हत्या, लूट व चोरी की घटनाओं से थर्राया जिला

Pilibhit Updated Tue, 01 Jul 2014 05:33 AM IST
विज्ञापन

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
पीलीभीत। बेपटरी हो चुकी जिले की कानून व्यवस्था से अपराधियों के हौसले बुलंद हैं। एक ही रात शहर के दो स्थानों पर चोरी की जहां घटना हुई वहीं छतरी चौराहा स्थित पुलिस बूथ के सामने सरे शाम महिला का पर्स लूट लिया गया। थाना माधोटांडा के गांव रंपुरा फकीरे निवासी रामकुमार के घर में कच्छा-बनियान गिरोह ने डाका डालकर लाखों रुपये का सामान लूट लिया व गांव के ही सालिकराम के घर भी डकैती का प्रयास किया। थाना जहॉनाबाद के गांव अकबरगंज में दो पक्षों के बीच हुए खूनी संघर्ष में गांव निवासी 55 वर्षीय नन्हेबक्श की मौत हो गई। जबकि उनके दो पुत्र, पत्नी और पुत्रवधू घायल हो गए। 24 घंटे के अंदर ताबड़तोड़ घटनाओं से जिलावासी थर्रा उठे हैं। बदमाशों ने घटनाओं को अंजाम देकर जहां पुलिस की सतर्कता की पोल खोल दी है वहीं एसपी की क्राइम कंट्रोल रणनीति को भी गहरा धक्का लगा है।
विज्ञापन

वारदात: एक
दीवार कूद घुसे चोरों ने हजारों का माल उड़ाया
पीलीभीत। मोहल्ला आवास विकास कॉलोनी निवासी रविंद्र सिंह फार्मर हैं। उन्होंने बताया कि रविवार की रात चोर दीवार कूदकर उनके घर घुस आए और किचन में रखे तीन गैस सिलेंडर व दो बैटरा चोरी कर ले गए। घटना की जानकारी सुबह हुई। घर में रखा सिलेंडर और बैटरा आदि गायब देख उनके होश उड़ गए। चोरी की सूचना पर मोहल्ले के तमाम लोग मौके पर जमा हो गए। सूचना पर सीओ सिटी सुवेग सिंह सिद्धू शहर कोतवाल आरपी सिंह के साथ मौके पर पहुंच गए और घटना स्थल का निरीक्षण किया।

वारदात: दो
मंदिर का ताला तोड़ हजारों की चोरी
पीलीभीत। मोहल्ला पूरनमल निवासी रमेश चंद्र अग्रवाल का शिव मंदिर है। उन्होंने बताया कि रविवार की सरेशाम चोर मंदिर के गेट का ताला तोड़कर अंदर घुस गए और वहां रखे दानपात्र का ताला तोड़ दिया। बेखौफ चोर मंदिर में रखी मां दुर्गा की तीन किलोग्राम पीतल की मूर्ति व दानपात्र से हजारों की नगदी चोरी कर ले गए। सरेशाम मंदिर में हुई चोरी घटना से मोहल्ले के लोगों में रोष है। मंदिर स्वामी रमेश चंद्र अग्रवाल ने बताया कि जब वह घटना की रिपोर्ट लिखाने मोहल्ले के कुछ लोगों के साथ थाना सुनगढ़ी गए तो पुलिस ने उनके साथ अभद्रता की। लोगों का कहना है कि पुलिस की लापरवाही से मंदिरों पर चोरी की घटनाएं हो रही हैं। तहरीर देने के बाद भी पुलिस रिपोर्ट दर्ज नहीं कर रही है।

वारदात: तीन
शिक्षिका का पर्स लूटा
पीलीभीत। मोहल्ला गोपाल सिंह निवासी अनिल कुमार जायसवाल की पुत्री उपमा उर्फ मंजू जायसवाल वल्लभनगर कॉलोनी स्थित स्प्रिंगडेल स्कूल में शिक्षिक ा हैं। शिक्षिका उपमा ने बताया कि वह रविवार की शाम छतरी चौराहा के पास स्थित अपनी सहेली के घर गईं थी। पैदल घर वापस लौटते समय छतरी चौराहा स्थित पुलिस बूथ के पास पीछे से आए बाइक पर सवार तीन युवकों ने हाथ में टंगा बैग लूट लिया। वह कुछ समझ पाती इससे पहले ही बदमाश गौहनियां चौराहा की ओर भाग निकले। बदमाशों के झपट्टे से बैग की दोनों बद्धियां उनके हाथ में ही रह गईं। जिस समय घटना हुई, उस समय दो सिपाही भी पुलिस बूथ पर मौजूद थे। शिक्षिका ने बताया कि पर्स में एक हजार की नगदी, एटीएम कार्ड समेत तमाम जरूरी कागजात थे।

