गरीबों के लिए मुफ्त इलाज योजना पर संकट

लखनऊ/ब्यूरो Updated Sat, 20 Oct 2012 01:55 PM IST
plan for free treatment of poors is in crisis
प्रदेश में गरीबों को मुफ्त इलाज मुहैया कराने वाली राष्ट्रीय स्वास्थ्य योजना पर संकट मंडरा रहा है। बीमा कंपनियों की सुस्ती से यूपी के कई जिलों में स्वास्थ्य बीमा योजना का कार्ड बनना शुरू नहीं हुआ है। इससे गरीबी की रेखा से नीचे रहने वाले मरीजों को मुफ्त इलाज नहीं मिल पा रहा है। स्वास्थ्य बीमा योजना की ओर से इन बीमा कंपनियों को नोटिस भी दिया गया है।

प्रदेश में पहले चरण में राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना 39 जिलों में शुरू की जानी थी। इसके लिए यूनाइटेड इंश्योरेंस, ओरियंटल इंश्योरेंस, आईसीआईसीआई लोम्बार्ड और रायल सुंदरम इंश्योरेंस कंपनी को बीमा योजना का ठेका दिया गया था। पर योजना में देरी होने की वजह से पहली अक्तूबर से बीमा योजना प्रदेश में कम से कम 26 जिलों में काम करना शुरू करने वाली थी। लेकिन अभी तक बीमा कंपनियों ने गरीबों के स्मार्ट कार्ड तक नहीं बनाए। इसमें दो बीमा कंपनियां ओरियंटल इंश्योरेंस और रायल सुंदरम काफी सुस्ती से काम कर रही हैं।

बीमा योजना से जुड़े अफसरों के अनुसार ओरियंटल इंश्योरेंस बीमा कंपनी की सुस्ती से दो जिलों में काम बंद हो गया तो रायल सुंदरम बीमा कंपनी ने 26 जिलों का ठेका लेकर केवल चार जिलों में ही काम शुरू किया है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से कई बार पत्र भेजने के बावजूद बीमा कंपनियां काम में तेजी नहीं ला रही हैं, इसलिए गरीबों को मुफ्त इलाज नहीं मिल पा रहा है। दरअसल पहले बीमा कंपनियों ने खुद को प्रस्तुत कर राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना का ठेका ले लिया, लेकिन ठेका मिलने के बाद उन्होंने खुद किसी तीसरे को लगाकर स्मार्ट कार्ड बनवाना शुरू कर दिए। दिक्कत इसी वजह से आ रही है।

ओरियंटल इंश्योरेंस कंपनी को पूर्वी उत्तर प्रदेश का जिम्मा दिया गया था। स्मार्ट कार्ड बनना न शुरू हो पाने की वजह से बीमा योजना से जुड़े अफसरों ने जौनपुर और अम्बेडकरनगर में काम बंद करा दिया। वहीं पश्चिमी उत्तर प्रदेश में रायल सुंदरम इंश्योरेंस कंपनी ने 26 जिलों का ठेका लिया और सिर्फ आठ जिलों में काम शुरू करने का दावा किया। लेकिन समीक्षा में सामने आया कि कंपनी मैनपुरी, आगरा, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, पीलीभीत और बरेली में काम शुरू हो जाने का दावा कर रही थी, लेकिन आगरा और बरेली को छोड़कर कहीं भी स्मार्ट कार्ड नहीं बनना शुरू हो पाए। इस वजह से स्वास्थ्य विभाग ने अब दोनों बीमा कंपनियों को नोटिस देकर वजह पूछी है। अगर संतोषजनक जवाब नहीं मिला तो बीमा कंपनियों को बदला भी जा सकता है।

पहले चरण में यहां शुरू होनी थी योजना
पहले चरण में इन जिलों मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, प्रबुद्धनगर, बिजनौर, ज्योतिबाफुले नगर, मुरादाबाद, रामपुर, भीम नगर, बदायूं, बरेली, पीलीभीत, शाहजहांपुर, बागपत, बुलंदशहर, गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ, पंचशील नगर, अलीगढ़, एटा, महामाया नगर, कांशीराम नगर, आगरा, फिरोजाबाद, मैनपुरी, मथुरा में शुरू होगी योजना।

Spotlight

Most Read

Rampur

टेक्सटाइल्स की जमीन पर फिर अवैध कब्जे

रजा टेक्सटाइल्स की जमीन पर सप्ताह भर के भीतर ही फिर से अवैध कब्जे कर लिए गए। अवैध कब्जे को लेकर पुलिस व प्रशासन से मामले की शिकायत की गई है।

20 जनवरी 2018

Related Videos

IIT BHU में इस कवि ने बताया कश्मीर समस्या का इलाज

आईआईटी बीएचयू के वार्षिक सांस्कृतिक महोत्सव ‘काशी यात्रा’ का आगाज गुरुवार को काव्यमंजरी के साथ हुआ।

20 जनवरी 2018

आज का मुद्दा
View more polls
  • Downloads

Follow Us

Read the latest and breaking Hindi news on amarujala.com. Get live Hindi news about India and the World from politics, sports, bollywood, business, cities, lifestyle, astrology, spirituality, jobs and much more. Register with amarujala.com to get all the latest Hindi news updates as they happen.

E-Paper