विज्ञापन

आम के पेड़ से टकराई कार, दो सगे भाई समेत तीन की मौत

Bareily Bureauबरेली ब्यूरो Updated Sun, 16 Feb 2020 03:17 AM IST
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पूरनपुर (पीलीभीत)। असम हाईवे पर सामाजिक वानिकी दफ्तर के पास शुक्रवार रात अनियंत्रित कार पेड़ से टकरा गई, जिसमें कार सवार दो सगे भाइयों और उनकी कंबाइन के चालक की मौत हो गई। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बमुश्किल तीनों शव कार से निकलवाए। वे तीनों दुर्घटनाग्रस्त हुई एक अन्य कार को बाहर निकालने की कोशिश करने के बाद घर लौट रहे थे।
विज्ञापन
मरने वालों में क्षेत्र के गांव हरसिंहपुर निवासी सूबेदार सिंह के दो बेटे रुपेंद्र सिंह (35) और सुखविंदर सिंह (32) के अलावा इसी के गांव के रहने वाले मलकीत सिंह (27) शामिल हैं। मलकीत सिंह उनकी कंबाइन का ड्राइवर था। वे तीनों अपने पड़ोस के नवदिया सुल्तानपुर गांव के रहने वाले दलेर सिंह की शुक्रवार शाम असम हाईवे पर घर से थोड़ी दूर खाई मेें पलटी कार को बाहर निकालने की कोशिश में गए थे। वहां से डेढ़-दो किलोमीटर दूर अपने घर लौटते रात करीब 11 बजे समय हादसा हो गया। उनकी कार अनियंत्रित होकर आम के पेड़ से टकरा गई। सामाजिक वानिकी कार्यालय के निकट रहने वाले एक व्यक्ति ने पुलिस को इसकी सूचना दी। इस पर यूपी 112 और कोतवाली पुलिस पहुंची। कार में बुरी तरह फंसें रुपेंद्र की तब तक मौत हो चुकी थी। मलकीत और सुखविंदर सिंह को कार से निकालकर आननफानन में सीएचसी भिजवाया गया। जहां डॉक्टरों ने उन दोनों को भी मृत घोषित कर दिया। चीनी मिल से गैस कटर मंगाकर कार से किसी तरह रुपेंद्र के शव को बाहर निकाला गया। शनिवार सुबह पुलिस ने तीनों के शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाए।
पूरनपुर (पीलीभीत)। असम हाईवे पर तीन लोगों की मौत के पीछे अहम वजह तेज रफ्तार रही। कार की तेज चाल का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि कार के परखचे तो उड़े ही, पेड़ से टकराने के बाद कार घूमकर उल्टी दिशा की ओर हो गई। उसका एयरबैग भी फट गया और इंजन निकलकर 10 फीट आगे जमीन पर जा गिरा था।
शुक्रवार शाम को नवदिया सुल्तानपुर गांव निवासी दलेर सिंह की कार खाई में पलट गई थी। कार को सीधा करने के लिए नवदिया सुल्तानपुर निवासी सिमरनजीत सिंह ने पड़ोस के गांव हरसिंहपुर निवासी अपने दोस्त रुपेंद्र से ट्रैक्टर मांगा। मगर खींचने के लिए लाई गई चेन छोटी पड़ गई। तब सिमरनजीत दोबारा रुपेंद्र के पास पहुंचा और कंबाइन की चेन मांगी। इस पर मदद के लिए रुपेंद्र और भाई सुखविंदर सिंह खुद ही अपनी कार लेकर निकले और मलकीत सिंह से चेन ली। जाते वक्त मलकीत भी उनकी कार में बैठ गया। काफी देर मशक्कत करने के बाद जब दलेर सिंह की कार सीधी नहीं हुई तो तय किया कि शनिवार को सुबह करेंगे। कार चूंकि नई भी थी, इसलिए वे लोग ज्यादा जोर आजमाइश करने के इच्छुक नहीं थे। अगले दिन सुबह की बात तय होने के बाद दोनों भाई, मलकीत सिंह और सिमरनजीत कार से वापस घर के लिए रवाना हुए। बीच में दोनों भाई अपने एक रिश्तेदार के घर भी रुके। फिर सिमरजीत सिंह को उसके घर छोड़ने के बाद तीनों अपने घर जा रहे थे। उस समय कार रुपेंद्र चला रहे थे। कुछ ही आगे बढ़ने पर कार अनियंत्रित होकर पेड़ से टकरा गई और रुपेंद्र, सुखविंदर और मलकीत सिंह की जान चली गई।
ब्लास्ट की तरह आई आवाज तो मचा हड़कंप
सामाजिक वानिकी कार्यालय के पास हुए हादसे के बाद जमा हुए कुछ लोगों ने हादसे की भीषणता को बयां किया। कहा कि जब कार पेड़ से टकराई तो ब्लास्ट जैसी तेज आवाज आई थी। जब लोग जमा हुए तो कार क्षतिग्रस्त और उसमें तीन लोग फंसे दिखाई दिए। कार के कई पुर्जे सड़क पर बिखरे पड़े थे।
हरसिंहपुर में छाया मातम
सड़क हादसे में दो सगे भाई समेत तीन की मौत की घटना के बाद हरसिंहपुर गांव में शनिवार को मातमी सन्नाटा पसरा रहा। मृतकों के घर के बाहर ग्रामीणों की भीड़ रही। सभी गमगीन परिवार को ढांढस बंधाने में जुटे रहे। वहीं गांव की अन्य गलियों में सन्नाटा पसरा रहा। किसान सूबेदार सिंह के तीन बेटे हैं। इसमें दो रुपेंद्र और सुखविंदर की जान चली गई, वे दोनों खेती ही करते थे। बदहवाश पिता ने कहा कि कुदरत के आगे किसी की नहीं चलती। अब जब बच्चों से सुख पाने की उम्मीद जाग रही थी..तो कुदरत ने दो बेटे छीन लिए। उधर, मलकीत सिंह के परिवारवालों का भी रो-रोकर बुरा हाल रहा। तीनों मृतकों की कच्ची गृहस्थी बिखर गई। रुपेंद्र के परिवार में पत्नी परमजीत कौर और 13 वर्षीय पुत्र अर्मन हैं। सुखविंदर की पत्नी मंदीप कौर, पांच वर्षीय बेटा एकमजोत सिंह और चार माह का एक बेटा है। मलकीत सिंह के पत्नी और छह साल का बेटा है।
सड़क हादसों के आंकड़े
साल - हादसे - घायल - मृतक
2014 - 370 - 249 - 136
2015 - 345 - 256 - 126
2016 - 376 - 287 - 155
2017 - 409 - 314 - 166
2018 - 355 - 235 - ऊ 161
2019 - 447 - 250 - 305
हाईवे पर अनियंत्रित कार पेड़ से टकरा गई थी। इसमें तीन लोगों की मौत हुई है। इनमें दो सगे भाई थे। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। हादसा दुखद है। - योगेंद्र कुमार, सीओ पूरनपुर
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us