वारदात: चार
कच्छा-बनियान गिरोह का धावा, लूटपाट
अमरैयाकलां/माधोटांडा। गांव रम्पुरा फकीरे निवासी रामकुमार ने बताया कि वह रात परिवार समेत घर के बाहर सो रहे थे। आधी रात के बाद कच्छा-बनियान धारी करीब 15 बदमाश उसके घर आ धमके और पत्नी रामबेटी, पुत्र इंद्रपाल, पुत्रवधू सोनी देवी, इंद्रपाल के पुत्र अभिषेक, पुत्री महिमा, पुत्र समरवीर, दामाद रामसरन, पुत्री मायादेवी और रेखा को गन प्वाइंट पर ले लिया। बदमाशों ने पहले उससे परिवार के लोगों के बारे में जानकारी की। बाद में गांव के एक पंडित जी के घर के बारे में पूछा। रामकुमार ने बताया कि बदमाश गांव में किसी की हत्या करने को आने की बात कह रहे थे। करीब 10 मिनट बाहर रुकने के बाद पांच बदमाशों में से एक बदमाश ने पुत्र इंद्रपाल पर तमंचा तान दिया। चार बदमाशों ने परिवार के सभी सदस्यों को बांधकर लिटा दिया और उनकी पिटाई कर शोर मचाने पर जान से मार देने की धमकी दी। पांचों बदमाश सभी को गन प्वाइंट पर लेकर पास खड़े रहे, जबकि अन्य बदमाश घर में घुस गए और बेड मेें रखी चार जोड़ी पायल, करधनी, हसली, खड़ुआ, बच्चे की पायल और 11 हजार रुपये लूट लिए। बदमाशों ने अपने को पड़ोस में ही होना बताते हुए शोर न मचाने की धमकी दे कर चले गए। सभी बदमाश कच्छा-बनियान पहने थे। इसके बाद बदमाशों ने कुछ दूरी पर गांव के सालिकराम के घर डकैती डालने का प्रयास किया और दरवाजा खटखटाया। आशंका होने पर घर वालों ने शोर मचा दिया। इस पर बदमाश भाग निकले। बदमाशों के जाने के बाद रामकुमार ने घटना की सूचना रात को 2.20 बजे मोबाइल पर पुलिस को दी। करीब साढ़े तीन बजे पुलिस पहुंची। डकैती की इस घटना को पुलिस ने चोरी में दर्ज किया है। एसओ केपी सिंह यादव ने बताया कि चोरी हुई है। अज्ञात चोरों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है।

कुत्ते ने फाड़ दी डकैत की कैपरी
डकैतों के घर में होने पर रामकुमार का कुत्ता भौंकने लगा। तब डकैतों ने कुत्ते का रोकने की बात रामकुमार से की। जब तक रामकुमार अपने कुत्ते को रोकता। इससे पहले कुत्ते ने एक डकैत की कैपरी को मुंह से खींच कर फाड़ दिया।

वारदात: पांच
खूनी संघर्ष में एक की मौत, चार घायल
जहॉनाबाद। गांव अकबरगंज में दीवार को लेकर चले आ रहे विवाद में दो पक्षों में खूनी संघर्ष हो गया। एक पक्ष ने दूसरे पक्ष के नन्नेबक्श, उसके पुत्रों इकबाल, आरिफ, पुत्र वधू तसरीन और पत्नी रसीदन की लाठी डंडाें से पिटाई कर दी और धारदार हथियार से प्रहार कर घायल कर दिया। सभी घायलों को जिला अस्पताल लाया गया, जहां नन्हेबक्श की मौत हो गई। पुलिस ने दोनों पक्षों की तहरीर पर एक दूसरे के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की है।
अकबरगंज निवासी घायल इकबाल ने बताया कि एक माह पूर्व दीवार को लेकर पड़ोसी शफी अहमद आदि से मारपीट हो गई थी, जिसकी एनसीआर दर्ज कराई गई थी। बाद में दोनों पक्षों में समझौता हो गया था, लेकिन आरिफ आदि उससे रंजिश मानने लगे। सोमवार को उनके पिता नन्नेबक्श चूड़ी बेचने के लिए थैला लेकर घर से बाहर निकले। तभी शफी अहमद अपने पुत्रों आरिफ, शाहिद और पुत्री जीनत के साथ उन्हें घेर लिया और लाठी डंडों और धारदार हथियार से हमला बोल दिया। पिता की चीखपुकार पर जब वह और उसका भाई आरिफ मौके पर पहुंचा तो हमलावरों ने दोनों को घायल कर दिया। बचाने आई पत्नी तसरीन और मां रसीदन की भी बेरहमी से पिटाई कर दी। आसपास के लोगों के विरोध करने पर हमलावर भाग निकले। पुलिस ने नन्हेबक्श की ओर से आरोपियों के खिलाफ एनसीआर दर्ज कर सभी घायलों को जिला अस्पताल भिजवाया, जहां नन्हेबक्श की मौत हो गई। एसओ ताहिर हुसैन ने बताया कि दूसरे पक्ष के आरिफ की ओर से मृतक नन्हेबक्श, इकबाल, आरिफ और गुड्डा के खिलाफ एनसीआर दर्ज हुई है। नन्हेबक्श की ओर से दर्ज मामले को हत्या की धाराओं में तरमीम किया जाएगा।

परिवार वालों से बिना मिले लौट गईं सीओ
नन्हेबक्श की मौत की सूचना पर सीओ जहॉनाबाद इंदु सिद्धार्थ जिला अस्पताल पहुंची। कुछ देर इमरजेंसी के बाहर खड़ी रहने के बाद वह वापस लौट गईं। सीओ के मृतक के घर वालों से न मिलने और मामले की जानकारी लिए बगैर वापस लौटने से घर वालों में रोष है।

पिता की मौत की जानकारी पर फफक पड़ी गुड़िया
पिता नन्हेबक्श और दोनों भाइयों के मारपीट में घायल होने की सूचना पर उनकी पुत्री गुड़िया भी जिला अस्पताल पहुंची। शायद उसे यह पता नहीं था कि उसके पिता अब इस दुनियां में नहीं रहे। वह पत्रकारों और लोगों के पूछने पर घटना बता रही थी। इलेक्ट्रानिक चैनल के पत्रकारों ने जब उससे पिता नन्हेबक्श की मौत के बारे में पूछा तो वह भौचक्क हो गई। कुछ देर बाद जब उसे पिता के मरने की जानकारी मिली तो वह दहाड़े मारकर विलखने लगी।
0000
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X