दो बजे चार पूड़ी और थोड़ी सी सब्जी वाला पैकेट लेकर जीप पहुंची तो मुख्य गेट पर लगे दर्जनों जवानों ने रोक लिया। ताव में आए पुलिसकर्मी पहले खुद पैकेट लेने फिर मतगणना कक्ष में भेजने पर अड़ गई। उनके सामने मतगणना स्थल पर बैठे अफसरों को झुकना पड़ा। गाहे-बगाहे अफसरशाही का मौका पाने वाले सूचनाधिकारी का भी रौब किसी से कम नहीं रहा। मतगणना स्थल से काफी दूर मीडिया सेंटर बनाया गया। मीडिया पास पर कहीं भी आने जाने की मनाही नहीं थी। इस पास को खुद उप जिला निर्वाचन अधिकारी ने जारी किया था। बावजूद इसके मीडिया कर्मियों को परिसर में टहलने तक पर वैन लगा दिया गया। दर्जन भर पुलिस कर्मियों की निगरानी के बीच सभी को बैठाते हुए हर पल की सूचना देने का दावा किया। थोड़ी देर बाद एक कर्मी को अपनी जिम्मेदारी सौंप खुद गायब हो गए। ऐसे में मीडिया सेंटर पर भी सूचना नहीं मिल पा रही थी।

Spotlight

Most Read

National

राजनाथ: अब ताकतवर देश के रूप में देखा जा रहा है भारत

राज्य नगरीय विकास अभिकरण (सूडा) की ओर से आयोजित कार्यक्रम में राजनाथ सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना से नया आयाम मिला है।

22 जनवरी 2018

Related Videos

एसपी के इस पूर्व विधायक के घर कुर्की, एक-एक सामान उखाड़ ले गई पुलिस

इलाहाबाद में पूर्व सांसद और बाहुबली नेता अतीक अहमद के भाई पूर्व विधायक के घर की कुर्की की गई। धूमनगंज थाने की पुलिस ने कोर्ट के आदेश के बाद कुर्की की है। अलक्मा और सुरजीत हत्या मामले में आरोपी अशरफ फरार चल रहा है।

25 दिसंबर 2017

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper